मुट्ठीभर लोग जम्मू कश्मीर का माहौल बिगाड़ना चाहते हैं : नरेंद्र मोदी

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कश्मीर की धारा 370 को निष्प्रभावी बनाने के बाद पहली बार राष्ट्र को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि इससे जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में विकास में तेजी आएगी तथा यहां के लोगों को आतंकवाद, अलगाववाद और परिवारवाद से मुक्ति मिलेगी। आइए जानते हैं पीएम मोदी ने और क्या कहा....

-जम्मू कश्मीर के लिए हमने हजारों लोगों को खोया है। 
-अब हम नए लद्दाख और नए जम्मू कश्मीर का निर्माण करेंगे। 
 
-धारा 370 से मुक्ति एक सच्चाई है। इस समय ऐहतियात के तौर पर कुछ कदम उठाने की जरूरत है। इससे कुछ परेशानी भी है, लेकिन वहां के लोग सहयोग कर रहे हैं। 
-जो मुट्‍ठीभर लोग माहौल बिगाड़ने में लगे हैं, उन्हें वहीं के लोग जवाब दे रहे हैं। 
-ईद के लिए सभी को मेरी ओर से बहुत बहुत शुभकामनाएं।
-फैसले पर सवाल उठाने वाले देश हित को सर्वोपरि रखें। 
-सुरक्षाकर्मियों और अन्य कर्मचारियों का मैं आभार व्यक्त करता हूं। 
-बदलाव हो सकता है, लोगों का भला हो सकता है। 
-जम्मू कश्मीर हमारे देश का मुकुट है। 
-जम्मू कश्मीर की सुरक्षा के लिए यहां लोगों ने अपना खून बहाया है। 
 
-माहौल बेहतर होगा तो दुनिया भर की फिल्मों की शूटिंग होगी। एक जमाने में फिल्मकारों की पसंद था जम्मू कश्मीर। 
-अब नौजवानों को नेतृत्व का मौका मिलेगा। रोजी-रोटी के अवसर बढ़ेंगे।
-हर्बल प्रोडक्ट की बिक्री बढ़ेगी तो किसानों को लाभ होगा। 
-जम्मू कश्मीर के विकास के लिए हर हिन्दुस्तानी का साथ चाहिए।
-यूटी बन जाने के के बाद लद्दाख का विकास केन्द्र सरकार की स्वाभामिक जिम्मेदारी है। विकास का लाभ यहां और तेजी से पहुंचेगा। 
 
-लद्दाख सोलर पॉवर का केन्द्र बन सकता है। 
-लद्दाख के बच्चों को बेहतर संस्थान मिलेंगे। 
-लद्दाख और जम्मू कश्मीर को आगे ले जाने के लिए सरकार का सहयोग करें। 
-लद्दाख और जम्मू कश्मीर के हित में मिलकर और एकजुट होकर काम करना है। 
 
-आपका जनप्रतिनिधि आपके द्वारा ही चुना जाएगा और आपके बीच से ही आएगा। 
-मुख्‍यमंत्री, विधायक सब कुछ पहले जैसा ही होगा। 
-नई व्यवस्था से हम जम्मू-कश्मीर को आतंकवाद और अलगाववाद से मुक्त कराएंगे। 
 
-केन्द्र सरकार जम्मू कश्मीर के राजस्व घाटे के प्रभाव को भी कम करेगी। 
-प्रधानमंत्री स्कॉलरशिप योजना का लाभ स्थानीय लोगों को मिलेगा। 
-सेना और अर्धसैनिक बलों में युवाओं की भर्ती होगी। 
-पहले योजनाएं कागजों पर होती थीं, अब इन्हें जमीन पर उतारा जा रहा है। 
-जम्मू कश्मीर को केन्द्र शासित प्रदेश सोच-समझकर बनाया है। ऐसा कुछ समय के लिए ही किया गया है। 
-राज्यपाल शासन से वहां विकास हो रहा है। 
-जम्मू कश्मीर में हजारों-लाखों की संख्‍या में ऐसे लोग हैं, जिन्हें विधानसभा, पंचायतों में न तो मतदान कर सकते थे, न ही चुनाव लड़ सकते थे। 
-ये बंटवारे के बाद पाकिस्तान से भारत आए थे। क्या इन लोगों के साथ अन्याय ऐसे ही चलते रहता। 
 
-जम्मू कश्मीर में बेटियों और सफाई कर्मचारियों को उनका हक नहीं मिलता था। 
-जम्मू कश्मीर में अल्पसंख्यों को अधिकार नहीं मिलता था। 
-चुनाव लड़ने वालों को आरक्षण का लाभ नहीं मिलता था। 
-जम्मू कश्मीर के सरकारी कर्मचारियों को अन्य केन्द्र शासित प्रदेशों की तरह अधिकार मिलेंगे। 
-यहां मजदूरों को भी न्यूनतम मजदूरी नहीं मिलती। 
-जल्द ही जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के सभी रिक्त पदों को भरा जाएगा। 
-कुछ लोगों ने भावनाएं भड़काने का काम किया।
-धारा 370 हटने के बाद करोड़ों देशभक्तों का सपना पूरा हुआ। 
-370 और 35 ए ने सिर्फ आतंकवाद दिया। 
-370 हटाने का काम लोगों की भलाई के लिए किया गया है। 
-किसी भी दल की सरकार हो, उसका काम जनता की भलाई के लिए काम करना है। 
-देश का कानून जम्मू-कश्मीर पर लागू नहीं होता था। 
 
-3 दशक में 42 हजार से ज्यादा निर्दोष लोग मारे गए। 
-लोग मानकर बैठे थे कि कुछ भी बदलने वाला नहीं है। 
-नई व्यवस्था के तहत लद्दाख और जम्मू कश्मीर का वर्तमान तो सुधरेगा ही भविष्य भी सुधरेगा। 
 
-जम्मू कश्मीर को अलगाववाद, परिवारवाद, आतंकवाद और भ्रष्टाचार के सिवाय कुछ नहीं मिला।
-देश के हर नागरिक का हक और दायित्व समान हैं। 
-लद्दाख और जम्मू कश्मीर के लोगों को बधाई। 
-अटल बिहारी वाजपेयी, श्यामा प्रसाद मुखर्जी का सपना पूरा हुआ।
 
-हमने ऐतिहासिक फैसला लिया। 
-जम्मू कश्मीर के भाई बहन अधिकारों से वंचित थे। 
-सरदार पटेल और बाबा साहब अंबेडकर का सपना पूरा हुआ।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख जम्मू सीमा पर पाक सेना की हलचल बढ़ी, LoC पर गोलीबारी