शीला दीक्षित के निधन पर राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, राहुल गांधी समेत कई दलों के नेताओं ने जताया शोक

शनिवार, 20 जुलाई 2019 (22:19 IST)
नई दिल्ली। दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के निधन पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, कांग्रेस नेता राहुल गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल समेत कई अन्य नेताओं ने शोक प्रकट किया है।
 
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दीक्षित के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि उनके कार्यकाल में राष्ट्रीय राजधानी में प्रभावी बदलाव हुआ। कोविंद ने दीक्षित के परिवार और समर्थकों के प्रति अपनी संवेदनाएं व्यक्त की।
 
उन्होंने ट्वीट किया कि दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ राजनीतिक शख्सियत शीला दीक्षित के निधन के बारे में सुनकर दु:ख हुआ। मुख्यमंत्री के तौर पर उनके कार्यकाल के दौरान राजधानी में प्रभावी बदलाव हुआ जिसके लिए उन्हें याद किया जाएगा।
 
उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के निधन पर गहरा दु:ख व्यक्त करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। नायडू ने अपने शोक संदेश में कहा कि दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ नेता शीला दीक्षितजी के असामयिक निधन पर शोक व्यक्त करता हूं। शीलाजी सफल और लोकप्रिय नेता थीं जिनके लिए सभी के हृदय में आदर था।
 
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को कांग्रेस की वरिष्ठ नेता दीक्षित के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि उन्होंने दिल्ली के विकास में उल्लेखनीय योगदान दिया। प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर कहा कि शीला दीक्षितजी के निधन से बेहद दु:खी हूं। एक ऊर्जावान और मिलनसार व्यक्तित्व की धनी जिन्होंने दिल्ली के विकास में उल्लेखनीय योगदान दिया।
 
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री दीक्षित के निधन पर दु:ख जताते हुए शनिवार को उन्हें 'पार्टी की प्रिय बेटी' बताया। राहुल ने कहा कि उन्होंने मुख्यमंत्री के तौर पर राष्ट्रीय राजधानी के लोगों की नि:स्वार्थ भाव से सेवा की।
 
राहुल ने ट्वीट कर कहा कि मैं शीला दीक्षितजी के निधन के बारे में सुनकर बहुत दु:खी हूं। वे कांग्रेस पार्टी की प्रिय बेटी थीं जिनके साथ मेरा नजदीकी रिश्ता रहा। उन्होंने कहा कि दु:ख की इस घड़ी में उनके परिवार और दिल्ली के निवासियों के प्रति मेरी संवेदनाएं हैं। उन्होंने दिल्ली के निवासियों की 3 बार मुख्यमंत्री रहते हुए नि:स्वार्थ भाव से सेवा की।
 
कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने दीक्षित के निधन पर दु:ख जताते हुए कहा कि उन्हें उनके अनुकरणीय शासन और दिल्ली के विकास में उल्लेखनीय योगदान के लिए याद किया जाएगा। प्रियंका ने ट्वीट कर कहा कि शीलाजी को सदा उनके अनुकरणीय शासन और दिल्ली के विकास में उल्लेखनीय योगदान के लिए याद किया जाएगा।
 
उन्होंने कहा कि मैं बेहतरीन सलाह, मीठी मुस्कान और मिलने पर हमेशा गर्मजोशी से मुझे गले लगाने के लिए उनकी कमी महसूस करूंगी। कांग्रेस ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर लिखा कि हम शीला दीक्षित के निधन की खबर सुनकर दु:खी हैं। आजीवन कांग्रेस सदस्य और 3 बार दिल्ली की मुख्यमंत्री के तौर पर उन्होंने दिल्ली का चेहरा बदल दिया। उनके परिजनों और दोस्तों के लिए हमारी संवेदनाएं। भगवान उन्हें इस दु:ख से उबरने की शक्ति दे। 
 
कांग्रेस के पूर्व महासचिव हरिकेश बहादुर ने भी दीक्षित के निधन पर शोक जताया। अपने शोक संदेश में उन्होंने कहा कि शीला दीक्षित एक ऊर्जावान नेता थीं और उन्होंने दिल्ली के लोगों के लिए बेहद काम किया। उनके निधन की खबर से बेहद दु:खी हूं। भगवान उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे।
 
केंद्रीय गृहमंत्री और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने ट्वीट किया कि शीला दीक्षितजी के निधन से अत्यंत दु:खी हूं। मैं उनके परिजनों और समर्थकों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त करता हूं। ईश्वर दु:ख की इस घड़ी में उनके परिवार को शक्ति दे और दिवंगत आत्मा को चिर शांति प्रदान करे।
 
भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने भी शीला दीक्षित को एक कुशल प्रशासक बताते हुए कहा कि दिल्ली के विकास में उनका महती योगदान है। अपने लंबे सार्वजनिक जीवन के दौरान कई उपलब्धियों के साथ ही शीलाजी को एक बेहतरीन शख्सियत को तौर पर भी याद किया जाएगा। आडवाणी ने शीला दीक्षित के परिजनों के प्रति भी अपनी संवेदनाएं व्यक्त कीं।
 
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दीक्षित के निधन पर शोक जताया और कहा कि उनके योगदान को हमेशा याद रखा जाएगा। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने दीक्षित के निधन पर गहरा शोक प्रकट किया है। बनर्जी ने ट्वीट किया कि शीला दीक्षितजी के निधन के बारे में जानकर धक्का लगा है। जब मैं सांसद बनी थी, वे संसदीय कार्य मंत्री थीं। मेरे साथ हमेशा उनके अच्छे संबंध रहे। हमें उनकी कमी हमेशा महसूस होगी।
 
ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने भी शोक प्रकट किया। पटनायक ने एक बयान में कहा कि दिल्ली की प्रगति में योगदान के लिए वे लंबे समय तक याद की जाएंगी। उन्होंने शोक-संतप्त परिवार के प्रति गहरी सहानुभूति प्रकट की।
 
पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने शोक जताते हुए कहा है कि उनके निधन से एक राजनीतिक युग समाप्त हो गया। उन्होंने ट्वीट में कहा है कि वे (शीला) मेरे लिए एक बड़ी बहन के समान थीं, मेरे मुश्किल क्षणों में मेरा मार्गदर्शन और समर्थन करती थीं। आप मुझे हमेशा याद आएंगी। पंजाब भाजपा नेता मनोरंजन कालिया ने भी बयान जारी कर निधन पर शोक जताया।
 
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट व पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने भी शोक व्यक्त किया है। गहलोत ने ट्वीट कर कहा कि शीला दीक्षित के निधन की सूचना से बहुत दु:खी हूं। यह कांग्रेस के लिए बहुत बड़ी क्षति है। शीला दीक्षित को जननेता बताते हुए गहलोत ने कहा है कि उनकी कमी हमेशा महसूस होगी।
 
मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने शोक जताया। उन्होंने ट्वीट किया कि दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षितजी के दु:खद निधन का समाचार सुन स्तब्ध हूं, परिवार के प्रति मेरी शोक-संवेदनाएं। उनका निधन राजनीतिक क्षेत्र की ऐसी क्षति है, जो अपूरणीय है। ईश्वर उन्हें अपने श्रीचरणों में स्थान व परिजनों को यह दुःख सहने की शक्ति प्रदान करे।
 
मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवराज सिंह चौहान ने दीक्षित के निधन पर ट्वीट किया कि केरल की पूर्व राज्यपाल और दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री, आदरणीय शीला दीक्षितजी के निधन का दु:खद समाचार मिला। ईश्वर से दिवंगत आत्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान देने और परिजनों को संबल देने की प्रार्थना करता हूं। आपको सदैव कुशल प्रशासक और मृदुभाषिणी के रूप में याद किया जाएगा।
 
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षितजी के निधन के बारे में जानकर स्तब्ध और दु:खी हूं। उनके परिवार और समर्थकों के प्रति शोक-संवेदना। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) प्रमुख शरद पवार ने कहा कि दीक्षित के निधन के बारे में जानकर गहरा धक्का लगा है।
 
पवार ने ट्वीट किया कि राष्ट्रीय राजधानी मुख्यमंत्री के तौर पर उनके कार्यकाल को हमेशा याद रखा जाएगा। हमने वरिष्ठ कांग्रेसी नेता और कुशल प्रशासक को खो दिया है। उनके परिवार के सदस्यों के प्रति मेरी गहरी संवेदना है। महाराष्ट्र कांग्रेस प्रमुख बालासाहेब थोराट ने दीक्षित के निधन को बहुत दु:खद बताया।
 
केरल के राज्यपाल पी. सदाशिवम और मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने दीक्षित के निधन पर शोक जताया। दीक्षित केरल की राज्यपाल रही थीं। मुख्यमंत्री विजयन ने अपने संदेश में कहा कि दीक्षित के निधन के बारे में जानकर उन्हें गहरा धक्का लगा है। (भाषा)

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख तेलंगाना में अब ड्रोन से सप्लाई होंगी दवाइयां