Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

ग्रीन पार्क में उड़ रही COVID प्रोटोकॉल की धज्जियां, भीड़ इतनी कि कारोबारी चाहते हैं 5 दिन तक चले मैच

webdunia
शुक्रवार, 26 नवंबर 2021 (15:00 IST)
कानपुर: भारत और न्यूजीलैंड के बीच कानपुर के ग्रीनपार्क मैदान पर खेले जा रहे पहले टेस्ट मैच में स्टेडियम के भीतर और बाहर कोविड प्रोटोकाल का जम कर मखौल उड़ाया गया।

मैच देखने के लिये स्टेडियम की क्षमता के 75 फीसदी टिकट बेचने का आदेश जिला प्रशासन ने दिया है। दर्शकों के साथ साथ उत्तर प्रदेश क्रिकेट संघ (यूपीसीए) के पदाधिकारियों और सुरक्षा कर्मियों को कोविड वैक्सीनेशन का प्रमाणपत्र, आरटीपीसीआर टेस्ट रिपोर्ट और मास्क पहन कर आने की हिदायत दी गयी थी मगर मैच शुरू होने से पहले दर्शकों की भीड़ स्टेडियम की ओर बगैर मास्क के जाते दिखायी पड़ी। प्रवेश के समय दर्शक मास्क पहने दिखायी दिये जबकि स्टेडियम में ज्यादातर दर्शकों के चेहरे पर मास्क नहीं था।

वहीं काेविड प्रोटोकाल का पालन कराने वाले यूपीसीए के ज्यादातर अधिकारी,कर्मचारी और पुलिस के जवान भी बगैर मास्क के चहलकदमी करते दिखायी पड़े। इस दौरान सामाजिक दूरी के अनुपालन में किसी ने कोई दिलचस्पी नहीं दिखायी। स्टेडियम के एंट्री प्वाइंट पर थर्मल स्कैन भी अनुशासित तरीके से नहीं किया जा रहा था। आरटीपीसीआर रिपोर्ट देखने अथवा दिखाने में किसी को कोई परवाह नहीं थी।

पार्किंग स्थल से स्टेडियम तक दर्शकों को लाने ले जाने के लिये ग्रीनपार्क प्रशासन ने 50 ई रिक्शा की व्यवस्था की थी जिस पर क्षमता से ज्यादा लोगों ने बगैर मास्क के सवारी की और इसे लेकर किसी सुरक्षाकर्मी ने कोई टोका टाकी नहीं की।
webdunia

उनकी चाहत मैच के अंतिम दिन मिले टीम इंडिया को जीत

भारत में धर्म की शक्ल अख्तियार कर चुके क्रिकेट का नशा इन दिनो औद्योगिक नगरी कानपुर में सर चढ़ कर बोल रहा है और इनके बीच कुछ चेहरे ऐसे भी है जिन्हे टीम इंडिया की जीत से ज्यादा मैच के पांच दिन चलने को लेकर ज्यादा दिलचस्पी है।

भारत और न्यूजीलैंड के बीच पहले टेस्ट मैच में गुरूवार को अपने चहेते खिलाड़ियों की एक झलक पाने के लिये हजारों कदम ग्रीनपार्क स्टेडियम की ओर बढ़ते दिखायी दिये। हर क्रिकेट प्रेमी की दुआ है कि भारत की टीम इस श्रृखंला की शुरूआत जीत से करे। इस बीच मैदान के इर्द गिर्द डेरा जमाये एक तबका ऐसा भी था तो टीम इंडिया की जीत तो चाहता है मगर उसका रूझान मैच के पांच दिनो तक चलने की ओर ज्यादा दिखा।

मैदान के बाहर तड़के से ही कड़कड़ाती ठंड की परवाह किये बगैर पिछले तीन दिनो से डटे ये लोग रांची,पुणे और मुबंई जैसे महानगरों से चंद पैसे कमाने की गरज से आये हैं। टीम इंडिया की टी शर्ट, रिस्ट बैंड,झंडा,सीटी जैसी तमाम चीजों को बेचने आये इन छोटे कारोबारियों का कहना है कि वह भी भारत की जीत के ख्वाइशमंद है मगर मैच के पांचवे दिन। इसकी वजह है कि अगर मैच पूरे पांच दिन चलेगा तो उनके सामान की बिक्री भी अधिक होगी और मुनाफा भी ज्यादा होगा।

स्टेडियम के बाहर सड़क के एक कोने में तिरंगा के साथ खड़े महाराष्ट्र के पुणे जिले के निवासी के एस भारती ने कहा “ आजकल साल में करीब आठ महीने देश में कहीं न कहीं मैच होते रहते हैं। वह और उन जैसे चंद अन्य व्यापारी हर आयोजन स्थल पर टीम से पहले पहुंच जाते है। मेरे पास 50 रूपये से लेकर 300 रूपये तक के झंडे हैं। मैच देखने जा रहे दर्शक इन झंडो को ज्यादा मोलभाव किये बगैर खरीद लेते हैं। इससे उन्हे हर रोज करीब एक हजार रूपये तक की कमाई हो जाती है। ”
webdunia

रांची से आये मनोज भारती ने कहा “ मै पहले अपने गांव में छोटा मोटा व्यापार कर गुजर बसर करता था मगर मैने देखा कि क्रिकेट भारत मेें भगवान की तरह पूजा जाता है और इससे जुडी हर चीज को आसानी से बेचा जा सकता है। इस बारे में दोस्तों से सलाह मशवरा करने के बाद मै टी शर्ट,रिस्ट बैंड जैसी तमाम चीजे मुबंई और दिल्ली में स्थित बड़ी बाजारों से खरीद कर मैच के आयोजन स्थल के बाहर बेच देता हूं। वैसे तो इससे हुयी कमाई से पूरे साल का गुजारा आराम से हो जाता है मगर खाली समय में कुछ मजदूरी वगैरह कर लेता हूं। ”

गुजरात के सूरत से आये विक्रेता मसूद ने कहा “ आईपीएल के बाद क्रिकेट से जुडी सामग्रियों की बिक्री में खासी बढोत्तरी हुयी है और मुनाफे के लिहाज से इस पेशे को अपनाने में कोई बुराई नहीं है। टीम से पहले हर आयोजन स्थल पर पहुंचना, इसके लिये ट्रेन का किराया,होटल में रहने खाने का खर्च हटाकर फिर भी 1000-1500 रूपये बच जाते हैं। एक दिवसीय और टी-20 मैचों में तो बिक्री कम समय में मगर कई गुना ज्यादा होती है और होटल में रूकने वगैरह का खर्च भी काफी कम हो जाता है। कुल मिला कर यह धंधा चोखा है।”(वार्ता)

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

श्रेयस अय्यर के टेस्ट करियर के लिए पिता ने 4 साल से नहीं बदली थी DP, आज डेब्यू पर जड़ा शतक