Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ और बिहार में भारी बारिश से आफत, कई जिलों में अलर्ट

हमें फॉलो करें webdunia
सोमवार, 12 सितम्बर 2022 (08:30 IST)
महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ के कई हिस्सों में भारी बारिश ने लोगों के लिए आफत खडी कर दी है। कई जिले लबालब हो चुके हैं। सडकों पर पानी जमा है और कई घर पानी में डूब गए है। बिहार से गुजरने वाली कई नदियों का जलस्तर तेजी से बढ़ गया है। मौसम विभाग में कई जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। खासकर छत्तीसगढ़ के कई जिलों में मौसम विभाग (IMD) ने भारी बारिश की चेतावनी जारी की है।

वहीं औरंगाबाद में नदी में कपड़े धोने गईं 3 महिलाएं अचानक आई बाढ़ में बह गईं। छत्तीसगढ़ के 6 जिले भारी बारिश की वजह से बुरी तरह से प्रभावित हैं और बस्तर जिले में कई घरों में पानी घुस गया है। नेपाल में हुई भारी बारिश की वजह से बिहार के सीतमढ़ी से गुजरने वाली नदियों का जलस्तर बढ़ गया है।

महाराष्ट्र के औरंगाबाद की नदी देवगिरी में कपड़े धोने गईं तीन महिलाओं के बह जाने की खबर है। दरअसल, अचानक नदी का जलस्तर तेजी से बढ गया और तीनों महिलाएं तेज बहाव के कारण बीच नदी में ही फंस गईं। कड़ी मशक्कत के बाद पुलिसकर्मियों और स्थानीय लोगों की मदद से 2 महिलाओं को नदी के ताज बहाव के बीच से सुरक्षित निकाल लिया गया।

जबकि एक महिला रेस्क्यू के दौरान ही नदी के तेज बहाव में बह गई, जिसकी तलाश जारी है। वहीं नदी के तेज बहाव के कारण कई पुलिसवाले भी नदी में बह गए जिन्हे इलाज के लिए फिलहाल अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। इसके अलावा पुणे में भारी बारिश ने शहर की सूरत ही बदल दी है।

बारिश नेपाल में हुई लेकिन बाढ़ जैसे हालात बिहार के सीमढ़ी में बन गए। मरहा और हरदा नदियों के रास्त नेपाल का पानी जब सीतामढ़ी पहुंचा तो कई इलाकों को डुबाने लगा। वहां की सड़कें नदी बन चुकी हैं, जिन सड़कों पर गाड़ियां गुजरती थीं वहां पानी की लहरों ने रफ्तार पकड़ ली है और अब लोगों को घर के डूबने का डर सताने लगा है। लहुरिया इलाके में सड़क पर पानी बहने से लोगों को आने जाने में दिक्कते हो रही हैं। कई बाइक सवार जान जोखिम में डालकर पानी के तेज बहाव को पार करते भी दिखे।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

मवेशियों पर लंपी का कहर, जलवायु परिवर्तन ने बिगाड़े हालात, होम्योपैथी की यह दवा हो रही है कारगर