Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

power of positivity: उम्मीद रखिए, इस अंधियारी रात की भी सुबह होगी

webdunia
webdunia

अवधेश कुमार

निसंदेह जिस पर विपत्ति आती है उसका दर्द वही जानता है। हम सब महसूस कर सकते हैं लेकिन भुगतना तो उन्हीं को पड़ता है। जिनको भुगतना पड़ रहा है उनके सामने आप चाहे नीति और विचार के जितने वाक्य सुना दें तत्काल उनका मानस उसे ग्रहण करने की स्थिति में नहीं होता।

चाहे कितनी बड़ी आपदा हो, विनाश का हाहाकार हो, चारों ओर मौत का भय व्याप्त हो, मनुष्य के नाते हमें भविष्य के लिए आशा की किरण की ही तलाश करनी होती है। अगर हमने उम्मीद खो दी, हमारा हौसला पस्त हो गया, साहस ने ही जवाब दे दिया तो फिर किसी आपदा पर विजय पाना कठिन हो जाएगा।

कोरोना की महाआपदा से घिरे देश में मचा कोहराम कोई भी देख सकता है। जिनके अपने या अपनों की चिताएं जली हैं उनको कहें कि हौसला बनाए रखिए... ये भी दिन गुजर जाएंगे, अच्छे दिन आएंगे तो ये बातें उनके गले आसानी से नहीं उतरेंगी, बल्कि इस समय शूल की तरह चुभती हुई भी लगेगी। मैंने अपने फेसबुक पोस्ट में लोगों से अपना हौसला बनाए रखने, अपनी सुरक्षा करने के साथ दूसरों को भी हौसला देने की अपील की थी। बड़ी संख्या में उत्तर सकारात्मक थे पर कुछ जवाब ऐसे भी थे जिनको हम नजरअंदाज नहीं कर सकते। किसी ने लिखा कि अगर घर के सदस्य की या रिश्तेदार की चिता जल रही हो तो ये बातें किस काम की। उनके अनुसार एक ही दिन में कई चिताएं जला कर लौटे हैं। ये दिन भी गुजर जाएंगे पर एक मित्र ने लिखा कि पता नहीं तब तक हम जीवित होंगे या नहीं।

ये दोनों बातें निराशाजनक लग सकती हैं किंतु कोरोना से जिस प्रकार का घटाटोप कायम हुआ है उसमें सामान्य मनुष्य की यह स्वाभाविक दारुण अभिव्यक्ति है। जिस तरह ऑक्सीजन और औषधियों के लिए देशभर के अस्पतालों में हाहाकार मचा है, ऑक्सीजन के अभाव में लोगों के घुट-घुट कर दम तोड़ने के समाचार आ रहे हैं, अस्पतालों में मरीज को भर्ती कराने के लिए सौ जुग्गतें करनी पड़ रहीं है उसमें हर घर मिनट-मिनट डर और आतंक के साए में जी रहा है। मेरे व्हाट्सएप मैसेज के उत्तर में एक जानी-मानी एंकर ने लिखा कि सर, हम सब कुछ कर रहे हैं फिर भी हर क्षण इस डर में जी रहे हैं कि पता नहीं क्या होगा, बाहर कदम रखने में डर लग रहा है। यह किसी एक व्यक्ति की आवाज नहीं है पूरे देश का अंतर्भाव यही है। मैंने जितने व्हाट्सएप किए उनमें से ज्यादातर के उत्तर कहीं न कहीं अंतर्मन में व्याप्त भय और भविष्य की चिंता से लवरेज थे।

कोई कुछ कहे लेकिन इस समय पूरा भारत ऐसे ही घनघोर निराशा में जी रहा है और चिंता का शिकार है। हम सबने अपने जीवन में कई महामारियों का सामना किया है लेकिन एक-एक व्यक्ति को इतने दहशत में जीते कभी नहीं देखा। कोरोना के बारे में चिकित्सकों एवं वैज्ञानिको के एक बड़े समूह की राय है कि यह इतनी बड़ी बीमारी है नहीं जितनी बड़ी बन या बना दी गई है। किंतु यह अलग से विचार कर विषय है। भारत में डर और निराशा का सामूहिक अंतर्भाव कोरोना की आपदा से बड़ी आपदा है। प्रश्न है ऐसी स्थिति में हमारे सामने रास्ता क्या है? ऐसे मुश्किल वक्त में कोई सरल उत्तर व्यवहारिक रास्ता नहीं हो सकता। लेकिन जीवन क्रम की ऐतिहासिक सच्चाई को भी हम नकार नहीं सकते।

सृष्टि के आरंभ से मनुष्य ने न जाने कितनी आपदाएं, विपत्तियां, विनाशलीलाएं देखीं, उनका सामना किया और उन सबसे निकलते हुए जीवन अपनी गति से आगे बढ़ती रही। यही पूरी सृष्टि का क्रम रहा है। हमारे पौराणिक ग्रंथों में तो संपूर्ण प्रलयों का विवरण है। प्रलय में सब कुछ नष्ट हो जाता है। बावजूद वहां से फिर जीवन की शुरुआत होती ही है। हर प्रलय के बाद नवसृजन यही जीवन का सच है। जो ईश्वर में विश्वास करते हैं यानी आस्तिक हैं वे मानते हैं कि हर घटित के पीछे ईश्वरीय महिमा है। कोई अवैज्ञानि,क अंधविश्वासी सोच कह कर खारिज कर दे, पर ऐसी सोच से यह भावना कायम रहती है कि जब घटनाएं ईश्वर की देन है तो इनका सकारात्मक तरीके से सामना करना, सहना और जीवन में आगे बढ़ने की कोशिश करते रहना है। इस धारणा से यह उम्मीद भी पैदा होती है कि ईश्वर ने बुरे दिन दिए हैं तो वही अच्छे दिन भी लाएगा। इस एक धारणा ने मनुष्य को सृष्टि के आरंभ से अभी तक हर विपरीत परिस्थितियों से जूझने और उससे उबर कर जीवन क्रम को आगे बढ़ाने की शक्ति प्रदान की है।

