मां, तुम रोशन करती हो अंधेरों को : मदर्स डे पर कविता

-रंजना फतेहपुरकर
 
मां,
देखा है हर सुबह तुम्हें
तुलसी के चौरे पर
मस्तक झुकाए हुए,
मां तुम
रोशन करती हो अंधेरों को
चांद का दीपक
जलाए हुए...

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख मदर्स डे पर छोटी सी कविता : ईश्वरी माटी से गढ़ी मां