PM मोदी बोले, जनता को तो समझ में आ गया बजट

मंगलवार, 4 फ़रवरी 2020 (15:41 IST)
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को पार्टी सांसदों से कहा कि कुछ लोगों ने बजट पर भ्रम फैलाने की कोशिश की, लेकिन जनता भ्रमित नहीं हुई और सबको समझ में आ गया है कि बहुत अच्छा बजट है। सूत्रों ने यह जानकारी दी।
 
प्रधानमंत्री ने कहा कि यहां तक कि अब आलोचकों ने भी यह स्वीकार किया है कि वर्तमान वैश्विक आर्थिक परिदृश्य में बजट सर्वश्रेष्ठ है। सूत्रों ने बताया कि प्रधानमंत्री मोदी ने भाजपा संसदीय दल की बैठक में बोडो समझौते को बहुत महत्वपूर्ण एवं ऐतिहासिक बताया और कहा कि पहले की सरकारों ने कभी भी इस पर ध्यान नहीं दिया था।
 
उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री ने पूर्वोत्तर की ब्रू जनजातियों को असम में बसाने को लेकर जानकारी दी और कहा कि यह एक महत्वपूर्ण फैसला है। उन्होंने कहा कि इनको लेकर कुछ लोग आशंका व्यक्त कर रहे थे, लेकिन लोगों ने इसे सहजता से स्वीकार किया।
 
सूत्रों के अनुसार, मोदी ने कहा कि कुछ लोगों ने बजट को लेकर भ्रम फैलाने की कोशिश तो हुई लेकिन आम लोग भ्रमित नहीं हुए और सबको समझ में आ गया कि बहुत अच्छा बजट है। भाजपा संसदीय दल की बैठक में पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा भी शामिल हुए। पार्टी अध्यक्ष बनने के बाद नड्डा पहली बार भाजपा संसदीय दल की बैठक में शामिल हुए।
 
बैठक में मोदी एवं अन्य नेताओं ने नड्डा का स्वागत किया। सूत्रों ने बताया कि नड्डा ने विश्वास व्यक्त किया कि 8 फरवरी को दिल्ली विधानसभा चुनाव में भाजपा की जीत होगी।
 
उन्होंने कहा कि दिल्ली के चुनाव को लेकर पार्टी के 240 सांसदों की ड्यूटी लगाई जाएगी। ये सांसद अगले कुछ दिन तक अलग-अलग क्षेत्रों में रहकर पार्टी उम्मीदवारों के लिए प्रचार करेंगे।
 
संसद भवन परिसर संसद ग्रंथालय में भाजपा संसदीय दल की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी आदि शामिल थे।
 
सूत्रों के अनुसार विदेशमंत्री एस. जयशंकर ने पार्टी सांसदों को कोरोना वायरस से उत्पन्न स्थिति और उससे निबटने के लिए उठाए जा रहे कदमों की जानकारी दी। बैठक में हालांकि पार्टी सांसद अनंत हेगड़े मौजूद नहीं थे, जिन्होंने कुछ दिनों पहले महात्मा गांधी पर विवादित टिप्पणी की थी।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख हांगकांग में Corona Virus से पहली मौत, चीन से लगी सीमा को बंद करने के लिए चिकित्साकर्मियों की हड़ताल