राहुल गांधी का बड़ा दांव- कांग्रेस की सरकार बनी तो सरकारी नौकरियों में महिलाओं को मिलेगा 33 प्रतिशत आरक्षण

गुरुवार, 14 मार्च 2019 (00:00 IST)
चेन्नई। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को वादा किया कि आगामी लोकसभा चुनाव जीतने के बाद कांग्रेस की अगुवाई वाली यूपीए की सरकार बनती है तो महिलाओं को सरकारी नौकरियों में 33 प्रतिशत आरक्षण दिया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि कांग्रेस की सरकार बनने पर वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) में सुधार किया जाएगा।
 
तमिलनाडु में यूपीए के चुनाव प्रचार अभियान की शुरुआत करते हुए राहुल ने इस बात पर जोर दिया कि कानून चुनिंदा तरीके से अमल में नहीं लाए जाएं और यदि किसी कथित अनियमितता के लिए उनके बहनोई रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ जांच की जा सकती है तो राफेल विमान करार में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भूमिका की भी जांच की जा सकती है।
 
चेन्नई में स्टेला मारिस कॉलेज फॉर विमेन की छात्राओं से मुखातिब होने के दौरान, एक संवाददाता सम्मेलन में और इसके बाद नागरकोविल में एक चुनावी रैली में राहुल ने विभिन्न मुद्दे उठाए। लोकसभा चुनावों के लिए उन्होंने बेरोजगारी और किसानों के संकट को सबसे अहम मुद्दा बताया। कांग्रेस ने तमिलनाडु में द्रमुक के साथ गठबंधन किया है। राज्य में कुल 39 लोकसभा सीटें हैं।
 
नेतृत्व के पदों पर महिलाओं की कम भागीदारी को वजह बताते हुए राहुल ने कहा कि यदि कांग्रेस सत्ता में आई तो राष्ट्रीय स्तर पर सभी सरकारी नौकरियों में महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान करेगी।
 
उन्होंने एक छात्रा के सवाल के जवाब में कहा कि हमने फैसला किया है कि 2019 में हम लोकसभा, विधानसभा में महिला आरक्षण विधेयक पारित करेंगे और हम राष्ट्रीय स्तर पर सभी सरकारी नौकरियों में महिलाओं को 33 फीसदी आरक्षण देंगे। यह तो सिर्फ शुरुआत है। 
 
जींस और टी-शर्ट पहने हुए राहुल ने यह भी कहा कि वे नरेंद्र मोदी से ‘वास्तव’ में प्रेम करते हैं और इसीलिए जब उन्होंने संसद में प्रधानमंत्री को बेहद गुस्से में देखा तो उन्हें गले लगाकर अपने प्रेम को जताने का प्रयास किया था। 
 
छात्राओं से मुखातिब राहुल ने उस वाकए को याद किया जब उन्होंने मोदी को गले लगाया था। उन्होंने कहा कि वह मोदी से घृणा नहीं कर सकते क्योंकि प्रेम देश, हर धर्म और तमिल लोगों की रगों में भरा हुआ है। 
 
जब एक छात्रा ने उनसे यह पूछा कि उन्होंने प्रधानमंत्री को गले क्यों लगाया, तो राहुल ने कहा कि संसद में मोदी जब उनकी पार्टी कांग्रेस, उनके दिवंगत पिता राजीव गांधी और मां सोनिया गांधी पर हमला बोल रहे थे तो उन्होंने देखा कि मोदी काफी गुस्से में थे। उन्होंने कहा कि उन्हें भीतर से मोदी के प्रति स्नेह उभरा और उन्हें लगा कि मोदी इसलिए गुस्से में हैं क्योंकि वे दुनिया की सुंदरता को नहीं देख पा रहे हैं। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि लिहाजा मैंने सोचा कि कम से कम मेरी तरफ से उनके प्रति कुछ स्नेह दिखाया जाना चाहिए। 
 
जब राहुल ने कहा कि मैं प्रधानमंत्री से वाकई प्रेम करता हूं, तो छात्राएं हंसने लगीं। इस पर उन्होंने दोहराया- मैं वास्तव में (प्रेम) करता हूं।
 
राहुल ने छात्राओं से कहा कि वे उन्हें चुनौती दें और 'असहज करके दिखाएं।' साथ ही उन्होंने पूछा कि क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इतनी बड़ी भीड़ के बीच खड़े होकर लोगों के सवालों का जवाब दे सकते हैं।
 
