3 दिनों में सुरक्षाबलों ने 3 टॉप कमांडरों सहित 10 आतंकियों को किया ढेर

सुरेश डुग्गर

शुक्रवार, 19 अक्टूबर 2018 (17:22 IST)
श्रीनगर। सुरक्षाबलों ने पिछले 3 दिनों में 10 आतंकियों को मार गिराया है। इनमें से दो को आज सुबह, 4 को कल रात को तथा परसों भी चार आतंकी मार गिराए गए थे। मारे गए 10 आतंकियों में 3 टॉप के कमांडर के थे। उत्तरी कश्मीर के बारामुल्ला में शुक्रवार को सुरक्षाबलों ने एक मुठभेड़ में दो आतंकियों को मार गिराया।


फिलहाल उनके अन्य साथियों को पकड़ने के लिए सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके की घेराबंदी कर तलाशी अभियान चलाया है। जानकारी के अनुसार बारामुल्ला के करालहार इलाके में पुलिस के जवानों ने सेना व सीआरपीएफ के जवानों के साथ मिलकर एक संयुक्त नाका लगा रखा था।

इसी दौरान वहां से गुजर रहे संदिग्ध तत्वों को देखते हुए सुरक्षाबलों ने जैसे ही रुकने का संकेत किया, उन्होंने फायरिंग कर दी। जवानों ने खुद को बचाते हुए जवाबी फायर किया। इसके बाद वहां मुठभेड़ तेज हो गई। करीब 15 मिनट की मुठभेड़ में दो आतंकी मारे गए, लेकिन उनके अन्य साथी वहां से भाग निकले।

डीजीपी दिलबाग सिंह ने बताया कि यह आतंकी हमला नहीं था। पुलिस नाकेबंदी कर तलाशी अभियान चला रही थी। इस बीच दो संदिग्ध स्कॉर्पियो कार में आते हैं, जिन्हें रोककर आईडी कार्ड मांगा तो इनमें से एक ने पुलिस पर गोली चलाने की कोशिश की, लेकिन उससे पहले ही उसे मौके पर ही मार दिया गया। दूसरे ने भागने की कोशिश की, लेकिन उसे भी मार गिराया गया। मारे गए आतंकियों से दो एसाल्ट राइफलें, दो चाइनीज पिस्तौल व अन्य साजो-सामान भी मिला है।

इतना जरूर था कि बुधवार से लेकर शुक्रवार तक 3 दिनों में सुरक्षाबलों ने आतंकियों के खिलाफ अभियान चलाकर कुल 10 आतंकी मार गिराए। इसमें फतेहकदल में लश्कर के टॉप कमांडर मेहराजुद्दीन बांगरू समेत तीन आतंकियों को बुधवार को, वहीं गुरुवार सुबह पुलवामा में सुरक्षा बलों ने तहरीक-ए-मुजाहिदीन संगठन के आतंकवादी अहमद भट्ट को मार गिराया। उधर देर रात उत्तरी कश्मीर के बारामुला जिले के बोनियार जंगल क्षेत्र में सेना ने घुसपैठ की कोशिश को नाकाम किया। सेना के अनुसार इस दौरान हुई मुठभेड़ के दौरान चार आतंकियों को ढेर कर दिया गया।
 
कल रात को उत्तरी कश्मीर के उड़ी सेक्टर में एलओसी पर घुसपैठ के प्रयास को नाकाम बनाते हुए चार आतंकियों को मार गिराया। मारे गए चारों आतंकियों के पाकिस्तानी होने की संभावना जताई जा रही है। सेना ने मुठभेड़ स्थल और उसके साथ सटे इलाकों में एहतियातन सघन तलाशी अभियान चला रखा है।

जानकारी के अनुसार उड़ी सेक्टर के अंतर्गत बोनियार सब-सेक्टर में टुरना अग्रिम चौकी के साथ सटे जंगल में सेना की 5 ग्रेनेडियर्स के जवानों ने घुसपैठियों के एक दल को भारतीय इलाके में देखा। जवानों ने आसपास की सभी चौकियों को सूचित करते हुए घुसपैठियों को ललकारा। इस पर उन्होंन अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी।

बताया जाता है कि घुसपैठिए दो अलग-अलग गुटों में बंट गए और फायरिंग कर वापस भागने लगे। जवानों ने उनका पीछा करते हुए जवाबी कार्रवाई कर उन्हें मुठभेड़ में उलझा लिया। यह मुठभेड़ सुबह साढ़े 8 बजे शुरू हुई और पहले दो घंटों के दौरान दोनों तरफ से भीषण गोलियां चलती रहीं। इसके बाद अगले दो घंटों तक आतंकियों की तरफ से गोलीबारी की तीव्रता कम रही और वह बीच-बीच में गोली चलाने लगे। दोपहर 1 बजे तक आतंकियों की तरफ से गोलीबारी पूरी तरह बंद हो गई।

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया ने बताया कि उड़ी सेक्टर में घुसपैठ का प्रयास नाकाम बनाते हुए चार आतंकी मार गिराए गए हैं। ये चारों आतंकी विदेशी हो सकते हैं। इनके पास से भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद भी मिला है। उन्होंने बताया कि मारे गए आतंकियों के कुछ और साथी वहां हो सकते हैं, इसलिए बोनियार के अग्रिम इलाकों में सघन तलाशी अभियान को जारी रखा हुआ।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING