IT के छापों को कांग्रेस ने बताया राजनीतिक बदला, भाजपा बोली चोरों को चौकीदार से शिकायत

रविवार, 7 अप्रैल 2019 (18:55 IST)
नई दिल्ली/ भोपाल। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ से जुड़े लोगों के दिल्ली और मध्यप्रदेश स्थित 50 ठिकानों पर रविवार सुबह आयकर विभाग की छापेमारी को कांग्रेस ने राजनीतिक बदला बताया है।
 
मध्य प्रदेश कांग्रेस के मीडिया प्रकोष्ठ के उपाध्यक्ष और मुख्यमंत्री कमलनाथ के पूर्व विशेष कार्याधिकारी (ओएसडी) भूपेन्द्र गुप्ता ने आरोप लगाया कि भाजपा सरकार राजनीतिक रंजिश के चलते पूरे देश में विपक्ष के नेताओं को निशाना बना रही है। इसी तरह के राजनीतिक प्रतिशोध के चलते आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री (एन. चन्द्रबाबू नायडू) और द्रमुक नेता एमके स्टालिन ने केन्द्र के खिलाफ प्रदर्शन किया था।  हालांकि भाजपा ने इस पर पलटवार करते हुए कहा कि चोरों को अब 'चौकीदार' से की शिकायत होन लगी है।
 
भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने ट्वीट किया, 'मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के निजी सचिव के घर से आयकर विभाग के छापे में करोड़ों रुपए की काली कमाई बरामद हुई। इससे एक बात तो साफ हो गई कि जो चोर है, उसे ही चौकीदार से शिकायत है।' 
 
इससे पहले अधिकारियों ने बताया कि आयकर अधिकारियों ने इंदौर, भोपाल और दिल्ली (ग्रीन पार्क) में छापेमारी की। जिन लोगों पर छापेमारी की गई उनमें कमलनाथ के पूर्व विशेष कार्याधिकारी (ओएसडी) प्रवीण कक्कड़, पूर्व सलाहकार राजेंद्र मिगलानी और उनके रिश्तेदार से जुड़ी कंपनी मोजर बेयर और उनके भानजे रातुल पुरी की कंपनी शामिल है। लोकसभा चुनाव की घोषणा होने से पहले ही कक्कड़ और मिगलानी ने इस्तीफा दे दिया था।
 
दिल्ली से इंदौर पहुंची आयकर विभाग के अधिकारियों की टीम ने कक्कड़ के विजय नगर क्षेत्र स्थित आवास और उनसे जुड़े अन्य परिसरों पर छापोमरी की। सूत्रों ने कहा कि छापेमारी में जब्त दस्तावेजों की जांच की जा रही है। मध्यप्रदेश पुलिस के पूर्व अधिकारी कक्कड़ को राज्य में कांग्रेस की अगुवाई वाली सरकार के सत्ता में आने के बाद कमलनाथ का ओएसडी नियुक्त किया गया था। इससे पहले संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार के समय वह पूर्व केंद्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया के ओएसडी थे।
 
सूत्रों ने कहा कि कोलकाता के कारोबारी पारस लाल लोढ़ा के ठिकानों पर भी छापेमारी की गई। आयकर विभाग के करीब 200 अधिकारियों की टीम ने रविवार तड़के 3 बजे इन परिसरों पर छापेमारी शुरू की। इसमें बेहिसाबी नकदी बरामद हुई है। यह छापेमारी मौजूदा चुनावी सीजन में संदिग्ध हवाला धन की आवाजाही और कर चोरी के मामले में की गई है। (भाषा)

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख RCB ने दिल्ली कैपिटल्स को जीत के लिए दिया 150 रनों का लक्ष्य