Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Makar Sankranti 2021 : गुरुवार युक्त मकर संक्रांति कैसी रहेगी सभी के लिए, जानिए

webdunia

अनिरुद्ध जोशी

पृथ्वी साढ़े 23 डिग्री अक्ष पर झुकी हुई सूर्य की परिक्रमा करती है तब वर्ष में 4 स्थितियां ऐसी होती हैं, जब सूर्य की सीधी किरणें 21 मार्च और 23 सितंबर को विषुवत रेखा, 21 जून को कर्क रेखा और 22 दिसंबर को मकर रेखा पर पड़ती है। वास्तव में चन्द्रमा के पथ को 27 नक्षत्रों में बांटा गया है जबकि सूर्य के पथ को 12 राशियों में बांटा गया है। भारतीय ज्योतिष में इन 4 स्थितियों को 12 संक्रांतियों में बांटा गया है जिसमें से 4 संक्रांतियां महत्वपूर्ण होती हैं- मेष, तुला, कर्क और मकर संक्रांति। जानिए किस वार में आने वाली संक्राति के कैसी होती है। दरअसल ये मकर संक्रांति के प्रकार है।
 
 
वार युक्त संक्रांति :
1. ये बारह संक्रान्तियां सात प्रकार की, सात नामों वाली हैं, जो किसी सप्ताह के दिन या किसी विशिष्ट नक्षत्र के सम्मिलन के आधार पर उल्लिखित हैं; वे ये हैं- मन्दा, मन्दाकिनी, ध्वांक्षी, घोरा, महोदरी, राक्षसी एवं मिश्रिता। 
 
2. घोरा रविवार, मेष या कर्क या मकर संक्रान्ति को, ध्वांक्षी सोमवार को, महोदरी मंगल को, मन्दाकिनी बुध को, मन्दा बृहस्पति को, मिश्रिता शुक्र को एवं राक्षसी शनि को होती है।
 
3. इसके अतिरिक्त कोई संक्रान्ति यथा मेष या कर्क आदि क्रम से मन्दा, मन्दाकिनी, ध्वांक्षी, घोरा, महोदरी, राक्षसी, मिश्रित कही जाती है, यदि वह क्रम से ध्रुव, मृदु, क्षिप्र, उग्र, चर, क्रूर या मिश्रित नक्षत्र से युक्त हों।
 
उक्त वार युक्त से पता चलता है कि इस बार की संक्रांति कैसी रहेगी। इस बार संक्रांति गुरुवार को आ रही है अर्थात इसकी प्रकृति मंन्दा होगी। शास्त्रों के अनुसार मन्दा संक्राति को श्रेष्ठ माना जाता है। मतलब यह कि यह संक्रांति वा सौर वर्ष श्रेष्ठ रहने वाला है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

मकर संक्रांति सौरवर्ष का खास दिन, जानिए क्या है इसके पीछे का विज्ञान