Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

आखिर कैसे भड़की लखीमपुर खीरी में हिंसा, जानिए अब तक क्या-क्या हुआ?

हमें फॉलो करें webdunia

वेबदुनिया न्यूज डेस्क

सोमवार, 4 अक्टूबर 2021 (14:43 IST)
लखीमपुर खीरी। लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में किसानों और योगी सरकार के बीच समझौता हो गया। हालांकि विपक्षी दल अभी भी योगी सरकार पर निशाना साध रहे हैं। लखीमपुर जा रहे प्रियंका गांधी, अखिलेश यादव, जयंत चौधरी, संजय सिंह को हिरासत में लिया गया। आखिर कैसे यह पूरा विवाद बढ़ा और क्या है इसके पीछे की कहानी?

webdunia
रविवार को प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य केंद्रीय, गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा के पैतृक गांव में आयोजित किए जा रहे एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए जा रहे थे। उन्हें लेने के लिए गाड़ियां जा रही थीं। ये गाड़ियां केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा की बताई गईं।
रास्ते में तिकुनिया इलाके में किसानों ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। विरोध कर रहे किसानों और भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हो गई। आरोप लगाया गया कि आशीष मिश्रा ने किसानों के ऊपर गाड़ी चढ़ा दी। इसमें 4 किसानों की मौत हो गई। किसानों की मौत के बाद हिंसा भड़क गई और उन्होंने गाड़ियों को आग लगा दी।
 
हिंसा में बीजेपी नेता के ड्राइवर समेत 4 लोगों की मौत हो गई। इस हिंसा में अब तक 8 लोगों की मौत हो चुकी है। इसकी आधिकारिक पुष्टि यूपी पुलिस ने की। हिंसा के बाद हालात न बिगड़ें, इसे ध्यान में रखते हुए इंटरनेट बंद कर दिया गया। केंद्रीय मंत्री के बेटे आशीष मिश्रा के खिलाफ तिकुनिया थाने में केस दर्ज करवाया गया।
webdunia
केंद्रीय मंत्री ने कहा अराजक तत्वों का काम : केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा ने इस घटना में अपने खिलाफ साजिश रचे जाने का आरोप लगाया है। मिश्रा ने कहा कि इस मामले में उनके खिलाफ साजिश की गई है। उन्होंने कहा कि प्रदर्शन कर रहे किसानों के बीच छुपे कुछ अराजक तत्वों ने वारदात के दौरान घायल हुए लोगों को पीट-पीटकर उनसे कहा कि तुम मंत्री का नाम लो। मिश्रा ने यह भी कहा कि मेरे बेटे पर भी आरोप लगाने का प्रयास किया गया है। जिस तरह गाड़ी से खींच-खींचकर हमारे कार्यकर्ताओं की हत्या की गई, यह हो सकता है कि मेरे बेटे की हत्या की योजना रही हो।
उन्होंने दावा किया कि प्रदर्शन के दौरान भीड़ में बहराइच, पीलीभीत तथा कुछ अन्य जिलों के लोगों के भी शामिल होने की बात सामने आ रही है। ऐसा लगता है कि पहले से ही कोई साजिश रची गई थी।

अपने बेटे के खिलाफ मुकदमा दर्ज किए जाने से संबंधित सवाल पर मिश्रा ने कहा कि इस एफआईआर का कोई औचित्य नहीं है और अगर मुकदमा दर्ज किया गया है तो यह गलत तथ्यों पर आधारित होगा।
webdunia
गर्माया सियासी पारा : लखीमपुर में हिंसा के बाद सियासी पारा गर्मा गया। किसान नेता राकेश टिकैत अपने समर्थकों के साथ गाड़ियों के काफिले को लेकर लखीमपुर खीरी पहुंच गए, साथ ही प्रियंका गांधी, अखिलेश यादव, जयंत चौधरी, संजय सिंह भी लखीमपुर खीरी मृतक के परिजनों से मिलने के लिए पहुंचे लेकिन उन्हें रास्तों में ही हिरासत में ले लिया गया। धारा 144 के उल्लंघन के आरोप में अखिलेश यादव, शिवपाल यादव, रामगोपाल यादव को पुलिस ने गिरफ्तार किया।
webdunia

मुआवजे के बाद बनी बात : किसान नेता राकेश टिकैत और सरकार की ओर से अपर पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार एवं अन्य आला अधिकारियों के बीच हुई बातचीत में यह सहमति बनी कि सरकार घटना के शिकार मृत किसानों के परिवार को 45-45 लाख रुपए का मुआवजा देगी।
webdunia

इसके साथ ही मरने वालों के परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाएगी। मृत किसानों में दलजीत सिंह (32) नानपारा बहराइच, गुरविंदर सिंह (20) नानपारा बहराइच, लवप्रीति सिंह (19) पलिया लखीमपुर और नच्छतर सिंह धौरारा लखीमपुर शामिल हैं।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

नींद की झपकी लगते ही एक परिवार के 5 लोगों की मौत, कार ट्रक में जा घुसी