Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

NASA ने चंद्रयान-2 के सॉफ्ट लैंडिंग स्थल की तस्वीरें खींची

webdunia
शुक्रवार, 20 सितम्बर 2019 (00:03 IST)
ह्यूस्टन। चंद्रयान-2 के विक्रम लैंडर से फिर संपर्क स्थापित करने का समय नजदीक आने के साथ, नासा के मून ऑर्बिटर ने चांद के उस हिस्से की तस्वीरें खींची हैं, जहां भारत ने अभियान के तहत सॉफ्ट लैंडिंग कराने का प्रयास किया था। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के एक वरिष्ठ वैज्ञानिक ने बृहस्पतिवार को इसकी पुष्टि की है। ALSO READ: मिशन चंद्रयान-2 विफल नहीं हुआ, 95 फीसदी काम अब भी होगा 
नासा के लूनर रिकॉनिसंस ऑर्बिटर (एलआरओ) अंतरिक्षयान ने 17 सितंबर को चंद्रमा के अनछुए दक्षिणी ध्रुव के पास से गुजरने के दौरान वहां की कई तस्वीरें ली, जहां विक्रम ने उतरने का प्रयास किया था। 
 
एलआरओ मिशन के डिप्टी प्रोजेक्ट साइंटिस्ट जॉन कैलर ने एक बयान में कहा कि इसने विक्रम के उतरने वाले स्थान के ऊपर से उड़ान भरी। लैंडर से 21 सितंबर को संपर्क साधने का फिर प्रयास किया जाएगा। 
ALSO READ: ऑर्बिटर ने ली लैंडर विक्रम की तस्वीर, चंद्रयान-2 से संपर्क पर ISRO के अधिकारी का बड़ा बयान 
सीनेट डॉट कॉम ने एक बयान में कैली के हवाले से कहा, 'एलआरओसी टीम इन नई तस्वीरों का विश्लेषण करेगी और पूर्व की तस्वीरों से उनकी तुलना कर यह देखेगी कि क्या लैंडर नजर आ रहा है (यह छाया में या तस्वीर में कैद इलाके के बाहर हो सकता है)।' 
 
रिपोर्ट में कहा गया है कि नासा इन छवियों का विश्लेषण, प्रमाणीकरण और समीक्षा कर रहा है। उस वक्त चंद्रमा पर शाम का समय था जब ऑर्बिटर वहां से गुजरा था जिसका मतलब है कि इलाके का ज्यादातर हिस्सा बिंब में कैद हुआ होगा। 
ALSO READ: नासा ने भी माना इसरो का लोहा, चंद्रमा के साउथ पोल पर मिशन चंद्रयान-2 को सराहा 
भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के चंद्रयान-2 के विक्रम मॉड्यूल का 7 सितंबर को चंद्रमा की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग कराने का प्रयास तय योजना के मुताबिक पूरा नहीं हो पाया था। लैंडर का आखिरी क्षण में जमीनी केंद्रों से संपर्क टूट गया था। 
 
नासा के एक प्रवक्ता ने इससे पहले कहा था कि इसरो के विश्लेषण को साबित करने के लिए अंतरिक्ष एजेंसी चंद्रयान-2 विक्रम लैंडर के लक्षित इलाके की पहले और बाद में ली गई तस्वीरों को साझा करेगी।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने ‘हाउडी मोदी’ में कुछ घोषणा करने के संकेत दिए