तो इस तरह की शक्ति हमारे आपके अंदर है और उसी से वर्तमान आपदा का भी सामना करना पड़ेगा। आप ईश्वर पर विश्वास न भी करें तो प्रकृति की गति और उसके नियमों को मानेंगे ही। अगर हर घटना की समान और विपरीत प्रतिक्रिया होती है तो इसमें अच्छी बुरी दोनों प्रकार की घटनाएं शामिल हैं। इस सिद्धांत में ही यह सच अंतर्निहित है कि बुरी घटना की विपरीत प्रतिक्रिया अच्छी ही होगी। तो भौतिकी का यह सिद्धांत भी उम्मीद जगाती है कि निश्चित रूप से निराशा और हताशा के वर्तमान घटाटोप से प्रकृति अपनी प्रतिक्रियाओं द्वारा हमें उबारेगी। षड् दर्शनों के विद्वान आपको इसे ज्यादा बेहतर तरीके से समझा सकेंगे। हमारे यहां बुजुर्ग धर्म और इतिहास से ऐसी कहानियां बचपन से सुनाते थे, विद्यालयों की पाठ पुस्तकों में पढ़ाई जातीं थी जिनमें जीवन पर आईं विपत्तियां और उसमें अविचल रह कर जूझने और विजय पाने की प्रेरणा मिलती थी।

इस दौर में साहित्य, धर्म, दर्शन, इतिहास, समाजशास्त्र आदि विषयों की ओर युवाओं की रुचि घटी है, स्कूली पाठ्यपुस्तकों से भी वैसी कथाएं गायब है और इन सबका परिणाम हमारे सामूहिक मनोविज्ञान पर पड़ा है। लेकिन जो कुछ हम व्यवहार में भुगतते हैं वह भी हमें सीख देता है। हमारे आसपास ही ऐसे परिवार होंगे या स्वयं हम ही वैसे परिवार से आते होंगे जहां किसी बीमारी या घटना में एक साथ बड़ी संख्या में हमारे प्रियजन चल बसे। ऐसी त्रासदीयों के व्यावाहारिक और मानसिक संघात से पीड़ित होते हुए भी हम अपने को संभालते और जीवन की गाड़ी को आगे खींचते हैं। यही जीवन है। जब विनाशकारी तूफान आता है तो फसलें नष्ट हो जाती हैं.. बड़े-बड़े पेड़ भी जड़ों से उखड़ जाते हैं... लगता है पूरी प्रकृति बिखर गई हो लेकिन धरती बंजर नहीं होती। बीज फिर से अंकुरित होते हैं, फसलें फिलहाल आती हैं, वनस्पतियां फिर अठखेलियां करने लगती हैं। मनुष्य अपनी जीजीविषया में फिर फसलें लगाने निकलता है और सफल होता है।

जीवन क्रम इसी तरह आगे बढ़ता है। प्रकृति और जीवन के ये दोनों पहलू सच हैं। इसका कोई एक पहलू पूरा सच नहीं हो सकता। तूफान और विनाश भी प्रकृति चक्र के अंगभूत घटक हैं तो फिर नए सिरे से बीजों का अंकुरण और पौधों का उगना भी। कोरोना अगर इस चक्र में तूफान है तो यकीन मानिए इसके बाद फिर जीवन की हरियाली लहलहाती दिखेगी।

हमारे जीवन को क्षणभंगुर कहा गया है। अगले क्षण हम जीवित रहेंगे इसकी कभी कोई गारंटी नहीं होती। लेकिन हम यह सोचकर अकर्मक नहीं हो जाते कि जब आने वाले किसी क्षण में हमारी मौत होनी है तो ज्यादा उद्यम क्यों करें, हाथ-पांव क्यों मारे। हम हर दिन अपने जीवन को बेहतर बनाने की उम्मीद से अपने कर्मों में रत रहते हैं। कोई ऐसी अंधियारी रात नहीं हो सकती जिसका अंत सुबह से नहीं हो। हर अंधकारपूर्ण रात के बाद सूर्य का प्रकाश निकलना ही है। इसलिए बिल्कुल सच मानिए यह आपदा भी जाएगा और हमारी कोशिशों से ही जाएगा। उसके बाद हम सब फिर अपनी स्वाभाविक भूमिका में पहले की भांति या उससे ज्यादा उत्साह से सक्रिय होंगे। अभी रास्ता यही है कि हम स्वयं और परिजनों को सुरक्षित रखें, दूसरों की सुरक्षा को खतरे में ना डालें तथा अपना हौसला बनाए रखते हुए एक दूसरे की ममद करें व अन्यों को भी हौसला देने की कोशिश करें।

इस आलेख में व्‍यक्‍‍त विचार लेखक के निजी अनुभव और निजी अभिव्‍यक्‍ति है। वेबदुनि‍या का इससे कोई संबंध नहीं है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Covid-19 : हमारे शरीर में ही मौजूद है कोरोना की दवा, जानिए जरूरी बातें