इंदौर की सफाई देखकर मोहित हुए आनंद महिन्द्रा, बोले- सीखें देश के दूसरे शहर

गुरुवार, 20 फ़रवरी 2020 (09:35 IST)
देश के दिग्गज उद्योगपति आनंद महिन्द्रा सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते हैं। वे ट्‍विटर पर इंस्पारिंग और मोटिवे‍शनल ट्‍वीट से हमेशा सुर्खियों में रहते हैं।

हाल ही में आनंद महिन्द्रा ने इंदौर की एक सब्जी मंडी पर रखे डस्टबिन को लेकर कनुप्रिया के ट्वीट को रिट्वीट किया।
 

More evidence of how Indore has transformed even the most common—and usually the most chaotic— aspect of an Indian town... https://t.co/AreWG58YVX

— anand mahindra (@anandmahindra) February 17, 2020
महिन्द्रा ने कनुप्रिया के 2 फोटो के साथ इंदौर की एक सब्जी मंडी के बारे में लिखा। फोटो पर प्रतिक्रिया देते हुए महिन्द्रा ने लिखा है कि इंदौर कैसे बदल रहा है, इसके सबूत देख लीजिए।
 
शेयर की गई तस्वीरें इंदौर के एमआर-9 और स्कीम नंबर 78 की सब्जी मंडी की हैं जिसमें व्यवस्थति रूप से डस्टबीन रखी हुई है और उसके आसपास रंगोली सजाई गई है।
इंदौर की तस्वीर के साथ आनंद महिन्द्रा ने अपनी निजी जिंदगी से जुड़ा भी एक ट्‍वीट किया है जिसमें उन्होंने इंदौर से अपना रिश्ता बताया है।
ALSO READ: यकीन नहीं होगा, ये है इंदौर की सब्जी मंडी, सोशल मीडिया पर तस्वीरें वायरल
उन्होंने लिखा है कि दशकों पहले मैं अपनी पत्नी से यहीं मिला था, जब एक मैं यहां एक छात्र पर फिल्म बना रहा था।

उन्होंने लिखा कि तब यह शहर बदसूरत और गंदा था। शहर का परिवर्तन चमत्कारी है और इसने साबित किया है कि जहां चाह वहां राह रहती है।
 
उन्होंने इंदौर शहर की तुलना दूसरे शहरों से भी की है। महिन्द्रा ने लिखा है कि इंदौर देश के दूसरे शहरों के लिए लिए उदाहरण हो सकता है।

उनके इस ट्‍वीट को करीब 5 हजार लोगों ने रिट्‍वीट किया है। इंदौर के कई यूजर्स ने तो उन्हें इंदौर आने का आमंत्रण तक दे दिया है।
 
इंदौर के विधायक रमेश मेंदोला ने उनके ट्‍वीट पर जवाब दिया है कि अब स्वच्छता इंदौरवासियों का धर्म है। सर, इंदौर का हर शख्स साफ-सफाई के लिए जागरूक और संकल्पित है इसीलिए इंदौर नंबर 1 है। 
  
रौनक भाटिया ने लिखा- अगर आपको मौका मिले तो कृपया एक बार इंदौर पधारें। यहां के लोगों का दिल भी शहर की तरह पावन, निर्मल और स्वच्छ है। आपके आगमन की प्रतीक्षा रहेगी।
webdunia-ad

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख आग की चपेट में थी GST की इमारत, जान की बाजी लगाकर 9वीं मंजिल पर चढ़कर तिरंगे को जलने से बचाया