Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

15 साल पहले फ्लिंटॉफ ने भड़काया और युवी ने 1 ओवर में 6 छक्के जड़कर ध्वस्त किए थे कई रिकॉर्ड्स

हमें फॉलो करें webdunia
सोमवार, 19 सितम्बर 2022 (13:23 IST)
19 सितंबर 2007 को टी-20 विश्वकप में भारत ने इंग्लैंड को हराया था। लेकिन सुर्खियां बटोरी थी सिर्फ एक ओवर ने। जब स्टुअर्ट ब्रॉड के ओवर में युवराज सिंह ने 6 छक्के जड़े थे। यह ओवर आज भी क्रिकेट फैंस के जेहन में है।इस सुनहरी याद को बीसीसीआई ने अपने ट्विटर हैंडल से आज 15 साल बाद भी साझा किया है।
भारत के बाएँ हाथ के बल्लेबाज युवराजसिंह ने इंग्लैंड के तेज गेंदबाज क्रिस ब्रॉड के एक ओवर में यहाँ छह छक्के जमाकर ट्वेंटी-20 क्रिकेट में एक नया इतिहास रचा था। युवराज ट्वेंटी-20 में एक ओवर में छह छक्के उड़ाने वाले पहले बल्लेबाज हैं।

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में यह दूसरा अवसर है, जबकि एक ओवर में 6 छक्के पड़े थे। इससे पहले दक्षिण अफ्रीका के हर्शल गिब्स ने वेस्टइंडीज में साल 2007 खेले गए एकदिवसीय विश्व कप में सेंट कीट्स में हॉलैंड के डान वान बंज के एक ओवर में 6 छक्के जमाए थे।

प्रथम श्रेणी क्रिकेट में एक ओवर में 6 छक्के जमाने का पहला कारनामा सर गैरी सोबर्स ने किया था, जबकि भारत के रवि शास्त्री ने बाद में इसे दोहराया था। युवराज ने अपनी इस पारी के दौरान केवल 12 गेंद पर अर्धशतक पूरा करके एक नया विश्व रिकॉर्ड बनाया था।

वे सिर्फ ट्वेंटी-20 ही नहीं, बल्कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे कम गेंद पर अर्धशतक जमाने वाले बल्लेबाज बन गए थे। उन्होंने ट्वेंटी-20 में बांग्लादेश के मोहम्मद अशरफुल (20 गेंद) का रिकार्ड तोड़ा था। एकदिवसीय मैचों में सबसे तेज अर्धशतक का रिकार्ड श्रीलंका के सनथ जयसूर्या के नाम पर था, जिन्होंने 1996 में पाकिस्तान के खिलाफ सिंगापुर में 17 गेंद पर 50 रन पूरे किए थे।

दिम‍ित्री मास्करेनास ने इससे पहले इंग्लैंड में एकदिवसीय श्रृंखला के दौरान युवराज पर लगातार पाँच छक्के जड़े थे, जिसका बदला इस बल्लेबाज ने पूरा कर दिया था। उन्होंने ब्रॉड की पहली गेंद पर मिड ऑन पर ऊँचा छक्का लगाया और फिर बैकवर्ड स्क्वेयर लेग, लांग ऑफ, बैकवर्ड प्वाइंट के ऊपर से मिड विकेट तथा मिड ऑन पर छक्के जमाए थे।

इस तरह से वे ट्वेंटी-20 में एक ओवर में सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज भी बन गए थे। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के रिकी पोंटिंग का रिकॉर्ड तोड़ा था, जिन्होंने 2005 में ऑकलैंड में न्यूजीलैंड के खिलाफ डेरेल टफी के एक ओवर में 30 रन जुटाए थे। ट्वेंटी-20 विश्व कप में इससे पहले एक ओवर में सर्वाधिक 29 रन श्रीलंका के जेहान मुबारक ने बनाए थे।

ब्रॉड ने अपने चार ओवर में 60 रन दिए जो T20 World cup 2007 में चौथा सबसे खराब गेंदबाजी विश्लेषण था। इंग्लैंड के ही जेम्स एंडरसन (वि. ऑस्ट्रेलिया सिडनी 2007) और जयसूर्या (वि. पाकिस्तान जोहान्सबर्ग) दोनों ही चार ओवर में 64 रन दे चुके थे।
फ्लिंटॉफ ने स्लेजिंग कर किया था आ बैल मुझे मार

एंड्रयू फ्लिंटॉफ के साथ हुई नोकझोंक ने युवराजसिंह के गुस्से को भड़का दिया था जिसे इस भारतीय ने ट्वेंटी20 क्रिकेट विश्व कप में  इंग्लैंड के खिलाफ स्टुअर्ट ब्रॉड के एक ओवर में मैदान में चारों ओर छह छक्के जड़कर निकाला था।

युवराज सिंह की विस्फोटक पारी ने उन्हें सर गारफील्ड सोबर्स, रवि शास्त्री और हर्शल गिब्स के साथ रिकॉर्ड बुक में स्थान दिला दिया था। उनकी इस पारी की मदद से भारत ने इंग्लैंड पर 18 रन से जीत दर्ज की थी।

युवराज ने कहा था 'यह एक सुखद अहसास है। मुख्य गेंदबाज के एक ओवर में छह छक्के जड़ना मुझे यह उपलब्धि हासिल करने में मदद करने के लिए भगवान का शुक्रिया।'

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

फैंस को नहीं पसंद आ रही है टीम इंडिया की नई टी-20 जर्सी, टाइमलाइन पर मिले अपशब्द और सुझाव