Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia

आज के शुभ मुहूर्त

(अष्टमी तिथि)
  • तिथि- ज्येष्ठ शुक्ल अष्टमी
  • शुभ समय- 7:30 से 10:45, 12:20 से 2:00 तक
  • व्रत/मुहूर्त-भद्रा/व्यापार मुहूर्त
  • राहुकाल-प्रात: 10:30 से 12:00 बजे तक
webdunia

नवरात्रि अष्टमी पूजा और हवन के शुभ मुहूर्त के साथ जानें 3 खास उपाय

हमें फॉलो करें mahagauri devi images

WD Feature Desk

, सोमवार, 15 अप्रैल 2024 (18:46 IST)
Chaitra Navratri ashtami Havan Puja Muhurat 2024: चैत्र नवरात्रि की अष्टमी तिथि का खास महत्व माना गया है। अधिकांश घरों में इस दिन नवरात्रि के व्रत की पूजा और पारण होता है और इसी दिन हवन भी होता है। 16 अप्रैल 2024 मंगलवार को अष्टमी के दिन माँ महागौरी की पूजा होगी। जानें पूजा और हवन के शुभ मुहूर्त के साथ 5 खास उपाय। 
अष्टमी तिथि प्रारम्भ- 15 अप्रैल 2024 को दोपहर 12:11 से
अष्टमी तिथि समाप्त- 16 अप्रैल 2024 को 01:23 तक।
उदयातिथि के अनुसार 16 अप्रैल को अष्टमी रहेगी।
 
अष्टमी अभिजीत हवन मुहूर्त : 16 अप्रैल 2024 सुबह 11:55 से दोपहर 12:47 तक। इस मुहूर्त में अष्टमी का हवन कर सकते हैं।
अष्टमी पर महागौरी की पूजा का मुहूर्त : 
चैत्र नवरात्रि अष्टमी के शुभ मुहूर्त
प्रातः सन्ध्या : सुबह 04:48 से 05:54 तक।
संधि पूजा मुहूर्त : दोपहर 12:59 से 01:47 तक।
विजय मुहूर्त : दोपहर 02:30 से 03:21 तक।
गोधूलि मुहूर्त : शाम 06:46 पी एम से 07:09 तक।
1. कन्या भोज : जब व्रत के समापन पर उद्यापन किया जाता है तब कन्या भोज कराया जाता है। अष्‍टमी पर 9 कन्याओं को भोजन कराने के बाद छोटी कन्याओं को छोटे-छोटे पर्स में दक्षिणा रखकर लाल रंग के किसी भी गिफ्ट के साथ भेंट करें।
 
2. शनि मुक्ति के लिए करें पूजा : अष्टमी और नवमी तिथि पर शनि का भी प्रभाव रहता है। इस दिन माता की अच्छे से आराधना करने से शनि के प्रभाव से माता रक्षा करती हैं।
 
3. संधि पूजा : इस दिन माता रानी की प्रात: आरती, दोपहर आरती, संध्या आरती और संधि आरती करते हैं। संधि आरती अष्टमी तिथि के समापन और नवमी के प्रारंभ के समय करते हैं।


Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Chaitra Navratri 2024: नवरात्रि की नवमी पूजा और हवन के शुभ मुहूर्त, कन्या पूजन की विधि