Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

केजरीवाल ने जताई खुशी, देशभर में हो रही सस्ती बिजली की चर्चा

webdunia
मंगलवार, 11 फ़रवरी 2020 (07:00 IST)
नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को इस बात पर खुशी जाहिर की कि सस्ती बिजली का मुद्दा आज देशभर में चर्चा का विषय बन गया है। केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, मुझे ख़ुशी है कि सस्ती बिजली का मुद्दा देशभर में चर्चा का विषय बन गया है।

केजरीवाल ने कहा,  दिल्ली ने कर दिखाया है कि सस्ती या मुफ्त बिजली मुहैया कराई जा सकती है। दिल्ली ने कर दिखाया कि सस्ती बिजली मुहैया कराकर वोट लिए जा सकते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा, 21वीं सदी के भारत में प्रतिदिन सभी को सस्ती दरों पर बिजली उपलब्ध होनी चाहिए।

केजरीवाल ने दरअसल महाराष्ट्र सरकार द्वारा 100 यूनिट तक मुफ्त बिजली दिए जाने की ख़बरों को लेकर यह टिपण्णी की है। महाराष्ट्र की अघाड़ी सरकार ने हाल ही में अपने ऊर्जा विभाग से 100 यूनिट तक मुफ्त बिजली देने की योजना को लागू करने के विषय में विमर्श करने के लिए कहा है।

ऊर्जा मंत्री नितिन राउत ने शुक्रवार को कहा, ऊर्जा विभाग से मुफ्त बिजली योजना देने के विषय में विमर्श करने के लिए कहा है जो अगले 3 महीने के भीतर रिपोर्ट दाखिल करेगी।

गौरतलब है कि दिल्ली सरकार वर्तमान में 200 यूनिट तक मुफ्त बिजली मुहैया करा रही है और 400 यूनिट तक के लिए सब्सिडी दे रही है। ‘आप’ ने दिल्ली विधानसभा चुनाव के घोषणा पत्र से पहले गारंटी कार्ड जारी करके कहा था कि पार्टी की इस बार भी सरकार बनने के बाद ये योजनाएं जारी रहेंगी।

केजरीवाल की नसीहत, जीत के जश्‍न में कार्यकर्ता न जलाएं पटाखे : दिल्ली विधानसभा चुनाव के परिणाम आने से एक दिन पहले मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं को जीत का जश्न मनाने के दौरान पटाखे न जलाने की नसीहत दी है।

पार्टी पदाधिकारियों ने कहा कि मंगलवार को आने वाले चुनावी नतीजों के बाद जीत का जश्न मनाने की तैयारियां हो रही हैं लेकिन केजरीवाल ने कार्यकर्ताओं से पटाखे न जलाने को कहा है क्योंकि इससे प्रदूषण होता है।

आईटीओ पर स्थित पार्टी मुख्यालय में जीत का जश्न मनाने के लिए मिठाइयां और नमकीन मंगाए गए हैं। एग्जिट पोल के नतीजों में आम आदमी पार्टी को भारी मतों से जीत मिलने की उम्मीद है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

कश्मीर का काला सच, 31 साल, 9000 से ज्यादा शहादत