Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia

आज के शुभ मुहूर्त

(विनायकी चतुर्थी)
  • शुभ समय-9:11 से 12:21, 1:56 से 3:32 तक
  • शुभ विवाह मुहूर्त- 09:34 पी एम से 28 नवंबर 06:54 ए एम तक।
  • व्रत/मुहूर्त-सर्वार्थसिद्धि योग/अमृतयोग/विनायकी चतुर्थी
  • राहुकाल- सायं 4:30 से 6:00 बजे तक
  • शुभ वाहन क्रय मुहूर्त- 10:29 ए एम से 06:55 से 29 नवंबर ए एम तक।
webdunia
Advertiesment

नवरात्रि 2022 : मां कात्यायनी कौन हैं? कैसा है उनका स्वरूप और क्या चढ़ाएं प्रसाद?

हमें फॉलो करें webdunia
चंद्रहासोज्ज्वलकरा शार्दूलवरवाहना।
कात्यायनी शुभं दद्याद्देवी दानवघातिनी॥
 
मां कात्यायनी मां दुर्गा की छठवीं शक्ति हैं। नवरात्रि में छठे दिन मां कात्यायनी की पूजा (Goddess Katyayani) की जाती है। उसके रोग, शोक, संताप और भय नष्ट हो जाते हैं। जन्मों के समस्त पाप भी नष्ट हो जाते हैं। इस देवी को नवरात्रि में छठे दिन पूजा जाता है। 
 
कात्य गोत्र में विश्वप्रसिद्ध महर्षि कात्यायन ने भगवती पराम्बा की उपासना की। कठिन तपस्या की। उनकी इच्छा थी कि उन्हें पुत्री प्राप्त हो। मां भगवती ने उनके घर पुत्री के रूप में जन्म लिया। इसलिए यह देवी कात्यायनी कहलाईं। 
 
मां कात्यायनी अमोघ फलदायिनी हैं। इनका स्वरूप अत्यंत भव्य और दिव्य है। ये स्वर्ण के समान चमकीली हैं और भास्वर हैं। इनका गुण शोधकार्य है। इसीलिए इस वैज्ञानिक युग में कात्यायनी का महत्व सर्वाधिक हो जाता है। इनकी कृपा से ही सारे कार्य पूरे जो जाते हैं। ये वैद्यनाथ नामक स्थान पर प्रकट होकर पूजी गईं। 
 
भगवान कृष्ण को पति रूप में पाने के लिए ब्रज की गोपियों ने इन्हीं की पूजा की थी। यह पूजा कालिंदी यमुना के तट पर की गई थी। इसीलिए ये ब्रजमंडल की अधिष्ठात्री देवी के रूप में प्रतिष्ठित हैं। 
 
इनकी चार भुजाएं हैं। दाईं तरफ का ऊपर वाला हाथ अभयमुद्रा में है तथा नीचे वाला हाथ वर मुद्रा में। मां के बाईं तरफ के ऊपर वाले हाथ में तलवार है व नीचे वाले हाथ में कमल का फूल सुशोभित है। इनका वाहन भी सिंह है। 
 
कहा जाता है कि इस देवी की उपासना करने से परम पद की प्राप्ति होती है। इनकी उपासना और आराधना से भक्तों को बड़ी आसानी से अर्थ, धर्म, काम और मोक्ष चारों फलों की प्राप्ति होती है। भक्तों के रोग, शोक, संताप और भय नष्ट हो जाते हैं। जन्मों के समस्त पाप भी नष्ट हो जाते हैं। 
 
देवी का प्रसाद/ भोग- कात्यायनी की साधना एवं भक्ति करने वालों को मां की प्रसन्नता के लिए शहद युक्त पान अर्पित करना चाहिए। या फिर शहद का अलग से भोग भी लगा सकते हैं।


Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

ललितादेवी मंदिर : प्रयागराज उत्तरप्रदेश में स्थित है यह चमत्कारी 19वां शक्तिपीठ