Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Team India के कप्तान Virat Kohali को खल रही है 6ठे या 7वें नंबर के खिलाड़ी की कमी

webdunia
शनिवार, 4 जनवरी 2020 (18:27 IST)
गुवाहाटी। भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली ने शनिवार को कहा कि शीर्ष क्रम की असफलता पर मध्यक्रम जब तक दबाव की परिस्थितियों में अच्छा प्रदर्शन नहीं करेगा तब तक भारत के लिए आईसीसी प्रतियोगिताओं में जीत हासिल करना मुश्किल होगा। 
 
भारत ने पिछला आईसीसी टूर्नामेंट 2013 में (चैम्पियंस ट्रॉफी) में जीता था। टीम को कई बार प्रबल दावेदार माना जाता है जिसमें टीम या तो कप्तान या फिर उप कप्तान रोहित शर्मा पर निर्भर रहती है। इस साल सभी की निगाह टी20 विश्व कप पर टिकी है और कोहली ने साल में पहली मीडिया बातचीत में साथी खिलाड़ियों से अपनी उम्मीदें बताई। 
 
कोहली ने श्रीलंका के खिलाफ टी20 श्रृंखला के शुरुआती मैच से पहले कहा, ‘हमें ऐसे खिलाड़ी चाहिए जो छठे या सातवें नंबर तक आपको मैच जिताने के लिए तैयार रहें। यह बल्लेबाजी लाइन अप में 2 या 3 खिलाड़ियों पर निर्भर होना नहीं है। आप इस तरह से आईसीसी टूर्नामेंट नहीं जीत सकते।’ 
 
उन्होंने कहा, ‘इसलिए हमारा मुख्य ध्यान खिलाड़ियों को ऐसे हालात की जानकारी देना है और उनसे इस स्थिति में निडर होकर मैच विजेता बनने की उम्मीद करना है।’ 
 
श्रेयस अय्यर ने अपनी वापसी के बाद से अच्छा प्रदर्शन किया है लेकिन दबाव की परिस्थितियों में उनकी परीक्षा नहीं हुई है। ऋषभ पंत की हालांकि निरंतर अच्छा प्रदर्श नहीं करने के लिए आलोचना की जाती रही है। 
 
कोहली ने कहा, ‘ये अगली कुछ श्रृंखलाएं यह देखने के लिए बहुत रोमांचक होंगी कि कौन दबाव भरे हालात में अच्छा प्रदर्शन करता है। और जब शीर्ष क्रम में मैं या रोहित या फिर लोकेश राहुल या शिखर नहीं चलते तो वे कैसा खेल दिखाते हैं।’ 
 
इसी तरह से भुवनेश्वर कुमार, दीपक चाहर और मोहम्मद शमी श्रृंखला में नहीं खेल रहे हैं तो यह श्रृंखला नवदीप सैनी और शार्दुल ठाकुर के लिए ऑस्ट्रेलिया में टी20 विश्व कप में चयन के लिए अपना दावा पेश करने का अच्छा मौका मुहैया कराएंगी। उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि क्योंकि यह टूर्नामेंट ऑस्ट्रेलिया में है, आपको कई विकल्पों और बैक अप तैयार रखने की जरूरत होगी।’

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Marnus Labuschagne के दोहरे शतक से ऑस्ट्रेलिया ने 454 रनों का बड़ा स्कोर खड़ा किया