Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

ठाणे और पालघर में भारी बारिश, बाढ़ में डूबे कई गांव, NDRF तैनात

हमें फॉलो करें webdunia
गुरुवार, 22 जुलाई 2021 (12:06 IST)
मुख्य बिंदु :
  • महाराष्ट्र के ठाणे और पालघर जिले में पूरी रात हुई तेज बारिश
  • बाढ़ में डूबे कई गांव, NDRF तैनात
  • उंबरमाली स्टेशन पर रेल की पटरियां तथा प्लेटफॉर्म तक भरा पानी
  • चेरपोली में फंसे कुछ लोगों को नावों की मदद से निकाला गया
ठाणे/पालघर। महाराष्ट्र के ठाणे और पालघर जिले में पूरी रात हुई तेज बारिश गुरुवार सुबह भी जारी रही। भीषण बारिश के कारण कई स्थानों पर पानी भर गया, कुछ स्थानों पर ट्रेन सेवाएं प्रभावित हुईं और कुछ गांव पूरी तरह डूब गए।
 
अधिकारियों ने बताया कि राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF) के दलों को फंसे हुए लोगों को बचाने के लिए तैनात किया गया है। कसारा के पास उंबरमाली स्टेशन पर रेल की पटरियां तथा प्लेटफॉर्म तक पानी भर गया। घाट खंड में पत्थर गिरने की घटनाएं भी हुईं। ट्रेन सेवाएं फिलहाल निलंबत हैं और पत्थरों को हटाने का काम जारी है।
 
तहसीलदार (राजस्व अधिकारी) नीलिमा सूर्यवंशी ने बताया कि भारी बारिश के कारण ठाणे के साहापुर तालुका के सपगांव में एक पुल बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया। कोई हताहत नहीं हुआ है, लेकिन पुल पर वाहनों की आवाजाही रोक दी गई है।
 
webdunia
जिला मुख्यालय की ओर से एक संदेश में कहा गया कि साहापुर में मोदक सागर बांध में गुरुवार तड़के तीन बजकर 24 मिनट पर पानी क्षमता से अधिक हो गया, जिसके बाद पानी कम करने के लिए दो द्वार खोले गए।
 
सूर्यवंशी ने कहा कि सहापुर तालुका के कुछ गांव डूब गए हैं और स्थानीय अधिकारी एनडीआरएफ की मदद से वहां फंसे लोगों का निकालने की कोशिश कर रही है। एक पहाड़ी पर बसे भटसाई गांव में फंसे हुए लोग बाहर नहीं आ सके और उन्हें इलाके के एक स्कूल में ठहराया गया है।
 
webdunia
शाहपुर के पास वसिंद में भी बाढ़ का पानी घरों के अंदर चला गया, जिसके बाद लोगों को एनडीआरएफ की मदद से जिला परिषद स्कूल में पहुंचाया गया। चेरपोली में फंसे कुछ लोगों को नावों की मदद से निकाला गया।
 
तहसीलदार आदिक पाटिल ने बताया कि ठाणे के भिवंडी तालुका में कई लोग पड़घा, कावड़, गणेश नगर और खैरपाड़ा में पानी भर जाने की वजह से फंस गए थे, जिन्हें एनडीआरएफ और ठाणे आपदा मोचन बल की मदद से निकाला गया।
 
अन्य एक अधिकारी ने बताया कि भिवंडी में कामवारी नदी के किनारे बाढ़ वाले इलाकों से भी कई लोगों को बचाया गया। अधिकारियों ने बताया कि बदलापुर वांगनी में एक आश्रम से 10 लोगों और 70 मवेशियों को बचाया गया। इसके अलावा, ठाणे के कसारा और टिटवाला के कुछ इलाकों में फंसे लोगों को भी जिला परिषद स्कूलों में ठहराया गया।
 
ठाणे के क्षेत्रीय आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ के प्रमुख संतोष कदम ने बताया कि उन्हें शहर में पेड़ गिरने की मामलों की जानकारी मिली है, लेकिन घटनाओं में कोई घायल नहीं हुआ। गणेश नगर में तड़के कुछ घरों में पानी घुस गया और बाद में आपदा मोचन दलों द्वारा लगभग 40 लोगों को वहां से बचाया गया।
 
पालघर कलेक्टर के डॉ. माणिक गुरसाल ने एक संदेश में कहा कि भूस्खलन के बाद नासिक-जवाहर मार्ग बंद कर दिया गया था। इसके गुरुवार शाम तक परिचालन फिर से शुरू होने की संभावना है। उन्होंने लोगों से त्रंबक-देवगांव-खोडाला मार्ग का इस्तेमाल करने की अपील भी की। पालघर में वसई, विरार सहित कई स्थानों पर बाढ़ आई, लेकिन किसी के हताहत होने की खबर नहीं है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

कोविड-19 के खतरे को बढ़ा सकता है जंगल की आग का धुआं