साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने रावण से की दिग्विजय की तुलना, बोलीं भोपाल के धर्मयुद्ध में सत्य की होगी जीत

भोपाल। लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा भोपाल सीट से हिंदुत्व के चेहरे साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को चुनाव मैदान में उतार सकती है। ऐसे में भाजपा का गढ़ माने जाने वाली भोपाल सीट पर साध्वी प्रज्ञा ठाकुर का सीधा मुकाबला पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस उम्मीदवार दिग्विजय सिंह से होगा। साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने इसे धर्मयुद्ध बताते हुए कांग्रेस उम्मीदवार दिग्विजय सिंह की तुलना रावण से करती कर दी है।

दिग्विजय और साध्वी प्रज्ञा ठाकुर पिछले कई सालों से एक-दूसरे पर निशाने पर रहते आए हैं। भोपाल से चुनाव लड़ने की अटकलों के बीच साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने दिग्विजय पर बड़ा हमला बोलते हुए उनकी तुलना रावण से कर दी। वेबदुनिया से खास बातचीत में साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने कहा कि अगर संगठन उनको अवसर देगा तो वे चुनाव लड़ने के लिए तैयार हैं।

वेबदुनिया के इस सवाल पर कि उनकी तुलना में दिग्विजय सिंह काफी अनुभवी हैं और उनका मुकाबला कैसे करेंगी तो साध्वी प्रज्ञा ठाकुर कहती हैं कि ये धर्म और अधर्म के बीच लड़ाई होगी और इस लड़ाई में धर्म की जीत होगी। साध्वी प्रज्ञा ठाकुर इसे धर्मयुद्ध बताते हुए दिग्विजय सिंह की तुलना रावण से करती हैं। वो कहती हैं कि रावण की दृष्टि से उसके पास सब कुछ था लेकिन रामजी के पास कुछ भी नहीं था, मुझे लगता है कि धर्म युद्ध में यही होता है, धर्म की विजय होती है वो दिखने में कुछ नहीं होता लेकिन आंतरिक तौर पर उसके साथ सत्य और नैतिकता होती है।

प्रज्ञा ठाकुर कहती हैं रावण के पास सब भौतिक चीजें थीं लेकिन उसके पास सत्य और नैतिकता नहीं थी। और अंत में राम की विजय होती है और ऐसा ही कुछ भोपाल में होगा। इसके साथ ही बातचीत में साध्वी प्रज्ञा ठाकुर कहती हैं कि चुनाव में मुख्य एजेंडा हिंदुत्व और राष्ट्रवाद ही होगा।
दिग्विजय पर निशाना साधते हुए वे कहती हैं कि जो अपने देश का नहीं हुआ, उसके खिलाफ जीतने में उनको कोई परेशानी नहीं होगी। साध्वी प्रज्ञा ठाकुर कहती हैं कि दिग्विजय सिंह और कांग्रेस ने देश के लिए काम करने वाले देशभक्त लोगों को आतंकवादी घोषित कर जेल में डाल दिया।

प्रज्ञा ठाकुर कहती हैं दिग्विजय सिंह जैसे लोग आतंकवादियों के खिलाफ की गई कार्रवाई के सबूत मांग कर उनका मनोबल बढ़ाते हैं और सेना के शौर्य पर प्रश्नचिन्ह लगाते हैं। ऐसे व्यक्ति के खिलाफ चुनाव लड़ना सिर्फ चुनावी लड़ाई नहीं धर्मयुद्ध है।

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर दावा करती हैं एक बार हार के बाद दिग्विजय सिंह सोलह साल तक नहीं आ पाए और इस बार जो होगा उसके बाद कभी नहीं आ पाएंगे।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख वोटिंग से 2 दिन पहले कनिमोझी के घर आयकर छापा, मचा बवाल