Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

मोदी बोले, हर राज्य में होंगे 15-20 हवाई अड्डे

हमें फॉलो करें webdunia
शनिवार, 7 अक्टूबर 2017 (17:22 IST)
चोटिला (गुजरात)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को कहा कि उड्डयन क्षेत्र के निरंतर प्रसार और उनकी सरकार की ओर से तैयार संबंधित नीति के चलते एक समय ऐसा आएगा जब हर राज्य में 15 से 20 हवाई अड्डे होंगे और छोटे-छोटे शहर भी हवाई सेवा से जुड़े होंगे।
 
मोदी ने शनिवार को गुजरात में सुरेन्द्रनगर जिले के चोटिला के निकट बनने वाले नए राजकोट ग्रीनफील्ड हवाई अड्डे की आधारशिला रखने के अवसर पर कहा कि वह उड्डयन क्षेत्र का ऐसा विकास देखना चाहते हैं कि हवाई चप्पल पहनने वाला व्यक्ति भी विमान में यात्रा करे। पूरे विश्व में उड्डयन क्षेत्र का महत्व होने के बावजूद पूर्व की सरकार ने इससे संबंधित नीति तक नहीं बनाई थी। 
 
हमारी सरकार की नीति में केवल अहमदाबाद, मुंबई या चेन्नई जैसे बड़े शहरों को नहीं बल्कि छोटे-छोटे शहरों को महत्व दिया गया है। एक घंटे की उड़ानों को सस्ता कर इन्हें जोड़ा जा रहा है। शनिवार को एक राज्य में औसतन दो से तीन हवाई अड्डे हैं पर एक दिन ऐसा आएगा कि प्रत्‍येक में 15 से 20 एयरपोर्ट होंगे।
      
उन्होंने कहा कि सरकार के प्रयास से अब तक छोटे शहरों को जोड़ने वाले आठ हवाई मार्ग काम करने लगे हैं। इससे गुजरात के कंडला और मीठापुर जैसे छोटे स्थानों को भी हवाई सेवा का लाभ मिल रहा है। 
 
नवीनतम आंकड़े के अनुसार देश में हवाई यात्रियों की संख्या में 14 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। राजकोट के नए हवाई अड्डे की चर्चा करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें खुशी है कि इतना बड़ा हवाई अडडा बनाने के लिए केवल चार प्रतिशत जमीन किसानों से लेनी पड़ी, शेष 96 प्रतिशत बंजर वीरान जमीन का इस्तेमाल हो रहा है।
        
मोदी ने लगभग 2500 करोड़ की लागत से राजकोट तथा चोटिला के बीच हीरासर में बनने वाले नए राजकोट हवाई अड्डे के अलावा राजकोट-अहमदाबाद हाईवे को छह लेन और राजकोट-मोरबी हाईवे को चार लेन करने की परियोजनाओं का भी शिलान्यास किया। 
 
राजकोट शहर में स्थित मौजूदा हवाई अड्डे, जहां से केवल घरेलू उड़ानें ही संचालित होती हैं, के विस्तारीकरण की संभावना नहीं होने के कारण नए हवाई अड्डे को बनाया जा रहा है। भारतीय विमान पतन प्राधिकरण तथा गुजरात सरकार की इस संयुक्त परियोजना के तहत बनने वाले इस हवाई अड्डे के पांच साल में कार्यरत हो जाने की उम्मीद है। 
 
इस मौके पर केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री अशोक गजपति राजू भी उपस्थित थे। इसके अलावा प्रधाननमंत्री ने अमूल से जुड़ी सुरसागर डेयरी के दो लाख लीटर प्रसंस्करण क्षमता वाले दूध और पैकेजिंग संयंत्र तथा एक स्थानीय जलापूर्ति परियोजना का लोकार्पण भी किया।
        
उन्होंने विकास के लिए चौड़ी सड़कों को भी जरूरी बताया। साथ उन्होंने नर्मदा का पानी पहुंचने से सुरेन्द्रनगर जिले को बहुत लाभ होने की बात कही। उन्होंने लोगों से भाजपा सरकार की ओर से पहुंचाए गए नर्मदा के पानी का विवेकपूर्ण इस्तेमाल करने की भी सलाह दी। (वार्ता) 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

करवा चौथ 2017 : इस बार बन रहे हैं सौभाग्य और आरोग्य के शुभ संयोग