Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

जब कोहली ने सोते हुए इशांत को किक मारकर दी थी सिलेक्शन की खबर (वीडियो)

webdunia
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp
share
मंगलवार, 23 फ़रवरी 2021 (21:29 IST)
भारतीय टीम में सबसे अनुभवी तेज गेंदबाज इशांत शर्मा टेस्ट क्रिकेट में 100 टेस्ट खेलने भारत के 11वें खिलाड़ी बनने जा रहे हैं।इशांत ने बांग्लादेश के खिलाफ 18 वर्ष की उम्र में राहुल द्रविड़ की कप्तानी में टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण किया था। इसके बाद वह अनिल कुंबले, महेंद्र सिंह धोनी, विराट कोहली और अजिंक्य रहाणे की कप्तानी में खेले।
 
इशांत के १००वें टेस्ट की उपलब्धि के लिए विराट में एक वाक्या याद करते हुए कहा, '' जब वह इशांत भारत के लिए चुने गए थे, तब दोपहर का वक्त था और वह सो रहे थे और मुझे उन्हें बिस्तर से किक मारकर उठाना पड़ा और फिर उन्हें बताया कि तुम्हें भारतीय टीम में चुना गया है। वह मुझ पर विश्वास नहीं कर रहे थे। आज हम कितनी आगे आ गए हैं। उनके 100वें टेस्ट में खेलने से मुझे बहुत खुशी हो रही है।
इशांत के पिछले चार या पांच वर्षों के शीर्ष प्रदर्शन को देखे तो पता चलता है कि उन्होंने अपने करियर के अधिकांश हिस्से को कुछ सामान्य आंकड़ों के साथ बिताया है। इशांत की वापसी तब शुरू हुई जब उन्होंने ससेक्स में जेसन गिलेस्पी के अंदर सीखना शुरू किया कि कैसे अपनी गेंदबाजी की गति के साथ समझौता किए बिना फुल लेंथ पर कैसे गेंदबाजी की जाए। ''
 
भारतीय कप्तान ने कहा, '' मैं उनके साथ काम करने के लिए सबसे अधिक उत्साहित था और सच में एक आक्रमक तेज गेंदबाज के रूप में वह अपने सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन को बाहर लाए हैं। जब मैंने कप्तानी संभाली तो तुरंत कुछ क्लिक किया। वह मेरी मानसिकता को जानते हैं। यही भरोसे का सबसे बड़ा कारण है। मैं उन्हें अंदर बाहर से जानता हूं।

मुझे पता है कि वह सलाह का जवाब देंगे। वह जानते हैं कि मैं उनकी योजनाओं को भी सुनता हूं। मुझे लगता है कि इसने हम दोनों के लिए बहुत अच्छा काम किया है। सिर्फ एक तेज गेंदबाज के रूप में नहीं, बल्कि मेरे लिए एक कप्तान के रूप में उस तरह का अनुभव और वह जिस तरह की निरंतरता के साथ आक्रमणकारी लाइनों और लंबाई के साथ गेंदबाजी करते हैं। ''
 
विराट ने कहा, '' मैं पिछले चार-पांच वर्षों से इशांत को अपनी गेंदबाजी का आनंद उठाते हुए देख बहुत खुश हूं और सच में वह भारतीय तेज-गेंदबाजी समूह के दिग्गज बन गए हैं। मैं इशांत के 100वें मैच के वक्त मैदान पर उपस्थिति होने को लेकर बहुत उत्साहित हूं। ''
 
अब तक 99 टेस्ट में 302 विकेट ले चुके ईशांत सीमित ओवरों की टीम की हिस्सा नहीं है और आईपीएल में भी कुछ सत्र बाहर रहे। इस दौरान एक पारी में उनकी सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी 74 रन देकर 7 विकेट है। उन्होंने 11 बार पारी में 5 विकेट लिए हैं।(वार्ता)

Share this Story:
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

webdunia
क्रिकेटर से टीचर बने सचिन तेंदुलकर, यहां लेंगे क्लासेस