Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

चीन का दोगलापन, समझौते तोड़ तैनात किए LAC पर सैनिक

webdunia
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp
share

सुरेश एस डुग्गर

सोमवार, 8 फ़रवरी 2021 (17:20 IST)
जम्मू। एलएसी पर चीनी सेना द्वारा बातचीत के साथ साथ सैनिकों व सैन्य साजोसामान की तैनाती को भी बढ़ाने की कवायद भारतीय सेना के लिए परेशानी पैदा करने लगी है। भारतीय सेना ने इसे माना है कि पिछले महीने वार्ता के 9वें दौर को जारी रखने के साथ साथ चीन ने वादाखिलाफी करते हुए लद्दाख सीमा पर पैंगांग झील के आठों फिंगर्स के इलाकों में भारी संख्या में अतिरिक्त सैनिकों व तोपखानों की तैनाती की थी।
 
पिछले महीने 24 तारीख को दोनों पक्षों में 9वें दौर की बातचीत करीब ढाई महीनों के बाद तनातनी के बीच हुई थी। हालांकि इस दौर में भी यथास्थिति बनाए रखने और अतिरिक्त सैनिकों व साजोसामान की तैनाती नहीं किए जाने का वादा तो हुआ पर चीनी सेना ने खुद ही मौखिक समझौतों को तोड़ दिया।
सेनाधिकारियों के बकौल, पैंगांग झील के दक्षिणी किनारों पर स्थित एक से 8 फिंगर्स के चीनी सेना के कब्जे वाले इलाकों में पीएलए ने अतिरिक्त जवानों को तैनात किया है। करीब दो दर्जन 155 मिमी व्यास वाली पीएजेड तोपखानों को भी आगे लाया गया है।
 
सेना सूत्रों का कहना था कि भारतीय सेना पूरे घटनाक्रम पर नजर रखे हुए है और उसने चीनी सेना की वादाखिलाफी के प्रति अपना रोष दर्ज करवाया है। साथ ही भारतीय जवानों को किसी भी दुस्साहस से निपटने को तैयार रहने को कहा है।
मिलने वाले समाचार कहते हैं कि चीनी सेना भयानक सर्दी के कारण अब प्रतिदिन अपने उन जवनों को अग्रिम मोर्चों से रोटेशन के आधार पर भी आगे पीछे कर रही है, जहां तापमान शून्य से 40 डिग्री नीचे है। भारतीय पक्ष द्वारा भी ऐसा ही किया जा रहा है।
 
दोनों सेनाओं की प्रक्रिया में अंतर बस इतना है कि पीएलए द्वारा प्रतिदिन ऐसा किया जा रहा है और भारतीय सेना सप्ताह में एक बार ही ऐसा कर रही है क्योंकि उसने अग्रिम मोर्चों पर अधिकतर सियाचिन में तैनात जवानों को ही तैनात किया है, जिनके पास शून्य से 50 डिग्री नीचे के तापमान में ड्यूटी करने का अनुभव है।

Share this Story:
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

webdunia
47 साल के अरबपति ने शरीर में री-इंजेक्‍ट करवाए स्‍टेम सेल्‍स, दावा है कि वे 180 साल यानि 2153 तक जिंदा रहेंगे!