Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

IPL में किए शानदार प्रदर्शन ने मोहम्मद शमी पर से दबाव को कम किया

webdunia
रविवार, 22 नवंबर 2020 (18:09 IST)
सिडनी। भारतीय तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी (Mohammad Shami) का मानना है कि आईपीएल 2020 (IPL 2020) में शानदार प्रदर्शन ने उन पर से दबाव कम किया है और इससे उन्हें आगामी ऑस्ट्रेलिया सीरीज को लेकर तैयारी करने में काफी मदद मिलेगी। शमी ने किंग्स इलेवन पंजाब के ओर से खेलते हुए इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) में 20 विकेट लिए,  जिसमें मुबंई इंडियन्स के खिलाफ खेले गए डबल सुपर ओवर में 5 रन बचाना शामिल है।
 
शमी ने बीसीसीआई टीवी से कहा, ‘आईपीएल में अच्छे प्रदर्शन से मेरा आत्मविश्वास बढ़ा है। इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि मैं अब बिना किसी दबाव के आगामी सीरीज की तैयारी कर सकता हूं। मेरे ऊपर कोई दबाव नहीं है। मैंने लॉकडाउन के दौरान अपनी गेंदबाजी और फिटनेस पर काफी मेहनत की है। मैं इस समय काफी सहज हूं।'
 
उन्होंने कहा, ‘यह दौरा काफी लंबा चलेगा। इसकी शुरुआत सफेद गेंद वाली क्रिकेट से होगी जिसके बाद गुलाबी और फिर लाल गेंद के साथ टेस्ट मैच खेले जाएंगे। मेरा ध्यान हमेशा लाल गेंद की क्रिकेट पर रहा है और मैं अपनी लेंथ और सीम मूवमेंट पर काम कर रहा हूं। एक बार जब आप सही जगह पर गेंद डालना शुरू कर देते हैं तो आप हर तरह के प्रारूप में अच्छा करने लगते हैं।'
 
भारतीय तेज गेंदबाजों ने 2018 के बाद से टेस्ट क्रिकेट में सबसे अधिक विकेट लिए हैं। भारतीय गेंदबाजों ने इस दौरान 24 मैचों में 21.33 के औसत से 292 विकेट लिए हैं। इस दौरान गेंदबाजों ने 15 बार पारी में 5 विकेट चटकाए हैंँ जो किसी एक देश के लिए सर्वाधिक हैं।
webdunia
पिछले दो वर्षों में विदेशी जमीन पर सर्वाधिक विकेट लेने वाले तेज गेंदबाजों में जसप्रीत बुमराह (68), मोहम्मद शमी (61) और इशांत शर्मा (53) शामिल हैं। इनके बाद पैट कमिंस (51) और मोहम्मद अब्बास (48) हैं ।
 
शमी का मानना है कि गेंदबाजों के पास विविधता है और यह भारतीय गेंदबाजी आक्रमण को और धारदार बनाती है। शमी ने कहा, ‘हमारे तेज गेंदबाज 140 किलोमीटर प्रतिघंटे से अधिक रफ्तार से गेंदबाजी कर सकते हैं और ऑस्ट्रेलियाई पिचों पर इसी तरह की गति की जरूरत है। हमारे रिजर्व खिलाड़ी भी काफी तेज गति से गेंदबाजी करने में सक्षम हैं। हम चुनौतियां स्वीकार करते हैं और हमारे पास अनुभव भी है।'
 
उन्होंने कहा, ‘सबसे महत्वपूर्ण बात है गेंदबाजी पर नियंत्रण। मैंने यह सफेद गेंदों से बहुत अच्छा किया है और अब नेट पर लाल गेंदों से अभ्यास कर रहा हूं। चूंकि दोनों प्रारूप अलग है इसलिए आपको एक ही जगह गेंद नहीं डालनी होती है। लेकिन हां, आपके बेसिक में अधिक बदलाव नहीं होता है। गौरतलब है कि ऑस्ट्रेलिया के मैदान में शमी ने 4.83 की इकॉनमी रेट से 12 एकदिवसीय मैचों में 18 विकेट झटके हैं।'
 
शमी ने कहा, ‘हमारे पास स्पिन गेंदबाजी आक्रमण भी है। हम सभी तेज गेंदबाजी भी कर सकते हैं और हम सबके कौशल अलग हैं। भारत के पास अच्छे बल्लेबाज भी हैं और नेट पर हम उनके खिलाफ गेंदबाजी अभ्यास करते हैं। हम खिलाड़ियों पर ध्यान देने के बजाय अपनी क्षमता पर भरोसा करते हैं। आप विश्वस्तरीय बल्लेबाज हो सकते हैं लेकिन एक अच्छी गेंद आपका विकेट झटक सकती है।' 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

एटीपी वर्ल्ड टूर फाइनल्स की खिताबी टक्कर थिएम और मेदवेदेव के बीच