उत्तर भारत शीतलहर की चपेट में, कोहरे से दिल्ली हवाई अड्डे पर उड़ानें बाधित

मंगलवार, 25 दिसंबर 2018 (23:50 IST)
नई दिल्ली। क्रिसमस पर उत्तर भारत में शीतलहर से कोई राहत नहीं मिली और घने कोहरे से दिल्ली हवाई अड्डे पर विमानों का संचालन आंशिक रूप से बाधित हुआ। मौसम विभाग ने मंगलवार बताया कि दिल्ली में न्यूनतम तापमान पांच डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य से तीन डिग्री नीचे है।
 
एक अधिकारी ने बताया दिल्ली हवाई अड्डे पर दृश्यता कम होने के चलते उड़ानों का संचालन आंशिक रूप से निलंबित हुआ और 80 से अधिक उड़ानें विलंबित हुईं। दिल्ली में आर्द्रता का स्तर 100 प्रतिशत दर्ज किया गया। 
 
हिमाचल प्रदेश में शीतलहर का प्रकोप और बढ़ने से केलांग में तापमान शून्य से नीचे 9.4 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया। मशहूर पर्यटक स्थल मनाली में तापमान शून्य से नीचे 3.2 डिग्री सेल्सियस रहा। 
 
शिमला के मौसम विज्ञान विभाग के निदेशक मनमोहन सिंह ने कहा कि कल्पा, सोलन, भुंतर, सुंदरनगर और सोबघ में भी तापमान शून्य से नीचे रहा। हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में तापमान 1.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।
 
उत्तर कश्मीर के कुपवाड़ा में कल रात न्यूनतम तापमान शून्य से नीचे 5.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। पहलगाम में कल रात न्यूनतम तापमान शून्य से नीचे 7.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। स्की रिसॉर्ट गुलमर्ग में न्यूनतम तापमान शून्य से नीचे 7.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।
 
लेह में कल रात न्यूनतम तापमान शून्य से नीचे 10.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो कि उससे पहले की रात में दर्ज 14.7 से ऊपर है। पास के करगिल में न्यूनतम तापमान शून्य से नीचे 14.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।
 
जम्मू में मंगलवार सुबह जबरदस्त ठंड महसूस की गई क्योंकि न्यूनतम तापमान 4.1 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया, जो इस मौसम में अब तक का सबसे कम तापमान है।
 
उन्होंने बताया कि समूचे जम्मू क्षेत्र में रात के तापमान में गिरावट देखी गई। जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग के पास स्थित बनिहाल और बटोटे तथा डोडा जिले में भद्रवाह का तापमान गिरकर शून्य से नीचे चला गया।
 
प्रवक्ता ने बताया कि कश्मीर का द्वार कहा जाने वाला बनिहाल क्षेत्र में सबसे ठंडा स्थान दर्ज किया गया। यहां न्यूनतम तापमान शून्य से 3.3 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। इसके बाद भद्रवाह में यह शून्य से 2.2 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया जबकि बटोटे में तापमान शून्य से दो डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया।
 
पंजाब और हरियाणा में लोगों को शीतलहर से कोई राहत नहीं मिली। दो सप्ताह से सामान्य से कम चल रहा तापमान मंगलवार को और गिर गया। मौमस विभाग के अनुसार अमृतसर और आदमपुर में न्यूनतम तापमान 0.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।
 
पंजाब के पठानकोट में न्यूनतम तापमान 2.9 डिग्री सेल्सियस, लुधियाना में 2.8 डिग्री सेल्सियस, फरीदकोट में 3.8 डिग्री सेल्सियस, गुरदासपुर में 3.5 डिग्री सेल्सियस, बठिंडा में 4.5 डिग्री सेल्सियस और हलवाड़ा में न्यूनतम तापमान तीन डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ में न्यूनतम तापमान 5.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।
 
हरियाणा में नारनौल 2.5 डिग्री सेल्सियस न्यूनतम तापमान के साथ राज्य का सबसे ठंडा स्थान रहा। हिसार में न्यूनतम तापमान 2.8 डिग्री सेल्सियस रहा। मौसम विभाग के अधिकारी ने कहा कि पंजाब और हरियाणा में अगले कुछ दिन तक शीतलहर जारी रहने की संभावना है।
 
उत्तर प्रदेश का अधिकतर हिस्से शीतलहर की चपेट में है। वहीं कुछ क्षेत्रों में मध्यम कोहरा देखा गया। मुजफ्फरनगर राज्य में सबसे ठंडा स्थान रहा जहां न्यूनतम तापमान 1.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।
 
मौसम विभाग के अनुसार इलाहाबाद, मेरठ, फैजाबाद, लखनऊ और बरेली मंडलों में रात का तापमान सामान्य से काफी नीचे दर्ज किया गया जबकि वाराणसी, आगरा मंडलों में सामान्य से कम दर्ज किया गया।
 
राजस्थान में शीतलहर के बीच कई हिस्सों में घना कोहरा रहा। श्रीगंगानगर, चुरू, पिलानी, सीकर और जयपुर में यातायात प्रभावित हुआ जहां दृश्यता 50 से 90 मीटर जबकि बीकानेर, अलवर, भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़ में 90 से 100 मीटर रहा। अलवर, पिलानी, सीकर, चुरू और श्रीगंगानगर में शीतलहर से सामान्य जनजीवन प्रभावित हुआ। 
 
चुरू में न्यूनतम तापमान एक डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, वहीं पिलानी में 1.4 डिग्री सेल्सियस, माउंट आबू में दो डिग्री सेल्सियस, अलवर में 2.8 डिग्री सेल्सियस, सीकर में 3.5 डिग्री सेल्सियस, श्रीगंगानगर में 4.3 डिग्री सेल्सियस, जैसलमेर में छह डिग्री सेल्सियस, सवाई माधोपुर में 6.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख मैदान के बाहर कमाल के हैं कोहली, पर मैदान पर आक्रामक होने की जरूरत नहीं : टेलर