महात्मा विदुर का परिचय

-आर. हरिशंकर
 
#महाभारत में #विदुर एक मुख्य पात्रों में से एक हैं। वे कुरुवंश के प्रधानमंत्री और पांडवों एवं कौरवों के अंकल भी थे। आओ जानते हैं उनका संक्षिप्त परिचय।
 
 
महत्व : विदुर ऋषि व्यास के पुत्र थे। विदुर पांडवों के सलाहकार थे और उन्होंने दुर्योधन द्वारा रची गई साजिश से कई मौके पर उन्हें मृत्यु से बचाया था। विदुर ने कौरवों के दरबार में द्रौपदी के अपमान का विरोध किया था। #कुरुक्षेत्र युद्ध के दौरान विदुर धर्म और पांडवों के पक्ष में थे।
 
 
भगवान श्रीकृष्ण के अनुसार, विदुर को यम (धर्म) का अवतार माना जाता था। कृष्ण ने विदुर के ज्ञान और लोगों के कल्याण के प्रति उनके समर्पण का सम्मान किया। जब भगवान श्रीकृष्ण पांडवों के शांतिदूत के रूप में हस्तिनापुर आए, तो वे विदुर के घर पर रुके, क्योंकि कृष्ण जानते थे कि विदुर ठीक से उनके महल में उनकी देखभाल करेंगे।
 
कुरुक्षेत्र युद्ध के विरोध में विदुर ने मंत्री पद से अपना इस्तीफा दे दिया था। विदुर अपनी वृद्धावस्था में एक संत के रूप में अपने सौतेले भाई धृतराष्ट्र और अपनी भाभियों गांधारी और कुंती के साथ जंगलों में चले गए थे। अपनी मृत्यु से पहले उन्होंने युधिष्ठिर को अपनी शक्ति देते हुए कहा कि वे दोनों भगवान यम धर्मराज के अवतार थे।
 
 
विदुर नीति को उन लोगों के बीच सबसे अच्छा माना जाता है, जो धर्म के मार्ग पर चल रहे हैं। विदुर सत्य, ज्ञान, साहस, ज्ञान, निष्पक्ष निर्णय और धर्म के व्यक्ति के रूप में जाने जाते हैं। उन्हें महान महाकाव्य महाभारत में पवित्र व्यक्ति माना जाता है।
 
निष्कर्ष : विदुर, जो कि धर्मराज या यम के अवतार थे, ने अपना पूरा जीवन धर्म मार्ग में व्यतीत किया। उन्होंने पांडवों की रक्षा की और उन्हें ठीक से सलाह दी और उन्हें धर्म के मार्ग पर चलने के लिए कहा। वे एक नेक इंसान थे और हर किसी का सम्मान करते थे। आइए हम महान विदुर से प्रार्थना करें, उनका आशीर्वाद लें और हमेशा के लिए सुख और शांति से रहें।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख राम के पुत्र लव और कुश की वंशावली