Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

LOC पर भीषण गोलीबारी, इन चौकियों के लिए चल रही है भारत-पाक में जंग

webdunia

सुरेश एस डुग्गर

रविवार, 22 दिसंबर 2019 (17:29 IST)
जम्मू। पिछले एक अरसे से सीजफायर के जारी रहने के बावजूद एलओसी पर होने वाली भीषण गोलाबारी के पीछे का सबसे बड़ा कारण खोई हुई उन फारवर्ड पोस्टों पर कब्जे की जंग है, जिसमें हर बार पाकिस्‍तानी सेना को मुंह की खानी पड़ रही है। यह जंग सर्जिकल स्ट्राइक और बालाकोट पर हवाई हमलों के बाद से आरंभ हुई है।

सेनाधिकारियों के बकौल, कल पल्लांवाला तथा अखनूर सेक्टर में भी पाक सेना की फारवर्ड पोस्टों पर कब्जा जमाने की कोशिशों को भारतीय सेना ने नाकाम बना दिया था। यह फारवर्ड पोस्टें एलओसी पर पाकिस्तान की ओर ही हैं और भारतीय सेना की सर्जिकल स्ट्राइक के बाद भारतीय सेना ने टैंकभेदी मिसाइलों की मदद से उन्हें उड़ा दिया था।

अब पाक सेना इन चौकियों को पुनः बनाना और कब्जाना चाहती है, पर भारतीय पक्ष ऐसा करने नहीं दे रहा। दरअसल 814 किमी लंबी एलओसी पर पाक सेना की तकरीबन 3 दर्जन जिन फारवर्ड पोस्टों को भारतीय सेना ने तोपखानों और मिसाइलों की मदद से नेस्तनाबूद किया था वे लांचिंग पैडों के तौर पर इस्तेमाल की जा रही थीं जहां से आतंकियों को इस ओर लांच किया जा रहा था।
webdunia

सिर्फ आतंकियों को ही नहीं बल्कि इन चौकियों का इस्तेमाल भारतीय इलाकों में भारतीय सेना के गश्ती दलों तथा भारतीय सेना के कुछ फारवर्ड बंकरों पर कब्जा जमाने के इरादों से बैट हमलों के लिए भी प्रयोग में लाया जा रहा था और जब भारतीय सेना को आक्रामक रुख अपनाने का निर्देश मिला तो पाक सेना तिलमिला उठी है।

नतीजा सामने है। पाक सेना चाहकर भी अभी तक अपनी खोई हुई फारवर्ड पोस्टों तथा बंकरों को वापस नहीं पा सकी है। कारगिल युद्ध के बाद भारतीय सेना ने अपनी उन फारवर्ड चौकियों तथा बंकरों को खाली ही नहीं किया, जो हजारों फुट की ऊंचाई पर थे और जिन पर कब्जे की जंग ही असल में कारगिल युद्ध के रूप में सामने आई थी।

ऐसे में भारतीय सेना के आक्रामक रुख का नतीजा सामने है। बिफरी और तिलमिलाई हुई पाक सेना भयानक सर्दी के बीच सारी एलओसी को गोलाबारी और मिसाइल हमलों से गर्माए हुए है जबकि सच्चाई यह है कि जबरदस्त और आक्रामक जवाबी कार्रवाई के कारण उसे भयानक क्षति के उस दौर से गुजरना पड़ रहा है जो उसे कभी युद्धों में भी नहीं उठानी पड़ी थी।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

WhatsApp जैसे प्लेटफार्म क्यों नहीं कर रहे सरकार को सहयोग