Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

देश विरोधियों को MP में कुचल दिया जाएगा, इंदौर में बोले शिवराज, कानून व्यवस्था पर अफसरों के साथ मंथन

webdunia

विकास सिंह

गुरुवार, 26 अगस्त 2021 (23:26 IST)
भोपाल। पिछले दिनों इंदौर और उज्जैन में कानून व्यवस्था को लेकर जुड़ी 2 बड़ी घटनाओं के बाद अब सरकार एक्शन में नजर आ रही है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने आज इंदौर में इंदौर और उज्जैन संभाग के अफसरों के साथ कानून-व्यवस्था को लेकर बड़ी समीक्षा बैठक की।

बैठक के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने साफ शब्दों में कहा कि देश विरोधी नारे किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे और अगर कोई देश के विरोध में बात करेगा तो उसको कुचल दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर कोई देश के खिलाफ सोचता है या ऐसी सोच रखता है तो उसको किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। वहीं पीएफई और एसडीपाई जैसे संगठनों को लेकर कहा कि उनकी गतिविधियों पर नजर रख रहे हैं,  ऐसे तत्व मध्यप्रदेश में पनपने नहीं दिए जाएंगे।
ALSO READ: सरकार ने बताया, क्‍यों वैक्‍सीन से ज्‍यादा जरूरी है मास्‍क, आने वाले 2 महीने हैं अहम
वहीं इंदौर में पिछले दिनों नकली शराब से हुई मौत पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नाराजगी जताते हुए कहा कि सरकार गैंगस्टर एक्ट जैसा कानून लाने जा रही जिसमें संगठित अपराध वालों को किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि बैठक में कानून व्यवस्था ‌को बनाए रखने के लिए काफी विस्तृत ‌चर्चा हुई और जिसके आधार पर अब एक्शन लिया‌‌ जाएगा।
ALSO READ: MP में राष्ट्रीय शिक्षा नीति लागू, CM शिवराज बोले- देगी कौशल और नागरिकता के संस्कार
उधर मालवा अंचल में लगातार देश विरोधी तत्वों को लेकर गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि मालवा को लेकर रणनीति बनी हुई है। किसी भी तरह की तालिबानी संस्कृति को विकसित नहीं होने दिया जाएगा।

गौरतलब है कि पिछले दिनों उज्जैन में देश विरोधी नारों को लेकर कथित वीडियो वायरल होने और इंदौर में चूड़ी बेचने वाले युवक की भीड़ की ओर से पिटाई के तूल पकड़ने के बाद गुरूवार को मुख्यमंत्री और गृहमंत्री ने इंदौर और उज्जैन संभाग के अफसरों के साथ कानून व्यवस्था की समीक्षा की।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

देशभर में 50 फीसदी पात्र आबादी को लगा कोरोना टीका