जब ‘जयश्री राम’ सुनकर भड़क गए अखिलेश यादव

शनिवार, 15 फ़रवरी 2020 (23:51 IST)
यूपी के कन्‍नौज में एक रैली थी। अखिलेश यादव जनता को संबोधित कर रहे थे। तभी वहां उपस्‍थित लोगों में से किसी ने कुछ ऐसा कहा कि अखिलेश यादव भडक उठे। इतना भड़के कि पुलिस अधिकारियों को ही डपट दिया।आइए जानते हैं क्‍या है मामला।

एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव शनिवार को उत्तर प्रदेश के कन्नौज में एक रैली को संबोधित कर रहे थे। इसी दौरान किसी शख्स ने मंच के पास जाकर 'जय श्रीराम' का नारा लगा दिया। अखिलेश यादव को यह सब इतना नागवार गुजरा कि वह मंच से नीचे खड़े पुलिस अधिकारियों को डांटने लगे।

तमतमाए अखिलेश यादव ने पुलिस अधिकारी को डांटते हुए पूछा कि कितने स्टार लगे हैं तुम्हारे ऊपर। अखिलेश यादव ने पुलिस अधिकारियों से यह भी कहा कि जब तक नारा लगाने वाले का नाम-पता नहीं मिलता वह मंच से जाएंगे ही नहीं।

दरअसल, कन्नौज की एक रैली में गैस की बढ़ी कीमतों के खिलाफ समाजवादी पार्टी ने रैली आयोजित की थी। पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव खुद इस रैली को संबोधित करने पहुंचे थे। अखिलेश यादव मंच पर खड़े हो कर भाषण दे रहे थे। रिपोर्ट के मुताबिक इसी बीच एक शख्स मंच के पास गया और 'जय श्रीराम' का नारा लगा दिया। नारा लगाने के बाद वह शख्स वहां से भाग गया।

अधिकारियों से अखिलेश ने पूछा- कितने स्टार हैं तुम्हारे? अखिलेश यादव को यह सब बहुत ही बुरा लगा। गुस्से में लाल अखिलेश यादव मंच से ही पुलिस अधिकारियों को डांटने लगे। अखिलेश यादव ने पुलिस अधिकारी से कहा, 'मैं पूछना चाहूंगा कि कितने स्टार हैं तुम्हारे ऊपर? यह (नारे लगाने वाला) आ कैसे गया यहां पर?' इस पर नीचे खड़े अधिकारी ने अखिलेश यादव को जवाब दिया कि नारेबाज यहां से जा नहीं सकता है।

पुलिस अधिकारी की बात सुनते ही अखिलेश और जोर से बोलने लगे। उन्होंने कहा, 'ऐसा है, जा नहीं सकता है से काम नहीं चलेगा। आपकी सुरक्षा में ये आया कैसे यहां? क्या कर रहे थे आप? जाइए कप्तान साहब को लेकर आइए। अब हम यहां से तभी जाएंगे, जब आप नारा लगाने वाले का नाम, पता और पिता जी का नाम दे दोगे।'

अखिलेश यादव के इस रवैये पर भाजपा ने भी हमला बोला। भाजपा के नेता और प्रवक्ता शलभ मणि त्रिपाणी ने ट्वीट करके कहा, 'प्रभु राम के नाम से ऐसी नफरत तो मुगलकाल के कट्टरपंथी नवाबों को भी ना थी, हे राम!!'
webdunia-ad

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख कोई खुश नहीं, हर कोई आंदोलन कर रहा है : भागवत