राहुल गांधी के 'ड्रीम' युवाओं और किसानों को कमलनाथ सरकार की बड़ी सौगात

भोपाल। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के भोपाल दौरे से पहले कमलनाथ सरकार ने युवाओं और किसानों को बड़ी सौगात दी है। लोकसभा चुनाव से ठीक पहले मुख्यमंत्री कमलनाथ ने विधानसभा चुनाव के समय प्रदेश का जनता को दिए गए वचन को पूरा करते हुए बेरोजगार युवाओं को रोजगार और किसानों के बिजली बिल को आधा करने की सौगात दी है।

कमलनाथ सरकार के इस फैसले को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के भोपाल दौरे से भी जोड़ा जा रहा है। लोकसभा चुनाव से ठीक पहले शुक्रवार को जंबूरी मैदान में होने वाले राहुल गांधी के मेगा शो के जरिए कांग्रेस ये संदेश देना चाहती है कि उसने जनता से जो वादे किए हैं उसको हर हाल में पूरा करेगी।

लोकसभा चुनाव से ठीक पहले युवा वोट बैंक को साधने के लिए कमलनाथ सरकार ने युवा स्वाभिमान योजना पर मुहर लगा दी है। इस योजना के तहत 21 से 30 साल के युवाओं को 100 दिन का रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा। योजना के लिए दस फरवरी से पंजीयन शुरू होगा। योजना के तहत उन युवाओं को जिनके परिवार की आय दो लाख से कम है सरकार उनको चार हजार रुपए महीने का स्टॉपेंड भी देगी।

योजना के तहत युवाओं को योग्यता के आधार पर काम सिखाया जाएगा और अच्छा परफॉर्मेंस देने वाले युवाओं को उसी निकाय में संविदा पर काम दिलाने की कोशिश भी की जाएगी। योजना के तहत दस दिन की ट्रेनिंग दी जाएगी बाकी 90 दिन का रोजगार दिया जाएगा। योजना के मुताबिक युवाओं को साल में 100 दिन काम के लिए 134 रुपए प्रतिदिन दिए जाएंगे, जो अधिकतम चार हजार रुपए प्रतिमाह होगा।

अगर बात करें मध्यप्रदेश में पंजीकृत बेरोजगारों की तो सरकारी आंकड़ों के मुताबिक इनकी संख्या 31 लाख है। इसमें 30 वर्ष तक के युवाओं की संख्या 30 फीसदी है।

किसानों को सौगात : वहीं दूसरी ओर कमलनाथ सरकार ने लोकसभा चुनाव से पहले किसानों को दूसरी बड़ी सौगात देते हुए उनके बिजली बिल आधा करने की योजना को अपनी मंजूरी दे दी। सरकार के इस फैसले का लाभ सत्रह लाख से अधिक किसानों को होगा। वहीं सरकार के इस फैसले से करीब 667 करोड़ रुपए का भार आएगा। अब तक किसानों को 1400 रुपए प्रति कार्य पावर के हिसाब से हर साल बिजली बिल का भुगतान करना पड़ता था, जो अब आधा हो जाएगा।

विधानसभा चुनाव के समय कांग्रेस ने अपने वचन पत्र में किसानों के बिजली के बिल को आधा करने का वचन दिया था, जो अब सरकार ने पूरा कर दिया है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख लोकसभा चुनाव लड़ सकते हैं दिग्विजयसिंह, इंदौर से लड़ाने की मांग लेकिन राहुल गांधी तय करेंगे