जम्मू-कश्मीर में मोदी की नीतियों का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि इनके कारण जम्मू-कश्मीर जल रहा है। उन्होंने केंद्र पर आतंकवाद को रणनीतिक और व्यवस्थित तरीके से नहीं संभालने का आरोप लगाया। 
 
उन्होंने कहा कि जैसे ही मोदी ने सत्ता संभाली उन्होंने सिर्फ सत्ता पाने के लिए राज्य में पीडीपी के साथ गठबंधन करने की ‘बड़ी गलती’की। उन्होंने कहा कि आज नरेंद्र मोदीजी की नीतियां ही वास्तव में कश्मीर को झुलसा रही हैं। 
 
लोकसभा चुनावों में कांग्रेस की अगुवाई वाली यूपीए की बड़ी जीत का यकीन जाहिर करते हुए राहुल ने जीएसटी के ढांचे में सुधार का वादा किया और कहा कि उनकी सरकार इसे सरल बनाएगी। राहुल ने यह भी कहा कि ‘न्यूनतम आय की गारंटी’ के क्रांतिकारी विचार पर भी अमल किया जाएगा। 
 
उन्होंने यह भी कहा कि आर्थिक वृद्धि देश के माहौल से सीधे तौर पर जुड़ी होती है और नकारात्मक एवं खौफ के माहौल में ऐसा नहीं हो सकता। राहुल ने कहा कि कांग्रेस देश के माहौल को बदलेगी और लोगों को खुश और सशक्त बनाएगी।
 
कांग्रेस अध्यक्ष ने छात्राओं से कहा कि वे उन्हें राहुल कहकर पुकारें। अपने जीजा रॉबर्ट वाड्रा पर पूछे गए सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि कानून सभी पर समान रूप से लागू होना चाहिए और न कि चुनिंदा तरीके से। वाड्रा के खिलाफ विदेश में संपत्ति खरीदने को लेकर धनशोधन से जुड़े मामले और राजस्थान के बीकानेर जिले में जमीन खरीद के मामले में जांच चल रही है। 
 
छात्रों के साथ अनौपचारिक बातचीत में उन्होंने राफेल सौदे का मुद्दा भी उठाया और विमान की कीमतों एवं खरीद प्रक्रिया को लेकर अपने आरोप दोहराए। राहुल ने कहा किमैं यह कहने वाला पहला शख्स होऊंगा... रॉबर्ट वाड्रा की जांच करें लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी जांच करें।
 
एक सवाल के जवाब में राहुल ने आरोप लगाया कि मोदी एक ‘भ्रष्ट’व्यक्ति हैं, उन्होंने बातचीत की अनदेखी की और राफेल सौदे में समानांतर बातचीत की। कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि प्रधानमंत्री में मीडिया का सामना करने का साहस होना चाहिए और पूछा कि मोदी क्यों 'छिप रहे हैं?' 
 
भाजपा और मोदी सरकार राफेल लड़ाकू विमान सौदे में भ्रष्टाचार के कांग्रेस के आरोपों से बार-बार इंकार करती रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा का इरादा देश के सभी संस्थानों पर कब्जा कर लेना और उन्हें संघ के मुख्यालय, नागपुर से संचालित करना है। 
 
राहुल ने एक सवाल के जवाब में कहा कि उन्हें अपनी मां सोनिया गांधी से प्रेम एवं विनम्रता की सीख मिली है।  उन्होंने छात्राओं से पूछा कि क्या आपको नोटबंदी पसंद आई? जब छात्राओं ने ‘नहीं’ में जवाब दिया तो उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि नोटबंदी ने जो नुकसान किया है, वह काफी साफ है। प्रधानमंत्री को आपसे सलाह लेनी चाहिए थी।
 
राहुल ने कहा कि उनके पिता और पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के हत्याकांड के दोषियों के प्रति उनके मन में कोई नफरत नहीं है और उनकी रिहाई पर अदालत को फैसला करना है। 
 
उन्होंने कहा कि 1991 में उनके पिता और पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या के दो पहलू थे। राहुल गांधी ने कहा कि एक तो निजी था, जिससे हम निपटे। दूसरा कानूनी मुद्दा था जो चल रहा है। कानून जो भी तय करे, हम उससे खुश हैं। 
 
उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि हम लोगों को माफ कर रहे हैं, किसी के प्रति हमारे मन में द्वेष भाव नहीं है, किसी के प्रति नफरत की भावना नहीं है और यह (उनकी रिहाई पर) अदालत को तय करना है। (भाषा)

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख विश्व कप 2019 के लिए विराट कोहली ने तय कर ली भारतीय टीम