Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

थोक कीमतों पर आधारित मुद्रास्फीति घटकर 21 महीने के निचले स्तर पर

हमें फॉलो करें webdunia
बुधवार, 14 दिसंबर 2022 (14:25 IST)
नई दिल्ली। विनिर्मित उत्पादों, ईंधन और खाद्य वस्तुओं की कीमतों में नरमी आने से थोक कीमतों पर आधारित मुद्रास्फीति नवंबर में घटकर 21 महीने के निचले स्तर 5.85 प्रतिशत पर आ गई। नवंबर 2021 में डब्ल्यूपीआई 14.87 फीसदी थी। थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) पर आधारित मुद्रास्फीति 19 महीने तक दहाई अंकों में रहने के बाद अक्टूबर में घटकर 8.39 फीसदी हो गई थी।
 
वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय ने बुधवार को कहा कि नवंबर 2022 में मुद्रास्फीति की दर में कमी आने की मुख्य वजह खाद्य पदार्थों, मूल धातुओं, कपड़ा, रसायन एवं रासायनिक उत्पाद, कागज एवं इससे बने उत्पादों के दामों में गिरावट आना है। नवंबर 2022 से पहले मुद्रास्फीति का निचला स्तर फरवरी 2021 में रहा था, जब डब्ल्यूपीआई मुद्रास्फीति 4.83 फीसदी पर थी। नवंबर में खाद्य वस्तुओं की मुद्रास्फीति 1.07 प्रतिशत रही, जो इससे पिछले महीने 8.33 प्रतिशत थी।
 
समीक्षाधीन महीने में सब्जियों के दाम घटकर शून्य से नीचे 20.08 फीसदी पर आ गए, जो अक्टूबर में 17.61 फीसदी पर थे। ईंधन और बिजली में महंगाई दर नवंबर में 17.35 फीसदी रही, विनिर्मित उत्पादों की मुद्रास्फीति 3.59 प्रतिशत पर थी।
 
भारतीय रिजर्व बैंक मौद्रिक नीति बनाने में मुख्य रूप से खुदरा मुद्रास्फीति पर गौर करता है। हाल में जारी आंकड़े बताते हैं कि खुदरा मुद्रास्फीति 11 महीनों में पहली बार नवंबर 2022 में रिजर्व बैंक के छह फीसदी के संतोषजनक स्तर से नीचे रही है।(भाषा)
 
Edited by: Ravindra Gupta

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

राहुल गांधी की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ में शामिल हुए RBI के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन