Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

मेक्सिको के ड्रग कार्टेलों को आतंकी समूह के रूप में चिन्हित करेगा अमेरिका

webdunia
गुरुवार, 28 नवंबर 2019 (09:30 IST)
उत्तरी मेक्सिको में मॉरमॉन समुदाय के 9 महिलाओं और बच्चों की हत्या के बाद ट्रंप ने ड्रग कार्टेलों के खिलाफ युद्ध का आह्वान किया था। अमेरिका मेक्सिको के ड्रग कार्टेलों को आतंकवादी समूह के तौर पर चिन्हित करने की योजना बना रहा है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक साक्षात्कार में इसकी जानकारी दी।
 
नवंबर की शुरुआत में जब उत्तरी मेक्सिको में मॉरमॉन समुदाय के 9 महिलाएं और बच्चे गोलीबारी में मारे गए थे तब ट्रंप ने इन कार्टेलों के खिलाफ युद्ध का आह्वान किया था। मरने वाले अमेरिका और मेक्सिको दोनों के नागरिक थे।
एक कंजर्वेटिव मीडियाकर्मी बिल ओ' राइली ने अपनी निजी वेबसाइट पर छपे साक्षात्कार में ट्रंप से सवाल किया था कि क्या आप मेक्सिको में उन कार्टेलों को आतंकवादी समूहों के रूप में चिन्हित करेंगे और उन पर ड्रोन से हमला शुरू करेंगे?
webdunia
इस पर ट्रंप का जवाब था कि मैं ये नहीं बताना चाहता कि मैं क्या करने जा रहा हूं, लेकिन उन्हें चिन्हित जरूर किया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि मैं इस पर पिछले 90 दिनों से काम कर रहा हूं। चिन्हित करना इतना आसान नहीं है, आपको एक प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है और हम उस प्रक्रिया में काफी आगे बढ़ चुके हैं।
 
मेक्सिको ने तुरंत ट्रंप के बयान पर प्रतिक्रिया दी। विदेश मंत्रालय ने कहा कि उसने अमेरिकी अधिकारियों से संपर्क किया है बयान के मतलब और व्यापकता को समझने को लिए। मंत्रालय ने एक आधिकारिक वक्तव्य में कहा कि मेक्सिको, वॉशिंगटन के विचार जानने के लिए और अपना दृष्टिकोण प्रस्तुत करने के लिए जितनी जल्दी हो सके, एक उच्चस्तरीय बैठक की भी मांग रखेगा।
 
वक्तव्य में यह भी कहा गया कि मेक्सिको उसके इलाके से होकर अमेरिका पहुंचने वाले प्रीकर्सर केमिकल और ड्रग प्रीकर्सर के अतिरिक्त अमेरिका से मेक्सिको में संगठित जुर्म तक पहुंचने वाले हथियारों और पैसों के प्रवाह को कम करने में प्रगति हासिल करने के लिए बातचीत की मांग रखेगा।
 
अमेरिका में खरीदे गए हथियार जो बाद में दक्षिणी सीमा के पार अवैध रूप से भेज दिए जाते हैं, उन्हें लेकर मेक्सिको लंबे समय से शिकायत करता रहा है।
 
मेक्सिको के विदेश मंत्री मार्सेलो एब्रार्ड की ट्विटर पर प्रक्रिया और भी ज्यादा उग्र थी। उन्होंने लिखा कि मेक्सिको कभी भी ऐसी किसी कार्रवाई की इजाजत नहीं देगा जिससे उसकी संप्रभुता का उल्लंघन होता हो। उन्होंने कहा कि मेक्सिको के अधिकारियों ने पहले ही अपने विचार और अंतरराष्ट्रीय संगठित जुर्म से निपटने के हमारे संकल्प को वॉशिंगटन तक पहुंचा दिया है।
 
मारे गए मॉरमॉन समुदाय के लोगों के मामले ने मेक्सिको में हो रही ड्रग कार्टेलों की हिंसा और उसे काबू में लाने के लिए वामपंथी राष्ट्रपति आंद्रेस मानुएल लोपेज के संघर्ष पर नई रोशनी डाली गई है। मरने वालों में 8 महीने के जुड़वां शिशु भी थे। उनकी हत्या तब हुई, जब वो सोनोरा और चिवावा राज्यों के बीच एक सुदूर सड़क पर गाड़ी से जा रहे थे।
 
उत्तरी मेक्सिको का ये इलाका काफी खतरनाक माना जाता है, जहां कई ड्रग कार्टेल अपने अपने आधिपत्य के लिए लड़ते रहते हैं और जहां कानून का कोई डर नहीं है। मेक्सिको के अधिकारियों ने बताया कि ला लिनिआ नाम के एक ड्रग कार्टेल ने इन्हें गलती से किसी प्रतिद्वंद्वी गैंग का सदस्य मानकर मार डाला लेकिन उनके रिश्तेदारों का मानना है कि उन्हें जान-बूझकर मारा गया।
 
अमेरिकी मॉरमॉन 19वीं शताब्दी में मेक्सिको चले गए थे, उस उत्पीड़न से भागने के लिए जो उनके साथ बहुविवाह जैसी उनकी परंपराओं की वजह से हो रहा था। अब वो आधिकारिक चर्च ऑफ जीसस क्राइस्ट ऑफ लेटर डे सेंटस से अलग हो गए हैं जिसने बहुविवाह पर 1891 में ही प्रतिबंध लगा दिया था।
 
सीके/आरपी (एएफपी)

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

महाराष्ट्र: उद्धव ठाकरे की गठबंधन सरकार कितने दिन चल पाएगी?