कांग्रेस के 'दरबारी' ने उठाए एयर स्ट्राइक पर सवाल, पाकिस्तान का किया समर्थन

शुक्रवार, 22 मार्च 2019 (11:34 IST)
नई दिल्ली। भारतीय ओवरसीज कांग्रेस के प्रमुख सैम पित्रोदा ने पुलवामा हमले के बाद हुई एयर स्ट्राइक पर सवाल खड़े करते हुए कहा है कि अगर हमले में 300 आतंकी मारे गए हैं तो ये पूरी दुनिया को दिखा क्यों नहीं। सैम पित्रोदा के इस बयान पर सवाल उठाते हुए पीएम मोदी ने उन्हें कांग्रेस का दरबारी कहा।
 
उन्होंने कहा कि विपक्ष हमारे सुरक्षा बलों का बार-बार अपमान करता है। मैं अपने साथी भारतीयों से अपील करता हूं- अपने बयानों पर विपक्षी नेताओं से सवाल करें। उन्हें बताएं कि 130 करोड़ भारतीय अपनी हरकतों के लिए विपक्ष को माफ नहीं करेंगे या भूल नहीं जाएंगे। भारत हमारे सुरक्षा बलों के साथ मजबूती से खड़ा है।
 
उल्लेखनीय है कि सैम पित्रोदा ने 26/11 हमले पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि 8 लोग आकर कुछ कर जाते हैं, इसके लिए पूरे देश को जिम्मेदार नहीं कहा जा सकता। 
 
पित्रोदा ने कहा कि क्या हमने वाकई हमला किया? हमने वास्तव में 300 लोगों को मार डाला? मुझे नहीं पता है। एक नागरिक होने के नाते मैं यह जानने का हकदार हूं और अगर मैं पूछता हूं कि यह पूछना मेरा कर्तव्य है। इसका अर्थ यह नहीं है कि मैं एक राष्ट्रवादी नहीं हूं, इसका मतलब यह नहीं है कि मैं इस तरफ या उस तरफ हूं। हमें तथ्यों को जानने की जरूरत है। यदि आप कहते हैं कि 300 लोग मारे गए है तो मुझे यह जानना चाहिए।
 
उन्होंने कहा कि भारत के लोगों को यह जानने की जरूरत है और फिर ग्लोबल मीडिया है जो कहता है कि कोई भी मारा नहीं गया था। मुझे एक भारतीय नागरिक के रूप में बुरा लग रहा है। 
 

We don’t need further proof that Congress party is the biggest terror apologist in the country. #JantaMaafNahiKaregi pic.twitter.com/34o577MGpo

— BJP (@BJP4India) March 22, 2019
पित्रोदा ने पाकिस्तान के साथ बातचीत की मांग की। उन्होंने कहा कि मैं एक गांधीवादी हूं, मैं प्रेम और सम्मान में विश्वास करता हूं। मैं व्यक्तिगत रूप से बातचीत में विश्वास करता हूं। मुझे लगता है कि हमें हर किसी के साथ बातचीत करनी चाहिए। हम पूरी दुनिया के साथ बातचीत कर रहे हैं।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख मायावती का बड़ा हमला, वोट की खातिर मोदी सरकार ने छिपा रखे हैं आंकड़े