moon eclipse 2020 : चंद्र ग्रहण में बरतें ये सावधानियां

चंद्र ग्रहण एक खगोलीय घटना है और यह घटना 5 जून को घटेगी। ग्रहण के दौरान विशेष सावधानी बरती जाती है। चंद्र ग्रहण भारतीय समयानुसार रात्रि 11 बजकर 16 मिनट से ग्रहण शुरू हो जाएगा और अगली तारीख 6 जून की रात 2 बजकर 34 मिनट तक रहेगा।

रात 12 बजकर 54 मिनट पर यह अपनी पूर्ण स्थिति में होगा। इस चंद्रग्रहण की कुल अवधि 3 घंटे 18 मिनट की होगी। ज्योतिषीय गणना के अनुसार यह ग्रहण वृश्चिक राशि और ज्येष्ठा नक्षत्र में लगेगा।
 
ग्रहण का सूतक काल
 
ग्रहण में लगने वाला सूतक काल एक अशुभ समयावधि होती है। यह सूतक काल चंद्र ग्रहण के लगने से नौ घंटे पूर्व ही शुरु हो जाता है, जो ग्रहण समाप्ति के साथ ही खत्म होता है। लेकिन उपच्छाया चंद्र ग्रहण में सूतक काल मान्य नहीं होता है।
 
ग्रहण के दौरान बरतें ये सावधानियां
 
शास्त्रों में ग्रहण के दौरान और ग्रहण के खत्म होने तक भगवान की मूर्ति को नहीं छूना चाहिए।
 
ग्रहण में घर के मंदिरों के कपाट बंद कर देना चाहिए। ताकि भगवान पर ग्रहण का असर ना हो सके।
 
शास्त्रों में कहा गया है कि ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को ग्रहण के दौरान ना तो ग्रहण देखना चाहिए और ना ही घर के बाहर निकलना चाहिए। 
 
ग्रहण में स्त्री-पुरुष को शारीरिक संबंध नहीं बनाना चाहिए। ग्रहण के दौरान शारीरिक संबंध बनाने से गर्भधारण में संतान पर बुरा असर पड़ता है।
 
सूतक लगने पर और ग्रहण के दौरान सबसे ज्यादा नकारात्मक शक्तियां हावी रहती हैं। ग्रहण में कभी भी सूनसान या श्मशान में नहीं जाना चाहिए।
 
सूतक लगने पर किसी भी तरह का कोई भी शुभ कार्य करने से बचना चाहिए। ग्रहण में किया गया कोई भी शुभ कार्य सफल नहीं होता।
 
ग्रहण के दौरान बाल और नाखून काटने से बचना चाहिए। इसके अलावा न तो कुछ खाना चाहिए और न ही खाना बनाना चाहिए।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख 5 जून 2020 : आपका जन्मदिन