Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

क्यों होता है लिवर खराब, विशेषज्ञ की खास सलाह

webdunia
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp
share
webdunia

वृजेन्द्रसिंह झाला

लिवर को हम यकृत और जिगर के नाम से भी जानते हैं। स्पंज जैसा नाजुक शरीर का यह अंग यदि खराब हो जाए तो पूरे शरीर की सेहत पर असर डालता है। लिवर की बीमारी का यदि समय पर इलाज न हो तो यह गंभीर समस्या भी बन सकती है। आखिर लिवर की बीमारी के लक्षण क्या हैं और किस तरह इससे बचा जा सकता है, वेबदुनिया के पाठकों के लिए यही बता रहे मेदांता मेडिसिटी गुड़गांव के प्रसिद्ध लिवर ट्रांसप्लांट सर्जन डॉ. प्रशांत भांगी। 
 
कारण : अंतरराष्ट्रीय लिवर ट्रांसप्लांट सोसायटी के सदस्य डॉ. प्रशांत भांगी बताते हैं कि लिवर की बीमारी किसी भी उम्र में हो सकती है। 70 फीसदी मामलों में यह हैपिटाइटिस, हैपि‍टाइटिस बी और सी की वजह से होती, लेकिन भारत में यह हैपिटाइटिस सी की वजह से ज्यादा होती है। ज्यादा शराब पीने और लंबे समय तक शराब पीने की वजह से भी लिवर खराब हो जाता है। 30 फीसदी मामलों में लिवर की समस्या के पीछे हमारा रहन-सहन और खान-पान होता है। बच्चों में यह बीमारी जीन और एंजाइम डिफेक्ट की वजह से होती है।  
लक्षण : वर्ष 2016 में श्रेष्ठ शोध पत्र के लिए वेनगार्ड अवॉर्ड से सम्मानित डॉ. भांगी कहते हैं कि शुरुआती दौर में ही ध्यान दिया जाए तो लिवर की बीमारी से छुटकारा पाया जा सकता है। अंतिम स्थिति में तो दवाएं भी काम करना बंद कर देती हैं, ऐसी स्थिति में लिवर प्रत्यारोपण ही एकमात्र विकल्प होता है। वे कहते हैं कि पैरों में सूजन, पेट में पानी का बनना, खून की उल्टी होना, शरीर में अंदरूनी तौर पर खून का बहना ऐसे लक्षण हैं, जो लिवर की बीमारी की तरफ इशारा करते हैं। 
कैसे बचें : गोवा के राज्य स्तरीय बैडमिंटन खिलाड़ी रहे डॉ. प्रशांत बताते हैं कि खराब जीवनशैली के कारण व्यक्ति में फैटी लिवर (लिवर पर चर्बी का जमना) की समस्या पैदा होती है। यदि हम अपनी लाइफ स्टाइल सुधार लें सुबह-शाम दो-दो किलोमीटर पैदल चलें तो इस समस्या से निजात पा सकते हैं। फास्ट फूड, तले-गले और मसालेदार भोजन से परहेज रखें तो लिवर स्वस्थ रहेगा और लिवर ट्रांसप्लांट की नौबत ही नहीं आएगी। 
लिवर कैंसर : यूरोपियन सोसायटी फॉर ऑर्गन ट्रांसप्लांट के सदस्य डॉ. भांगी कहते हैं कि 90 फीसदी मामलों में लिवर कैंसर खराब लिवर में ही होता है। 10 फीसदी मामले ही ऐसे होते हैं जब सामान्य लिवर में ट्‍यूमर आते हैं। वे कहते हैं कि लिवर बदलने से लिवर कैंसर का उपचार भी हो जाता है। इस मामले में जागरूकता की भी जरूरत है ताकि लोगों में निराशा न आए। फ्रांस में सुपर स्पेशियलिटी ट्रेनिंग लेने वाले डॉ. भांगी बताते हैं कि उन्हें वहां बहुत कुछ सीखने को मिला। उपचार के दौरान सही मरीज का चयन भी बहुत जरूरी होता है ताकि सही परिणाम मिल सकें। 
 
सस्ता इलाज : तकनीक के साथ इलाज भी महंगा हुआ है, ऐसे में आम आदमी को सस्ता इलाज कैसे मिले? इस सवाल के जवाब में डॉ. भांगी कहते हैं कि लिवर ट्रांसप्लांट में पहले भी 18 से 21 लाख खर्च होते थे, अब भी लगभग इतना ही खर्च होता है। लिवर ट्रांसप्लांट सर्जरी ज्यादातर कार्पोरेट अस्पतालों में ही होती है। एम्स जैसे सरकारी अस्पतालों में यह सुविधा मौजूद नहीं है। सरकारी सहयोग के बिना सस्ता इलाज संभव नहीं है। 
 
क्या खाएं : लिबर को लंबे समय तक स्वस्थ रखने के लिए जरूरी है कि स्वस्थ जीवनशैली के साथ ही खानपान भी अच्छा होना चाहिए। भोजन में अधिक से अधिक हरी सब्जियों का प्रयोग करना चाहिए। पालक, ब्रोकली, पत्तगोभी, सरसों, मूली के साथ ही अंकुरित मूंग, गेहूं आदि का भी प्रयोग किया जा सकता है। भोजन में हमें लहसुन और अदरक का भी प्रयोग नियमित रूप से करना चाहिए।
 

Share this Story:
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

webdunia
बड़ा हादसा टला, रूसी लड़ाकू विमान से टकरा जाता अमेरिकी सैन्य विमान