Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Weather Alert : तमिलनाडु में हुई भारी वर्षा, दिल्ली में प्रदूषण से राहत नहीं

webdunia
शनिवार, 20 नवंबर 2021 (09:24 IST)
नई दिल्ली। बंगाल की खाड़ी में बना डिप्रेशन उत्तरी तमिलनाडु तट को पार कर गया है और अब यह आंतरिक तमिलनाडु और रायलसीमा के आसपास के हिस्सों पर बना हुआ है। यह आज दोपहर या शाम तक कमजोर होकर गहरे निम्न दबाव में बदल जाएगा।
 
एक अन्य निम्न दबाव का क्षेत्र पूर्वी मध्य अरब सागर के ऊपर है और संबंधित चक्रवाती परिसंचरण औसत समुद्र तल से 5.8 किमी ऊपर तक फैला हुआ है। यह तट से दूर पश्चिम दिशा में आगे बढ़ेगा और एक गहरे निम्न में बदल सकता है। स्काईमेट के अनुसार मध्य अरब सागर के ऊपर कम दबाव के क्षेत्र से जुड़े चक्रवाती परिसंचरण से ट्रफ रेखा मध्यप्रदेश के पश्चिमी हिस्सों तक उत्तरी महाराष्ट्र और दक्षिण गुजरात होकर गुजर रही है।
 
पिछले 24 घंटों के दौरान, उत्तरी तमिलनाडु और रायलसीमा में मध्यम से भारी और एक या दो स्थानों पर बहुत भारी बारिश हुई। आंध्रप्रदेश के दक्षिणी तट, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक और दक्षिण-पूर्वी राजस्थान में हल्की से मध्यम बारिश हुई और कुछ स्थानों पर भारी बारिश हुई। सौराष्ट्र और कच्छ के कुछ हिस्सों, मध्यप्रदेश के पश्चिमी हिस्सों, मध्य महाराष्ट्र, कोंकण और गोवा, मराठवाड़ा के कुछ हिस्सों, केरल के कुछ हिस्सों और तटीय आंध्रप्रदेश के बाकी हिस्सों में हल्की से मध्यम बारिश हुई। उत्तरप्रदेश के पश्चिम और मध्य भागों, दक्षिण गुजरात, लक्षद्वीप, तेलंगाना और तटीय कर्नाटक में हल्की बारिश हुई।
 
अगले 24 घंटों के दौरान तटीय आंध्रप्रदेश, रायलसीमा के कुछ हिस्सों और दक्षिण आंतरिक कर्नाटक में मध्यम से भारी बारिश संभव है। तमिलनाडु, केरल, तटीय कर्नाटक और कोंकण और गोवा, मध्य महाराष्ट्र और अंडमान और निकोबार द्वीप समूह के अलग-अलग हिस्सों में एक या दो स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश के साथ कहीं-कहीं भारी भारी हो सकती है। मध्यप्रदेश, विदर्भ, मराठवाड़ा, तेलंगाना, दक्षिण छत्तीसगढ़, दक्षिण ओडिशा और लक्षद्वीप के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश के साथ एक दो स्थानों पर मध्यम वर्षा संभव है।

webdunia
 
दिल्ली में गंभीर प्रदूषण : दिल्ली का प्रदूषण नवंबर की शुरुआत के बाद से ज्यादातर समय खतरनाक/गंभीर श्रेणी में रहा है। हालांकि बीच में मामूली राहत मिली और एक्यूआई इंडेक्स बहुत खराब श्रेणी में आ गया, फिर भी दिल्ली और एनसीआर में वायु गुणवत्ता सूचकांक खराब रहा है।
 
स्काईमेट के अनुसार पंजाब और हरियाणा से पराली जलाने का धुंआ पिछले 4-5 दिनों के दौरान अपने चरम पर था। इस साल मानसून की वापसी देर से शुरू हुई और दक्षिण-पश्चिम मानसून अक्टूबर के मध्य तक जारी रहा। इसलिए पंजाब हरियाणा और पश्चिमी उत्तरप्रदेश के किसानों के पास पराली को निपटाने के लिए पर्याप्त समय नहीं था। यही कारण है कि किसानों को पराली की प्रक्रिया के लिए बहुत कम समय मिला जिसमें सारी पराली जलाने की प्रक्रिया खत्म करनी थी।
 
एक अन्य महत्वपूर्ण कारक मानसून की वापसी के बाद मौसम की स्थिति थी। कम गति वाली उत्तर-पश्चिमी हवाएं शुरू हुईं, जो पंजाब और हरियाणा से दिल्ली और एनसीआर की ओर जलने वाले पराली के धुएं को ले गईं। इसलिए पराली जलाने से निकलने वाला धुआं आसानी से दिल्ली और एनसीआर तक पहुंच गया। तेज हवाओं के अभाव में यह राष्ट्रीय राजधानी पर बना रहा और व्यापक क्षेत्र में आ गया।
 
अब हवाएं पूर्व और दक्षिण-पूर्व दिशा से हैं और गति बहुत कम हैं इसलिए हमें प्रदूषण के स्तर में कोई महत्वपूर्ण सुधार की उम्मीद नहीं है। 20 नवंबर को दक्षिण हरियाणा, दक्षिण पश्चिम उत्तरप्रदेश और दिल्ली के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश की संभावना है, लेकिन यह हल्की बारिश प्रदूषकों को नहीं धो सकती है। यही वजह है कि प्रदूषण का स्तर जारी रहने की उम्मीद है।
 
हवा की गति 21 या 22 नवंबर से एक बार फिर रफ्तार पकड़ सकती है। उस दौरान उत्तर-पश्चिमी मध्यम हवाएं मामूली राहत दे सकती हैं, लेकिन जब तक हवाएं लगातार चलती रहती हैं और क्षेत्र में बारिश होती है, तब तक महत्वपूर्ण राहत की उम्मीद नहीं है। इस प्रकार उच्च प्रदूषण स्तरों से महत्वपूर्ण राहत की उम्मीद नहीं है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

आज इंदौर लगा सकता है स्वच्छता का पंच, राष्ट्रपति के हाथों मिलेगा पुरस्कार