Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia

आज के शुभ मुहूर्त

(भीष्माष्टमी)
  • शुभ समय-9:11 से 12:21, 1:56 से 3:32
  • राहुकाल- सायं 4:30 से 6:00 बजे तक
  • तिथि- माघ शुक्ल अष्टमी
  • व्रत/मुहूर्त-भीष्माष्टमी, भीष्म तर्पण, विश्व कुष्ठ उन्मूलन दि.
  • यात्रा शकुन-इलायची खाकर यात्रा प्रारंभ करें।
webdunia
Advertiesment

महाष्टमी 2021 : दुर्गा अष्टमी की पूजा कब होगी, जानिए शुभ योग और मुहूर्त

हमें फॉलो करें webdunia
सोमवार, 11 अक्टूबर 2021 (06:27 IST)
शारदीय नवरात्र‍ि का पर्व चल रहा है। इस पर्व पर माता दुर्गा की सप्तमी, अष्टमी और नवमी पर विशेष पूजा होती है। हालांकि जिस घर में जैसी परंपरा होती है उस अनुसार पूजन होता है। जैसे अधिकतर घरों में अष्टमी का पूजन होता है। नवमी को कन्या भोज होता है और इसी दिन विसर्जन होता है। आओ जानते हैं कि अष्टमी पूजा के क्या है खास मुहूर्त।
 
 
1. अष्टमी तिथि : यह तिथि अश्विन मास शुक्ल पक्ष अर्थात 12 अक्टूबर 2021 दिन मंगलवार को रात 09 बजकर 49 मिनट 38 सेकंड से प्रारंभ होकर 13 अक्टूबर 2021 दिन बुधवार को रात 08 बजकर 09 मिनट और 56 सेकंड पर समाप्त होगी। अत: अष्टमी का पूजन 13 अक्टूबर 2021, दिन बुधवार को किया जाएगा।
 
2. सुकर्मा योग : इस दिन सुकर्मा योग 6 बजकर 9 मिनट से सुबह प्रारंभ होगा 14 अक्टूबर 3 बजकर 47 मिनट तड़के तक रहेगा। इसके बाद धृति योग प्रारंभ होगा। जैसा कि नाम से ही विदित होता है कि इस योग में कोई शुभ कार्य करना चाहिए। मान्यता अनुसार इस योग में नई नौकरी ज्वाइन करें या घर में कोई धार्मिक कार्य का आयोजन करें। इस योग में किए गए कार्यों में किसी भी प्रकार की बाधा नहीं आती है और कार्य शुभफलदायक होता है। ईश्वर का नाम लेने या सत्कर्म करने के लिए यह सुकर्मा योग अति उत्तम है।
 
पूजा के मुहूर्त : अमृत काल- 03:23 AM से 04:56 AM है और ब्रह्म मुहूर्त– 04:48 AM से 05:36 AM तक है।
 
दिन का चौघड़िया :
लाभ – 06:26 AM से 07:53 PM तक।
अमृत – 07:53 AM से 09:20 PM तक।
शुभ – 10:46 AM से 12:13 PM तक।
लाभ – 16:32 AM से 17:59 PM तक।
 
रात का चौघड़िया :
शुभ – 19:32 PM से 21:06 PM तक।
अमृत – 21:06 PM से 22:39 PM तक।
लाभ (काल रात्रि) – 03:20 PM से 04:53 PM तक।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Mandir Mystery : 600 साल पुराने करणी माता के मंदिर का ये रहस्य आप नहीं जानते होंगे