Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

दिग्विजय पर सिंधिया समर्थक मंत्रियों ने किया 10 करोड़ की मानहानि का दावा

भोपाल की विशेष कोर्ट में लगाए मानहानि के केस

webdunia
webdunia

विकास सिंह

गुरुवार, 22 अक्टूबर 2020 (20:34 IST)
भोपाल। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह के खिलाफ भोपाल की विशेष सत्र न्यायालय (एमपी एमएलए) में सिंधिया समर्थक शिवराज सरकार में कई मंत्रियों ने 10-10 करोड़ की मानहानि के केस दर्ज कराए हैं। कोर्ट इस मामले में सुनवाई 18 नवंबर को करेगी। दरअसल दिग्विजय सिंह ने कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल होने वाले 17 मंत्री-विधायकों को लेकर पिछले दिनों सोशल मीडिया प्लेटफार्म व्हाट्सअप पर एक पोस्ट की थी जिसको लेकर अब मामला कोर्ट तक पहुंच गया है।

दिग्विजय सिंह ने अपनी पोस्ट में मंत्री-विधायकों को बिकाउ बताते हुए उनकी कीमत 35-35 करोड़ रूपए बताई थी। इस पोस्ट के साथ दिग्विजय सिंह ने मंत्री-विधायकों के रेट कार्ड भी जारी किए थे। दिग्विजय सिंह ने पोस्ट में लिखा था कि लोकतंत्र के बही-खाते में जो लोग कांग्रेस से गद्दारी कर रूपए 35-35 करोड़ में बिके और उन्हें जिन लोगों ने वोट दिए उसमें से वोट देने वालों को उनका हिस्सा देना चाहिए। जब तक उन्हें उनका रूपए 35 करोड़ में से हिस्सा न मिले, तब तक वोट नहीं देना चाहिए।
 ALSO READ: चुनावी सभाओं पर हाईकोर्ट की सख्ती के बाद CM शिवराज की दो सभाएं निरस्त,फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती देगी भाजपा
इस पोस्ट के बाद दिग्विजय सिंह को लेकर भाजपा ने सोशल मीडिया पर उन्हें जमकर घेरा। अब भाजपा के मंत्री-विधायकों ने इसे अपनी मानहानि मानते हुए भोपाल के विशेष सत्र न्यायालय में परिवाद प्रस्तुत किया है। परिवाद पेश करने वाले ग्वालियर के वकील विजय कुमार शर्मा और शरद भटनागर ने बताया कि दिग्विजय सिंह ने मंत्री-विधायकों को लेकर सोशल मीडिया पर मिथ्या,आधारहीन एवं भ्रामक टिप्पणी की थी।

इस टिप्पणी से भाजपा के मंत्री-विधायक आहत हैं और उन्होंने भोपाल की विशेष सत्र न्यायालय (एमपीएमएएल) में परिवाद प्रस्तुत कर 10-10 करोड़ की मानहानि का दावा प्रस्तुत किया है। उन्होंने बताया कि दिग्विजय सिंह ने जो पोस्ट सोशल मीडिया पर की थी और जो आरोप उन्होंने भाजपा के मंत्री-विधायकों पर लगाए थे उनका अब तक वे कोई प्रूफ नहीं दे सके हैं। उनकी पोस्ट पूरी तरह से भ्रामक और आधारहीन थी।

दिग्विजय सिंह के खिलाफ मानहानि का दावा करने वालों मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, महेंद्र सिंह सिसौदिया, बिसाहूलाल सिंह, राज्यवर्धन सिंह दत्तीगांव,प्रभुराम चौधरी और पूर्व मंत्री पूर्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत समेत सिंधिया के साथ भाजपा में आए कई नेता शामिल है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

भारतीय अमेरिकी न्यायाधीश को सौंपा Google के खिलाफ मुकदमा