शोभा ओझा बोलीं, कमलनाथ सरकार ने बिजली के लिए डिवाइस लगाने का किया फैसला

बुधवार, 12 जून 2019 (19:55 IST)
भोपाल। मध्यप्रदेश कांग्रेस की मीडिया विभाग की अध्यक्ष शोभा ओझा ने बुधवार को कहा कि भारतीय जनता पार्टी के नेता सत्ता जाने से बेचैन होने के कारण बिजली को लेकर दुष्प्रचार कर रहे हैं और कमलनाथ सरकार ने ऐसी डिवाइस लगाने का फैसला किया है जिससे बिजली आपूर्ति बहुत जल्द बहाल हो जाएगी।
 
शोभा ने बुधवार को यहां चर्चा के दौरान कहा कि प्रदेश मुख्यमंत्री 'प्रगतिनाथ' (कमलनाथ) के नेतृत्व में जैसे-जैसे आगे बढ़ रहा है, वैसे ही भाजपा नेताओं की बेचैनी बढ़ती जा रही है। कमलनाथ सरकार ने 6 माह में वे कर दिखाया, जो आजाद भारत के इतिहास में किसी राज्य ने इतनी तीव्रता से नहीं किया।
 
शोभा ने दावा किया कि मध्यप्रदेश में 10 जून को इसी दिन पिछले वर्ष की तुलना में बिजली खपत में 48 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई और यह 48 प्रतिशत की वृद्धि यह दर्शाती है कि मध्यप्रदेश समृद्धि की ओर बढ़ रहा है।
 
कांग्रेस नेत्री ने आरोप लगाया कि सत्ता जाने से हताश भाजपा प्रदेश में यह भ्रामक प्रचार कर रही है कि कांग्रेस सरकार बिजली की उपलब्धता नहीं होने के कारण कटौती कर रही है, जबकि आंकड़ों से स्पष्ट है कि भाजपा सरकार की तुलना में बहुत अधिक बिजली की उपलब्धता कांग्रेस सरकार में सुनिश्चित की जा रही है।
 
उन्होंने यह भी दावा किया कि भाजपा शासनकाल में विद्युत वितरण कंपनियों द्वारा कांग्रेस शासन की तुलना में अधिक बिजली काटी जाती थी। उन्होंने इस संबंध में एक रिपोर्ट भी पेश की।
 
उन्होंने कहा कि कमलनाथ सरकार ने क्रांतिकारी कदम उठाते हुए यह सैद्धांतिक निर्णय लिया है कि अब 11/0.4 केवी डिस्ट्रीब्यूशन ट्रांसफॉर्मर पर एक ऐसा डिवाइस लगाया जाएगा जिससे उपभोक्ताओं की लाइट जाने पर वह डिवाइस खुद ही इस बात की सूचना देगा कि किस क्षेत्र की सप्लाई बंद है और फिर उस क्षेत्र की सप्लाई को पुन: तुरंत चालू किया जा सकता है।
 
उन्होंने कहा कि अभी इसके पायलट प्रोजेक्ट पर काम प्रारंभ किया जाएगा, बाद में व्यापक रूप से इस योजना को आकार दिया जाएगा। उन्होंने ये भी दावा किया कि बीते 6 माह में अपराध दर में कमी आना प्रदेश की प्रगति एवं समृद्धि की ओर इशारा करता है। (वार्ता)

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख ICC World Cup 2019 : पाकिस्तान और ऑस्ट्रेलिया के बीच मुकाबला, मैच का ताजा हाल