Cyclone Nisarga Live : गुजरात में बिना किसी बड़े नुकसान के गुजर गया चक्रवात 'निसर्ग'

गुरुवार, 4 जून 2020 (00:31 IST)
अहमदाबाद/मुंबई। रात 9.30 तक मिले ताजे अपडेट के अनुसार महाराष्ट्र के अलीबाग में दस्तक देने के बाद बुधवार दोपहर बाद और शाम को गुजरात के दक्षिणी तटीय इलाकों में चक्रवाती तूफान निसर्ग (Cyclone Nisarga) की वजह से कोई बड़ा नुकसान नहीं हुआ है। वैसे मुंबई से आगे बढ़ते ही तूफान के तेवर नरम पड़ गए थे।

हालांकि गुजरात सरकार ने एहतियाती कदम के तौर पर 8 जिलों में तट के पास रहने वाले 63,700 से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया था और राहत कार्य के लिए NDRF की 18 टीमों और राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल की 6 टीमों को विभिन्न स्थानों पर तैनात किया गया था।
 
गुजरात के राहत आयुक्त हर्षद पटेल ने कहा कि गनीमत रही कि चक्रवात बिना जानमाल के किसी बड़े नुकसान के गुजर गया। उन्होंने कहा, चक्रवात की वजह से किसी अप्रिय घटना या किसी के घायल होने की कोई खबर अब तक नहीं है। दक्षिणी गुजरात में हवा की गति जहां समान्य है वहीं वलसाड और नवसारी में सुबह से क्रमश: 2 मिमी और 7 मिमी बारिश दर्ज की गई। स्थिति नियंत्रण में है।

तूफान से पहले ऐहतियात के तौर पर गुजरात सरकार ने 33,680 लोगों को वलसाड जिले से निकाला, वहीं 14,400 लोगों को नवसारी में, सूरत में 8,727 लोगों को, भावनगर में 3,066 लोगों को, अमरेली में 2,086 लोगों को, भरूच में 12,020 लोगों को, आणंद में 761 लोगों को और गिर-सोमनाथ में 228 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया।
स्थानीय अधिकारियों ने कहा कि समुद्र तट के किनारे रह रहे करीब 4000 लोगों को निकटवर्ती केंद्र शासित क्षेत्र दमन में सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया गया। इसके अलावा सभी तटों पर पुलिस को तैनात किया गया था।
 
इससे पहले मौसम विभाग के अधिकारियों ने आशंका जाहिर की थी कि चक्रवात का तटीय जिलों वलसाड और नवसारी में अधिकतम प्रभाव होगा और इस दौरान हवा की गति 100 से 110 किलोमीटर प्रतिघंटा के करीब होगी। ऐहतियाती कदम के तौर पर मछुआरों को पहले ही समुद्र से वापस बुला लिया गया था।
 
अतिरिक्त मुख्य सचिव,राजस्व, पंकज कुमार ने कहा कि नमक बनाने वाले तथा झींगा फार्म में काम करने वाले कर्मचारियों को भी सुरक्षित स्थानों पर भेजा गया था। अधिकारियों ने कहा कि इसके अलावा 250 एंबुलेंसों और 170 आपातकालीन चिकित्सा दलों को भी दक्षिण गुजरात क्षेत्र में किसी आपात स्थिति से निपटने के लिए तैयार रखा गया था।
 
भारतीय मौसम विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले के अलीबाग में बुधवार अपराह्न दस्तक देने के बाद ‘निसर्ग’ अब पूर्वोत्तर की और बढ़ रहा है और इसके नासिक, धुले और नंदुरबार जिलों में प्रभाव डालने की आशंका है, जहां तेज हवाओं के साथ भारी बारिश हो सकती है।

महाराष्ट्र का हाल... 
इससे पहले महाराष्ट्र में तूफान निसर्ग कमजोर पड़ गया था। हालांकि तूफान राज्य में अपनी तबाही के निशान छोड़ गया। कई जगह पेड़ टूटे पड़े हुए हैं तो कहीं-कहीं कच्चे मकान पूरी तरह धराशायी हो गए। अलीबाग में टकराए इस तूफान का असर राज्य में 2 घंटे से भी ज्यादा रहा।
-पुणे जिले में चक्रवात निसर्ग की दस्तक, 2 लोगों की मौत, 3 घायल 
-खेड़ तहसील के वाहागांव की निवासी मंजाबाई अनंत नावले (65) के घर की दीवार उन पर गिरने से उनकी मौत हो गई।
-दीवार गिरने से नावले के परिवार के 3 अन्य सदस्य भी घायल हो गए। उन्हें चाकन में एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
-हवेली तहसील के मोकरवाड़ी के निवासी प्रकाश मोकर (52) के घर की छत उड़ गई और वह टीन की चादर को पकड़ने के दौरान घायल हो गए। बाद में उनकी मौत हो गई।

-मुंबई में निसर्ग तूफान से जिस तरह के खतरे की आशंका थी वह टल गई है। इस बीच, मुंबई में तेज बारिश का दौर जारी है। 
-दिन में हवा की गति 120 से 140 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही थी। वर्ली-सी लिंक को बंद कर दिया गया।
-हालांकि निसर्ग तूफान से महाराष्ट्र के रायगढ़ में सबसे ज्यादा नुकसान की खबर है। कई जगहों पर पेड़ और बिजली के खंभे उखड़ गए। मकान की टिन की छतें पत्तों की तरह उड़ गईं।
-रायगढ़ की जिला कलेक्टर निधि चौधरी के मुताबिक चक्रवात से रायगढ़ से 87 किलोमीटर दूर श्रीवर्धन का दिवे आगर क्षेत्र प्रभावित हुआ है। अभी तक 13 हजार से ज्यादा लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा चुका है।
-रायगढ़ में तटीय क्षेत्र के पास के 5 किलोमीटर के दायरे में आने वाले 62 गांवों की पहचान की है और वहां अतिरिक्त सावधानी बरत रहे हैं।
 
