पांचवां टेस्ट : भारत-इंग्लैंड टेस्ट मैच के हाईलाइट्‍स

शुक्रवार, 7 सितम्बर 2018 (23:05 IST)
ओवल। भारत और इंग्लैंड के बीच खेले जा रहे पांचवें और अंतिम टेस्ट के आखिरी सत्र में भारतीय गेंदबाजों का बोलबाला रहा। पहले दिन का खेल समाप्त होने के समय इंग्लैंड ने 90 ओवरों में 7 विकेट खोकर 198 रन बनाए। भारत की तरफ से ईशांत शर्मा ने 28 रन देकर 3 विकेट लिए जबकि जसप्रीत बुमराह और रवीन्द्र जड़ेजा ने 2-2 विकेट आपस में बांटे। खेल के पहले सत्र में भारत को केवल 1 विकेट मिला था जबकि 6 विकेट अंतिम सत्र में मिले। 
 
 
इंग्लैंड का यूं हुआ पतन : एक समय इंग्लैंड का स्कोर 2 विकेट पर 133 रन था जबकि 177 पर वह 7 विकेट गंवा चुका था। पहले दिन का सार यह है कि इंग्लैंड की तरफ से कुक ने 71, मोईन अली ने 50 और जीनिंग्स ने 23 रन बनाए। मजेदार बात यह रही कि अतिरिक्त रनों की संख्या 28 थी। दिन का खेल खत्म होने के समय बटलर 11 और आदिल रशीद 4 रन बनाकर नाबाद थे।
 
 
ईशांत ने 1 ओवर में 2 विकेट लिए : भारत के तेज गेंदबाज ईशांत शर्मा ने 83वें ओवर की तीसरी गेंद पर पहले मोईन अली (50) का शिकार किया और 5वीं गेंद पर सीरीज के सबसे सफल बल्लेबाज सैम कुरैन को खाता खोलने के पहले पैवेलियन का रास्ता दिखा दिया। इन दोनों ही प्रसंगों पर कैच लपकने वाले थे विकेटकीपर ऋषभ पंत। इस तरह इंग्लैंड 177 रनों पर 7 विकेट गंवाकर रनों के लिए संघर्ष कर रहा है।
रवीन्द्र जड़ेजा ने बेन स्टोक्स का विकेट झटका : रवीन्द्र जड़ेजा ने 5वें टेस्ट में विराट कोहली द्वारा शामिल किए जाने के फैसले को सही साबित करते हुए अपना दूसरा विकेट बेन स्टोक्स का लिया। 11 रन बनाने वाले बेन स्टोक्स पगबाधा आउट करार दिए गए। इंग्लैंड ने 171 रनों (77.5 ओवर) में अपना 5वां विकेट गंवाया।
 
कुक ने दिखाया जौहर, बुमराह पड़े भारी : अपना विदाई टेस्ट मैच खेल रहे एलेस्टेयर कुक ने बल्ले से जौहर दिखलाए और 77 रनों की पारी खेली। कुक को बुमराह ने 64वें ओवर की दूसरी गेंद पर बोल्ड कर दिया। तब इंग्लैंड का स्कोर 133 रन था। इसी ओवर की पांचवीं गेंद पर बुमराह ने इंग्लैंड के कप्तान जो रूट को खाता खोलने के पहले ही पगबाधा आउट कर दिया। इंग्लैंड ने हालांकि रिव्यू लिया, जो बेकार चला गया।
ईशांत ने दिलाई भारत को चौथी कामयाबी : 65वें ओवर में विराट के चेहरे पर पहली बार खुशी तब झलकी, जब ईशांत शर्मा ने जॉनी बेयरेस्टो को विकेटकीपर ऋषभ पंत के दस्तानों में झिलवा डाला। बेयरस्टो को भी खाता खोलने का मौका नहीं मिला। इस तरह 64.4 ओवर में इंग्लैंड 4 विकेट खोकर 134 रन ही बना पाया था।
 
जड़ेजा ने दिलाई पहली सफलता : सुबह इंग्लैंड के कप्तान जो रूट ने लगातार पांचवीं बार टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। कुक और जेनिंग्स ने इंग्लैंड के लिए पारी की शुरुआत की। इंग्लैंड का स्कोर जब 23.1 ओवर में 60 रन पर पहुंचा था, तब पहला विकेट गिरा। जेनिंग्स को रवींद्र जड़ेजा ने स्लिप में लोकेश राहुल के हाथों कैच आउट करवाया।
 
चायकाल तक का हाल : भारत का दुर्भाग्य रहा कि लंच के बाद जसप्रीत बुमराह की गेंद पर एलेस्टेयर कुक और मोईन अली के आसान कैच छूटे। यदि ये कैच लपक लिए गए होते तो इंग्लैंड पर दबाव बढ़ जाता। अपना पदार्पण टेस्ट खेल रहे हनुमा ‍विहारी से कोहली ने एक ओवर डलवाया, जिसमें उन्होंने केवल 1 रन दिया। चायकाल के समय इंग्लैंड का स्कोर 59 ओवर में 1 विकेट खोकर 123 रन था। कुक 66 और मोईन अली 23 रन पर नाबाद थे।
 
 
चाय तक बुमराह ने 14 ओवर डाले जिसमें से 5 मैडन रहे। उन्होंने 31 रन दिए, जबकि शमी ने 16 ओवर में 27 रन, और रवींद्र जड़ेजा ने 15 ओवर में 36 रन की कीमत पर एक विकेट हासिल किया। विकेट बहुत आसान है और यह बल्लेबाजों के लिए पूरी तरह अनुकूल दिखाई दे रहा है।
 
इससे पहले टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने इस मैच में हार्दिक पांड्‍या और अश्विन के स्थान पर हनुमा विहारी और रवींद्र जडेजा को टीम में शामिल किया है। हनुमा विहारी भारत के लिए टेस्ट में पदार्पण करने वाले 292वें खिलाड़ी बन गए।
 
इंग्लैंड के दिग्गज बल्लेबाज एलेस्टेयर कुक का यह आखिरी टेस्ट मैच है जबकि भारत के हनुमा विहारी इस मैच से अपने अंतरराष्‍ट्रीय टेस्ट करियर की शुरुआत कर रहे हैं।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख हैदराबाद ओपन के सेमीफाइनल में समीर का सामना गुरुसाईदत्त से