लाल किताब, ग्रहों के रंग और उनकी शक्ति से पहचानें कि आपमें हैं कैसी शक्तियां

अनिरुद्ध जोशी

शुक्रवार, 17 जनवरी 2020 (15:10 IST)
लाल किताब के अनुसार प्रत्येक ग्रह का अपना एक रंग है और उसकी अपनी एक शक्ति एवं गुण है। आपकी कुंडली में या हाथों में जो ग्रह प्रबल होगा तो उस ग्रह के अनुसार आप अपने रंग, शक्ति और गुण को पहचान सकते हैं। हो सकता है कि आपकी कुंडली में दो, तीन या चार ग्रह प्रबल हो या एक भी नहीं हो।
 
 
1. सूर्य- रंग लाल और तम्बाई। तम्बाई अर्थात तांबे जैसा। तांबे की उत्पत्ति उसी के कारण है। उसकी शक्ति आग का भंडार है। मतलब यह कि वह बहुत ही ऊर्जावान और एनर्जेटिक है। गुण आग, गुस्सा, उग्रता, विवेक, विद्या और राजसी बहादुरी।
 
 
2. चंद्र- रंग सफेद और पनियारा अर्थात पानी जैसा। शक्ति मानसिक शक्ति, सुख और शांति का मालिक। गुण शीतल, शांत, माता का प्यारा, पूर्वजों का सेवक, दयालु एवं हमदर्द।
 
 
3.मंगल- रंग लाल और रक्त वर्ण। शक्ति मात या मौत देना। गुण साहस, आत्मविश्वास, क्रूरता, युद्ध और सोच-समझकर बात करने वाला।
 
 
4.बुध- रंग सब्ज हरा और श्याम। शक्ति सुघने और बोलने की शक्ति के साथ ही दिमागी ताकत। गुण मित्रता, वाकपटुता, मिलनसारिता और चापलुसी।
 
 
5. गुरु- रंग पीला और सुनहरा, स्वर्ण। हकीमी, हवा, रूह और सांस लेने तथा दिलाने की शक्ति। गुण मौन एवं शांत और रहस्यमय ज्ञानी।
 
 
6. शुक्र- रंग सफेद और इससे मिलता जुलता। शक्ति प्यार, लगन, शांति और ऐश पसंद। गुण घर गृहस्थी और आशिक मिजाज।
 
 
7. शनि- रंग काला और श्याम। शक्ति जादूमंत्र देखने-दिखाने की शक्ति। गुण रहस्य में रुचि, देखना, भालना, चालाकी, मूर्ख, अक्खड़ और कारिगर।
 
 
8.राहु- रंग नीला। शक्ति कल्पना शक्ति का स्वामी, पूर्वाभास तथा अदृश्य को देखने या महसूस करने की शक्ति। गुण सोचने की ताकत, डर, शत्रुता, चालबाज, मक्कार, नीच और जालिम।
 
 
9. केतु- रंग काला-सफेद दोरंगा अर्थात दोनों रंग एक साथ और कपोत एवं धूम्र वर्ण। शक्ति सुनना, चलना, सतर्कता और मिलना। गुण धर्मज्ञानी, मजदूरी और अफसरी।
 

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख शनिदेव से डरें नहीं, शनिदेव को समझें, यह जानकारी आपकी आंखें खोल देंगी