भारत ने पाक सेना के 7 कमांडो को किया ढेर, और हमलों की आशंका

सुरेश डुग्गर

शनिवार, 3 अगस्त 2019 (21:22 IST)
जम्मू। सतर्क भारतीय सेना के जवानों ने पाकिस्तान की बॉर्डर एक्शन टीम (बैट) कह लीजिए या फिर पाक सेना के स्पेशल सर्विस ग्रुप के कमांडो के नापाक मंसूबों को नेस्तनाबूद कर दिया है।
 
जम्मू-कश्मीर के एलओसी से सटे केरन सेक्टर में भारतीय सेना ने बैट के हमले की कोशिश को नाकामयाब करते हुए 7 बैट कमांडो को मार गिराया। दरअसल, पिछले कुछ दिनों से पाकिस्तान भारतीय सेना पर बड़े हमले की फिराक में था। बताया जा रहा है कि 31 जुलाई को बैट की टुकड़ी घने जंगलों का फायदा उठाकर भारतीय सीमा में घुसने की फिराक में थी।
 
जानकारी के मुताबिक बैट की एक टुकड़ी ने एलओसी से सटे केरन सेक्टर की ओर बढ़ने का प्रयास किया, उनके निशाने पर भारतीय सेना की अग्रिम चौकी थी। उन्हें भारतीय सीमा में प्रवेश कराने के लिए पाकिस्तान पोस्ट की ओर से लगातार कवर फायरिंग की जा रही थी। हालांकि सेना उनके नापाक मंसूबों को भाप गई और उनको मुंह की खानी पड़ी।
 
बताया जा रहा है कि रात को बैट कमांडो ने एलओसी के पास घने जंगल के रास्ते से भारतीय सीमा में घुसने का प्रयास किया। उधर, उनकी मदद के लिए उच्च क्षमता वाले हथियारों से पाकिस्तानी सैनिक लगातार कवर फायरिंग कर रहे थे।
सेना से मिली जानकारी में बताया गया कि घुसपैठियों ने जिस तरह की पोशाक पहन रखी थी, वह पाकिस्तान की सेना की नियमित वर्दी जैसी थी। उनके पास से पाकिस्तान के चिह्नों वाला सामान बरामद हुआ था। कुछ घुसपैठियों को बीएसएफ और पुराने पैटर्न वाली आइए ड्रेस में भी देखा गया। बरामद की गई चीजों से यह अंदेशा लगाया जा रहा है कि उनका इरादा भारतीय सेना पर भीषण हमला करने का था।
 
सेना के बकौल, पाक कमांडो के शव एलओसी पर पड़े हुए हैं क्योंकि पाक सेना फिलहाल जबरदस्त गोलाबारी कर रही थी। वह पुंछ के बालाकोट में तोपखानों से गोले बरसा रही थी।
 
 कौन है पाकिस्तान की खूनी टुकड़ी बैट
- बैट अर्थात बॉर्डर एक्शन टीम कह लीजिए या फिर बॉर्डर रेडर्स, एलओसी पर छापामार युद्ध में माहिर है।
- ये पाकिस्तान सेना की स्पेशल सर्विस ग्रुप के साथ काम करती है।
- पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई इसे सूचनाएं मुहैया करवाती है।
- बैट एलओसी या सीमा पर दुश्मन के इलाके में एक से तीन किमी अंदर जाकर हमले करती है।
- चार हफ्ते हवाई युद्ध के साथ ही इनकी कुल ट्रेनिंग करीब 8 महीनों की होती है।
- इस टीम का मकसद सीमा पार जाकर छोटे-छोटे हमलों को अंजाम देकर दुश्मन में दहशत फैलाना है। हमलों के दौरान बैट इनाम के तौर पर दुश्मन के सिपाहियों का सिर काटकर अपने साथ ले जाती है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख भारतीय सेना की बड़ी कार्रवाई, पीओके के अंदर घुसकर आतंकी ठिकानों को किया तबाह