Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

मध्यप्रदेश में भारी बारिश के बाद उफान पर नर्मदा,कई जिले बाढ़ की चपेट में,सेना से भी संपर्क में सरकार

छिंदवाड़ा,होशंगाबाद,सिवनी,नरसिंहपुर,पचमढ़ी में 24 घंटे में 8- 9 इंच बारिश दर्ज

webdunia
webdunia

विकास सिंह

शनिवार, 29 अगस्त 2020 (11:56 IST)
मध्यप्रदेश में लगातार हो रही भारी बारिश अब लोगों के लिए बड़ी मुसीबत बन गई है। भारी बारिश के चलते प्रदेश के सभी नदियां और डैम पूरी तरह लबालब भर चुके है। भोपाल,होशंगाबाद,नरसिंहपुर सहित आसपास के जिलों में लगातार बारिश के नर्मदा नदी पूरे उफान पर है और कई जिले बाढ़ की चपेट में आ गए है। 

नर्मदा नदी का रौद्र रूप-होशंगाबाद में नर्मदा नदी खतरे के निशान से तीन से चार फीट ऊपर बह रही है। इसके बाद तवा डेम के सभी 13 गेट को 30-30 फीट खोलकर पांच लाख क्यूसिक पानी प्रति सेंकेंड छोड़ा जा रहा है। भारी बारिश के बाद होशंगाबाद में बाढ़ से हालात बिगड़ने के बाद NDRF को बुलाया गया है।   

पिछले 24 घंटे में जबलपुर संभाग के छिंदवाड़ा और नरसिंहपुर में सबसे अधिक बारिश दर्ज की गई है। पिछले 24 घंटों में पचमढ़ी में रिकॉर्ड 9 इंच बारिश होने से कैंटोमेंट झील में पानी ओवरफ्लो हो रहा है जिसके बाद आसपास के निचले इलाके को खाली कराया गया है। 

मौसम विभाग के मुताबिक पिछले 24 घंटे में छिंदवाड़ा में 242 मिमी (9.5 इंच), होशंगाबाद में 208 (8.18 इंच) मिमी,पचमढ़ी में 228 मिमी (9 इंच),सिवनी में 209 मिमी (8 इंच), नरसिंहपुर में 193(7.5 इंच) मिमी, बैतूल में 166, भोपाल में 97 मिमी बारिश दर्ज की गई है। 
-प्रदेश के लगभग सभी बांध का लेवल फुल 
-तवा डैम के 13 में से 13 गेट खोले गए।
-इंदिरा सागर के 22 गेट खोले गए।
-ओकांरेश्वर डैम में 23 में से 21 गेट खोले गए।
-राजघाट डैम 18 में से 14 गेट खोले गए।
-बरगी के 21 में से 17 गेट खोले गए।
-मंडला, पेंच बांध के सभी गेट खोले गए।
 
मुख्यमंत्री शिवराज ने की समीक्षा – प्रदेश में अगले 24 घंटे में रैन फॉल की स्थिति के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बारिश और बाढ़ की स्थिति को लेकर सभी कमिश्नर और आईजी के साथ समीक्षा बैठक की। मुख्यमंत्री ने होशंगाबाद, जबलपुर, इंदौर संभाग के कमिश्नर को स्थिति की समीक्षा करते रहने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने नर्मदा और सहायक नदियों के किनारे बसे इलाकों पर ध्यान देने और एनडीआरफ,एसडीआरएफ की टीम से सतत संपर्क रखने और निचले इलाकों में पानी न भरे इसके लिए लगातार नजर रखने के निर्देश अधिकारियों को दिए।
 
भोपाल में मुख्यमंत्री निवास और वल्लभ भवन में कंट्रोल रूम स्थापित किए गए है जहां से स्थिति पर लगातार नजर रखी जा रही है। इन कंट्रोल रूम से अधिकारी सीधे आवश्यक जानकारी लें और दे सकते है। इसके साथ नागपुर स्थित एयरफोर्स मुख्यालय से भी सतत संपर्क में है। 

भोपाल में फिर बिगड़े हालात – राजधानी भोपाल में लगातार हो रही बारिश के चलते एक बार फिर हालात बिगड़ रहे है। रात से ही रूक रूक कर जारी बारिश सुबह से मूसलाधार बारिश में बदल गई है। लगातार बारिश होने से सड़कें पानी से डूब गई है वहीं कई निचली बस्तियों के साथ शहर की कई पॉश कॉलोनियों में पानी घरों तक पहुंच गया  है। भोपाल के साकेत नगर,सेफिया कॉलेज, बाल विहार, कोलार और होशंगाबाद रोड की कई कॉलोनियां पानी में डूब गई है। भारी बारिश के चलते सड़कें पानी में डूब गई है और लोग अपने घरों में कैद हो गए है। 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

यूपी सरकार के कैबिनेट मंत्री सतीश महाना कोरोना संक्रमित