Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

‍दिल्ली हाईकोर्ट की 2 कड़ी टिप्पणियां, इनमें विवशता भी है और गुस्सा भी...

webdunia
शनिवार, 29 मई 2021 (00:09 IST)
नई दिल्ली। दिल्ली उच्च न्यायालय ने ब्लैक फंगस (Black Fungus) की दवा की किल्लत और मरीजों को हो रही दिक्कतों से जुड़ी याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए शुक्रवार को क्षोभ प्रकट किया। अदालत ने कहा कि हम इस नरक में जी रहे हैं। हर कोई इस नरक में जी रहा है। यह एक ऐसी स्थिति है, जहां हम मदद करना चाहते हैं, लेकिन हम असहाय हैं। एक अन्य मामले में हाईकोर्ट ने दिल्ली कर्मचारियों के वेतन और पेंशन के मामले कड़ी टिप्पणी करते हुए कहा- ‘आप भीख मांगें, उधार लें या चोरी करें लेकिन भुगतान करें।’
 
केंद्र ने दवा हासिल करने और इसकी कमी से निपटने के लिए उठाए गए कदमों पर एक रिपोर्ट सौंपी। उच्च न्यायालय ने केंद्र को दवाओं के आयात की मौजूदा स्थिति और खेप के कब तक आने की संभावना है, इस पर आगे विवरण पेश करने का निर्देश दिया।
 
ब्लैक फंगस से संक्रमित दो मरीजों के लिए दवा मुहैया कराने के निर्देश के अनुरोध वाली दो याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए अदालत ने स्थिति पर बेबसी जाहिर की और कहा कि वह किसी खास मरीज के लिए कोई आदेश जारी नहीं कर सकता कि दूसरों के बजाय उसे इलाज में प्राथमिकता दी जाए।
 
वकील राकेश मल्होत्रा ने ब्लैक फंगस के उपचार के लिए दवाओं की किल्लत का मुद्दा उठाते हुए कहा कि इस संक्रमण से ग्रस्त रोगियों की संख्या बढ़ती जा रही है। न्यायमूर्ति विपिन सांघी और न्यायमूर्ति जसमीत सिंह की पीठ ने कहा कि केंद्र सरकार ने एक रिपोर्ट पेश कर आयात की मौजूदा स्थिति से अवगत कराया है। इस पर सोमवार को विचार किया जाएगा।
 
अदालत ने केंद्र से 31 मई को ठोस बयान के साथ आने को कहा है कि इन 2.30 लाख शीशियों का क्या होगा और ये भारत कब पहुंच रही हैं। इसके लिए ऑर्डर दिया गया है या नहीं। अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल चेतन शर्मा ने बताया कि 28 मई को सुबह 9 बजे तक म्यूकोरमायकोसिस (Black Fungus) के 14 हजार 872 उपचाराधीन मरीज हैं और इसमें 423 मरीज दिल्ली में हैं।
 
उन्होंने बताया कि ऑस्ट्रेलिया, रूस, जर्मनी, अर्जेन्टीना, बेल्जियम और चीन से लिपोसोमल एमफोटेरिसिन-बी की 2,30,000 शीशियों को खरीदने को लेकर कदम उठाने के लिए स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने विदेश मंत्रालय से कहा है।
 
केंद्र ने वकील अमित महाजन, कीर्तिमान सिंह और निधि मोहन पराशरन के जरिए दाखिल रिपोर्ट में कहा है कि विदेश मंत्रालय से इसावुकोनाजोल की 50 हजार गोलियां भी खरीदने को कहा गया है। विदेश मंत्रालय इस संबंध में कदम उठा रहा है। केंद्र ने बताया कि देश के भीतर एम्फोटेरिनि-बी लिपोसोमल इंजेक्शन की उत्पादन क्षमता भी बढ़ाई गई है। अप्रैल में उत्पादन क्षमता 62 हजार इंजेक्शन की थी, जो मई में 1 लाख 40 हजार हो गई और जून में इसके 3 लाख 25 हजार 114 होने की संभावना है।
 
आप भीख मांगे, उधार लें... : दिल्ली उच्च न्यायालय ने ही एक अन्य मामले में स्पष्ट किया कि अगर उत्तर दिल्ली नगर निगम उसके सभी श्रेणियों के सेवारत तथा सेवानिवृत्त कर्मचारियों के वेतन तथा पेंशन की बकाया राशि का भुगतान करने के उसके आदेश का पालन नहीं करता तो निगम आयुक्त को 31 मई या उससे पहले अदालत में पेश होना पड़ेगा। अदालत ने कहा- ‘आप भीख मांगें, उधार लें या चोरी करें लेकिन भुगतान करें।’
 
न्यायमूर्ति विपिन सांघी और न्यायमूर्ति जसमीत सिंह की पीठ ने कहा कि अगर अगली तारीख तक 5 अप्रैल के आदेश का पालन नहीं किया जाता तो उत्तर दिल्ली नगर निगम आयुक्त संजय गोयल सुनवाई में उपस्थित रहेंगे। अखिल दिल्ली प्राथमिक शिक्षक संघ द्वारा वकील रंजीत शर्मा के माध्यम से दाखिल याचिका पर सुनवाई करते हुए अदालत ने यह निर्देश दिया।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

वैक्सीन पर बवाल, Sputnik V को लेकर डॉ. रेड्‍डीज ने शुरू की कानूनी कार्रवाई