दिल्ली-एनसीआर में भारी बारिश, दिन में छाया अंधियारा, मालवा-निमाड़ में बारिश के आसार

मंगलवार, 22 जनवरी 2019 (19:35 IST)
नई दिल्ली। दिल्ली-एनसीआर में सोमवार दोपहर से शुरू हुई बारिश मंगलवार तक जारी रही। पश्चिमी विक्षोभ में परिवर्तन के कारण सोमवार सुबह से ही बादल छाए रहे और दोपहर होते-होते तेज ​बारिश शुरू हो गई। मंगलवार सुबह से फिर लगातार तेज बारिश होती रही।


घना अंधियारा छाने से सुबह 9 बजे भी वाहनों की हैडलाइट जलानी पड़ी। बारिश के कारण ठंड भी बढ़ गई है और तापमान करीब 6 डिग्री तक गिर गया। नजफगढ़ में सोमवार को बारिश के कारण एक गोदाम की दीवार गिरने से दो कर्मचारियों की मौत हो गई। पश्चिम विक्षोभ के कारण मालवा-निमाड़ में बारिश के आसार हैं।

उत्तर रेलवे के अनुसार करीब 15 ट्रेनें दो या तीन घंटे के विलंब से चल रही थीं। इसमें हावड़ा-नई दिल्ली पूर्वा एक्सप्रेस, मालदा-दिल्ली जंक्शन फरक्का एक्सप्रेस और मुंबई अमृतसर एक्सप्रेस शामिल है। वहीं पुरी-नई दिल्ली पुरुषोत्तम एक्सप्रेस 6 घंटे के विलंब से चल रही थी। बारिश से दिल्ली की सड़कें बेहद प्रभावित हुई क्योंकि कई स्थानों पर जलभराव की वजह से यातायात का परिचालन प्रभावित हो रहा था। 
 
दिल्ली यातायात पुलिस अधिकारी ने बताया कि यातायात निगमबोध घाट से हनुमान मंदिर की ओर जाने वाले सड़कों पर यातायात प्रभावित हुआ। वहीं दक्षिणी दिल्ली में एसएस मार्ग से भाटी माइन्स की ओर जाने वाली सड़क पर भी यातायात प्रभावित रहा। 
 
दिल्लीवासियों को इस बारिश के कारण प्रदूषण से राहत जरूर मिली। मौसम विभाग के मुताबिक तेज हवा के साथ 24 जनवरी तक बारिश होने की संभावना है। बारिश के कारण शहर में कई जगह पानी जमा होने के कारण लोगों को जाम की परेशानी को भी झेलना पड़ा। दिल्ली के नजफगढ़ में सोमवार को बारिश के कारण एक गोदाम की दीवार गिरने से दो कर्मचारियों की मौत हो गई और एक अन्य घायल हो गया। दिल्ली दमकल सेवा (डीएफएस) ने यह जानकारी दी।
सोमवार को दिल्ली एनसीआर का न्यूनतम तापमान 11.5 डिग्री और अधिकतम 28.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था। हालांकि बारिश के साथ तेज हवाओं ने फिर ठंड का एहसास कराया है। कश्मीर में सोमवार कई जगहों पर भारी बर्फबारी और बारिश हुई। इससे जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर यातायात ठप पड़ गया। हिमाचल प्रदेश के पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी हुई है। इससे मैदानी इलाकों में ठंड बढ़ने की आशंका है।
 
 
मध्यप्रदेश में कहीं वर्षा और कहीं-कहीं ओले गिरने की संभावना : विदर्भ, छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश में हवा का चक्रवात बनने के साथ ही पश्चिम मध्यप्रदेश से गुजर रही उत्तर दक्षिण द्रोणिका के प्रभाव के कारण मध्यप्रदेश में कई स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा की संभावना मौसम विभाग ने भोपाल से दी है।
 
स्थानीय मौसम विभाग के वैज्ञानिकों ने बताया कि पाकिस्तान और इसके आसपास पश्चिमी विक्षोभ के साथ ही नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम और त्रिपुरा के आसपास चक्रवाती हवा और राजस्थान से पश्चिमी मध्यप्रदेश से गुजर रही उत्तर दक्षिण द्रोणिका के प्रभाव के कारण प्रदेश के मौसम के रुख में बदलावा आया है। ऐसे में ग्वालियर, चंबल और रीवा संभागों के जिलों के अलावा छतरपुर, पन्ना और टीकमगढ़ जिले में अगले 24 घंटों के दौरान कहीं-कहीं हल्की वर्षा या गरज चमक के साथ बौछारे पड़ने की आशंका है।
 
देश के अलावा दूसरे अन्य स्थानों पर बने कई सिस्टम की वजह से प्रदेश के मौसम में बदलाव आया है। आगामी 24 घंटों के दौरान पूर्वोत्तर मध्यप्रदेश (निमाड़ी, टीकमगढ़, छतरपुर, पन्ना, सतना, रीवा, सीधी और सिंगरौली) में दिन के तापमानों में गिरावट की संभावना है।

वहीं पश्चिमोत्तर मध्यप्रदेश के नीमच एवं मंदसौर जिले तथा ग्वालियर एवं चंबल संभाग में न्यूनतम तापमान में गिरावट की उम्मीद की गई है। इसके अलावा उत्तर मध्य प्रदेश में 24 जनवरी और पूर्वी मध्य प्रदेश में 25 जनवरी को ओलावृष्टि होने की संभावना है। 

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख लीजेंड नडाल और जायंट किलर सितसिपास सेमीफाइनल में