रिलायंस इंडस्ट्रीज को 9 हजार 516 करोड़ का मुनाफा

बुधवार, 17 अक्टूबर 2018 (20:05 IST)
मुंबई। पेट्रोलियम, दूरसंचार और रिटेल सहित विभिन्न क्षेत्रों में कारोबार करने वाली देश की सबसे बड़ी निजी कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में 9516 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ कमाया है, जो पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि के 8109 करोड़ रुपए के लाभ की तुलना में 17.5 प्रतिशत अधिक है।
 
कंपनी के निदेशक मंडल की बैठक के बाद अध्यक्ष मुकेश अंबानी ने बुधवार को यहां यह घोषणा करते हुए कहा कि 30 सितंबर को समाप्त इस तिमाही में कंपनी का कुल कारोबार 54.5 प्रतिशत उछलकर 156291 करोड़ रुपए पर पहुंच गया है। वित्त वर्ष 2017-18 की दूसरी तिमाही में यह 101169 करोड़ रुपए रहा था। इस दौरान रिलांयस इंडस्ट्रीज का एकल कारोबार 37.1 फीसदी बढ़कर 103086 करोड़ रुपए रहा तथा मुनाफा 7.2 प्रतिशत बढ़कर 8859 करोड़ रुपए रहा।
 
जियो को 681 करोड़ का लाभ : अंबानी ने अपनी दूरसंचार कंपनी रिलायंस जियो के प्रदर्शन का उल्लेख करते हुए कहा कि दूसरी तिमाही में जियो ने 681 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ अर्जित किया है। इस तिमाही में पहली बार कंपनी ने 10 हजार करोड़ राजस्व के स्तर को पार किया। 30 सितंबर को समाप्त तिमाही में कंपनी के ग्राहकों की संख्या बढ़कर 25 करोड़ के पार पहुंच गई।
 
उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था के स्तर पर चुनौतियों के बावजूद उनकी कंपनी ने शानदार प्रदर्शन किया और पेट्रोलियम तथा तेल शोधन कारोबार का ऐसे समय में नकदी प्रवाह बढ़ाने का वाहक रहा है, जब भारतीय मुद्रा और कमोडिटी बाजार में भारी उतार-चढ़ाव हो रहा है। 
 
अंबानी ने कहा कि जियो का प्रति ग्राहक औसत राजस्व भी इस तिमाही में 131.70 रुपए पर पहुंच चुका है। इस तिमाही में उसके ग्राहकों ने 771 करोड़ जीबी डाटा का उपयोग किया है। उन्होंने कहा कि मार्च 2018 में रिलायंस इंडस्ट्रीज पर कुल मिलाकर 218763 करोड़ रुपए का कर्ज था जो सितंबर में बढ़कर 258701 करोड़ रुपए पर पहुंच गया। 
 
डेन और हैथवे में रणनीतिक निवेश : रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने डेन नेटवर्क्स लिमिटेड और हैथवे केबल एंड डाटाकॉम लिमिटेड में रणनीतिक निवेश और साझेदारी की घोषणा की है। हैथवे केबल एंड डाटाकॉम लिमिटेड में 51.3% हिस्सेदारी के लिए, प्रीफ्रेंशियल ईशु के माध्यम से 2,940 करोड़ रुपए का प्राइमरी निवेश किया जाएगा। 
 
सेबी अधिग्रहण विनियमों के तहत आवश्यकतानुसार डेन और हैथवे के साथ-साथ जीटीपीएल हैथवे लिमिटेड और हैथवे भवानी केबलटेल एंड डाटाकॉम लिमिटेड के लिए भी ओपन ऑफर लाएगा। यह रणनीतिक निवेश रिलायंस के उस मिशन का हिस्सा है, जिसका उद्देश्य है हर किसी को, जोड़ने लायक हर वस्तु को और हर स्थान को कनेक्ट करना, साथ ही उच्चतम गुणवत्ता और किफायती मूल्य पर भारत के डिजिटल परिदृश्य को बदलना। 
 
मोबाइल ब्रॉडबैंड स्पेस में भारत को शीर्ष स्थान पर ले जाने के बाद, रिलायंस अब वायरलाइन डिजिटल कनेक्टिविटी में भारत को 135वें स्थान से दुनिया के शीर्ष 3 देशों में शामिल कराने को प्रतिबद्ध है। इसके लिए 1100 शहरों के 5 करोड़ घरों में JioGigaFiber रोलआउट में तेजी लाने के लिए सौदा किया गया।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख विश्व टी-20 के लिए महिला टीम का शिविर 21 अक्टूबर तक सीसीआई में