एक्जाम के दिनों पर कविता : परीक्षा के रूप-रंग

Examination
परीक्षा लेती है परीक्षा,
कभी कठिन कभी सरल।
कदम-कदम पर होती परीक्षा,
कभी ठोस कभी तरल।
 
उधार की पूंजी से,
नहीं चलता है काम।
अपनी ही पूंजी से,
मिलता सुयश और नाम।
 
परीक्षा के होते हैं,
कितने ही रूप-रंग।
कभी लिखित कभी मौखिक,
तो कभी प्रकृति के संग।
 
हर मौसम लेता है परीक्षा,
कभी हवा गरम तो कभी नरम।
बड़ी-बड़ी सुनामी लहरें,
तोड़ देती हैं सारे भरम।
 
परीक्षा ही परीक्षा में,
बीत जाता सारा जीवन।
कभी मिलता विष ही विष,
तो कभी मिल जाता संजीवन। 

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख प्रदोषस्तोत्राष्टकम्‌ : यह है भगवान शिव का प्रिय स्तोत्र, आपको भी अवश्य पढ़ना चाहिए