Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

कश्मीर में 70 दिन बाद कब्र से निकाले गए 3 शव

webdunia

सुरेश एस डुग्गर

शनिवार, 3 अक्टूबर 2020 (18:04 IST)
जम्मू। अंततः कश्मीर में उन 3 मुर्दों की कब्र में नींद को हराम कर उनके शवों को निकालकर उनके परिजनों को अंतिम संस्कार के लिए सौंप ही दिया गया है। वैसे यह कोई पहला अवसर नहीं है कि कश्मीर में कब्रों में आराम से सो रहे मुर्दों की नींद हराम की गई हो।
 
जम्मू कश्मीर के शोपियां जिले में 18 जुलाई को हुए मुठभेड़ में कथित तौर पर मारे गए तीन नागरिकों के शवों को शनिवार को अंतिम संस्कार के लिए परिवारों को सौंप दिया गया। जम्मू संभाग के राजौरी जिले से ताल्लुक रखने वाले तीनों नागरिकों के शव 70 दिनों के बाद उत्तरी कश्मीर के बारामुल्ला जिले के गंतमुल्ला क्षेत्र में एक कब्रिस्तान से निकाले गए।
इम्तियाज अहमद, अबरार अहमद और मुहम्मद इबरार के परिवारों ने दावा किया था कि उनके बेटे शोपियां जिले में मजदूरों के रूप में काम करने आए थे और फर्जी मुठभेड़ में आतंकवादी बताकर मार दिए गए थे।
 
परिवारों ने जब अपने बच्चों से संपर्क खो दिया, तब उन्होंने सोशल मीडिया पर 18 जुलाई को शोपियां जिले के अम्सिपोरा गांव में मुठभेड़ के बाद पोस्ट की गई उनकी तस्वीरों में उनकी पहचान की। तीनों मारे गए युवाओं के डीएनए नमूनों के मिलान के बाद परिजनों के दावे की पुष्टि की गई। इसके बाद पुलिस मारे गए लोगों के आतंकवादी लिंक को साबित करने के लिए कोई सबूत नहीं जुटा सकी।
 
सेना द्वारा आयोजित प्रारंभिक जांच अदालत ने स्वीकार किया कि अम्सिपोरा मुठभेड़ को अंजाम देने वालों ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा आतंकवाद-रोधी अभियानों को अंजाम देने के लिए निर्धारित मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) को नजरअंदाज कर अपनी सीमा को पार कर गए।
 
सुरक्षाबलों के मुखबिर के रूप में काम करने वाले तीन स्थानीय लोगों से भी सेना की अदालत ने पूछताछ की थी। पुलिस ने इन ‘मुखबिरों’ को हिरासत में ले लिया है और मुठभेड़ में उनकी भूमिका की अब जांच की जा रही है।
 
कुछ साल पहले उन चार विदेशी पर्यटक बंधकों की तलाश में कश्मीर के कई कब्रिस्तानों को उखाड़ फैंका गया था, जिनको लेकर गिरफ्तार आतंकियों ने दावा किया था कि उनकी हत्या कर उन्हें दफना दिया गया है तो अब राजौरी के उन तीन युवकों की कब्रों को उखाड़ा गया जिन्हें आतंकी बताकर मार दिया गया था।
 
इससे पहले लापता युवकों की तलाश में कब्रिस्तानों में दफन लाशों को उखाड़ा गया था जो पिछले कई सालों से लापता बताए जाते थे। लापता युवकों की तलाश में कब्रिस्तानों को आखिर क्यों उखाड़ा गया था इसके बारे में अधिकारी बताते थे कि इन युवकों के बारे में कुछ गिरफ्तार आतंकियों ने रहस्योद्‍घाटन किए थे कि उनमें से कुछेक की हत्या विरोधी गुटों ने कर दी थी और उन्हें बाद में जहां स्थान मिला दफना दिया गया था। 
(प्रतीकात्मक चित्र)

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

7 साल की बच्ची की सर्जरी के दौरान मौत, सोशल मीडिया पर निशाना बनाने के बाद डॉक्टर ने की आत्महत्या