-मुंबई से 6 0-70 किलोमीटर दूर जा चुका है तूफान। 
-मौसम ठीक हुआ तो शाम 7 बजे मुंबई एयरपोर्ट खुल जाएगा। 
- महाराष्ट्र से गुजरा निसर्ग तूफान। 12.30 से 2.30 तक रहा तूफान। अब गुजरात की तरफ बढ़ रहा है
- रत्नागिरि तट के पास से 10 नाविकों को बचाया गया
-तूफान ने छोड़े तबाही के निशान, टूटे पेड़ों के नीचे दबे वाहन 
-कार्गो प्लेन फिसलने के बाद शाम 7 बजे तक मुंबई एयरपोर्ट बंद किया गया।
-अलीबाग में तूफान का असर, पत्ते सी उड़ गई बहुमंजिला इमारत की छत।  
-मुंबई में कई स्थानों पर पेड़ गिरे। मुंबई के ब्रेबॉर्न स्टेडियम के बाहर पेड़ गिरने से 4-5 गाड़ियां दबी।
-मुंबई में निसर्ग से ज्यादा नुकसान नहीं। तूफान 50 किलोमीटर दक्षिण की तरफ चला गया है।-रत्नागिरी में भारी बारिश, तूफानी हवाओं से कई पेड़ गिरे।-तेज हुई निसर्ग की रफ्‍तार, 110 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही है हवाएं।
-कुछ ही मिनटों में अलीबाग तट पर टकरा सकता है तूफान, बांद्रा वर्ली सी लिंक पर आवाजाही रोकी गई।
-रत्नागिरी में तेज हवा की वजह से बैंक की छत उड़ी।
-डीजी एसएन प्रधान ने बताया कि एनडीआरएफ की करीब 43 टीमें तैनात की गई हैं। इनमें 21 टीमें महाराष्ट्र में जबकि 16 टीमें गुजरात में लगाई गई हैं। करीब 1 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। 
-एनडीआरएफ के डिप्टी कमांडेंट एके पाठक ने बताया कि दमन में करीब 3000 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। 
-महाराष्ट्र और गुजरात में तबाही ला सकता है तूफान, समुद्र में ऊंची लहरें उठ रही है। कई स्थानों पर तेज बारिश। आंधी के कारण कई जगहों पर पेड़ उखड़े।
-चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ के राज्य में पहुंचने से पहले गुजरात के वलसाड और नवसारी जिलों के तटीय इलाकों में रहने वाले करीब 43,000 लोगों को वहां से हटा कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।
-अलीबाग से सिर्फ 60 किमी दूर है निसर्ग। मुंबई से 110 किमी दूर। दोपहर 1 से 4 के बीच मुंबई तट से तूफान के टकराने की आशंका।
-महाराष्‍ट्र के कई इलाकों में तेज बारिश, तूफान के कारण बिजली सप्लाय बंद
-चक्रवाती तूफान ‘निसर्ग’ के बुधवार दोपहर महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले के अलीबाग पहुचंने से पहले पालघर तट के पास समुद्र में मौजूद मछली पकड़ने की सभी नौकाएं वापस लौट आई हैं।
-पालघर से कम से कम मछली पकड़ने की 577 नौकाएं समुद्र में गईं थी और सोमवार शाम तक 564 वापस आई थीं।
-पालघर में तट के पास डहाणु, पालघर, वसई और तलासरी तहसील में कच्चे मकान में रहने वाले 15,000 से अधिक लोगों को बुधवार सुबह तक वहां से निकाल कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया।
-NDRF ने मुंबई में समुद्री इलाकों से 40000 लोगों को सुरक्षित स्थानों से दूर पहुंचाया गया।
-गोवा में बुधवार को सुबह भारी बारिश, निचले इलाके में बाढ़ जैसी स्थिति।
-मुंबई में 20 से 40 मिलीमीटर बारिश हुई जबकि पिछले 12 घंटे में कई स्थानों पर हल्की बारिश हुई है।

 

-रायगढ़ जिले में तेज हवाओं की वजह से बिजली का ट्रांसफार्मर गिरा।
-ट्रांसफार्मर गिरने से 58 साल के शख्स की मौत हो गई।
-ट्रांसफार्मर गिरने की घटना दोपहर करीब डेढ़ बजे रेवदंडा के पास उमते गांव की है।
-मृतक की पहचान दशरथ बाबू वाघमारे के तौर पर हुई है।
-दशरथ भारी बारिश और तेज हवाओं के कारण अपने घर की जा रहा था।
-इस दौरान बिजली का ट्रांसफार्मर उखड़ कर दशरथ पर गिर गया था।


-सायन, वडाला, दादर, माटुंंगा, परेेेल समेत कई इलाकों में बारिश जारी।
-महाराष्‍ट्र, गुजरात और गोवा के लिए रेट अलर्ट जारी।
-निसर्ग चक्रवाती तूफान के चलते मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज इंटरनेट एयरपोर्ट पर 3 जून को सिर्फ 19 फ्लाइट की ही मूवमेंट होगी।-चक्रवाती तूफान के कारण गुजरात में 1,727 गांवों को पहले ही खाली करा लिया गया है
 

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख Corona Live Updates : कोरोना से भारत में 6 हजार से ज्यादा लोगों की मौत